होम /न्यूज /मनोरंजन /लॉउडस्पीकर पर अज़ान को लेकर जावेद अख्तर ने दिया बयान, जमकर हुए ट्रोल तो दी ये सफाई

लॉउडस्पीकर पर अज़ान को लेकर जावेद अख्तर ने दिया बयान, जमकर हुए ट्रोल तो दी ये सफाई

जावेद अख्तर ने करीब 1 महीने पहले अज़ान पर ट्वीट किया था.

जावेद अख्तर ने करीब 1 महीने पहले अज़ान पर ट्वीट किया था.

इस ट्वीट में जावेद अख्तर (Javed Akhtar) का कहना था कि, लाउडस्पीकर पर अज़ान (Azaan on Loudspeaker) देने का चलन बंद किया ...अधिक पढ़ें

    मुंबई : बॉलीवुड के मशहूर गीतकार जावेद अख्तर (Javed Akhtar) ने बीते शनिवार को एक ऐसी बात कह दी, जिसे लेकर अब वह ट्रोलर्स के निशाने पर आ गए हैं. दरअसल, जावेद अख्तर ने लाउडस्पीकर पर अज़ान देने पर एक ट्वीट किया था. जिसमें उनका कहना था कि, लाउडस्पीकर पर अज़ान (Azaan on Loudspeaker) देने का चलन बंद किया जाना चाहिए, क्योंकि इससे दूसरों को 'असुविधा' होती है. जावेद अख्तर के मुताबिक, अज़ान मजहब का अभिन्न हिस्सा है, लाउडस्पीकर का नहीं. ऐसे में अब अपने ट्वीट को लेकर जावेद अख्तर ट्रोलर्स के निशाने पर आग गए हैं.

    दरअसल, शनिवार को किए एक ट्वीट में जावेद अख्तर ने लिखा कि, 'भारत में करीब 50 साल तक लाउडस्पीकर पर अज़ान देना हराम था. फिर यह हलाल इजाजत कैसे हो गया और इतना हलाल कि इसका कोई अंत नहीं है, लेकिन यह खत्म होना चाहिए. अज़ान ठीक है, लेकिन लाउडस्पीकर पर अज़ान देने से दूसरों को असुविधा होती है. मुझे उम्मीद है कि कम से कम इस बार वे खुद इसे करेंगे.'




    जावेद अख्तर के इस ट्वीट के बाद अब वह ट्रोल हो रहे हैं. लोग लगातार उनके इस ट्वीट पर आपत्ति जता रहे हैं. एक यूजर ने जावेद अख्तर के ट्वीट पर आपत्ति जताते हुए लिखा, 'मैं आपके इस विचार का समर्थन नहीं करता. कृपया इस तरह के कमेंट पास ना करें, जो इस्लामिक विचारधारा को ठेस पहुंचाते हैं. जिंदगी में सही राह पर चलने के लिए अज़ान प्रार्थना का सबसे सही तरीका है.' वहीं एक अन्य ने लिखा, 'सर तबीयत तो ठीक है ना आपकी.'





    वहीं कुछ लोगों ने इसे 2017 में सोनू निगम के अज़ान विवाद से जोड़ दिया, जो हाल ही में फिर से विवादों में रहा था. एक यूजर ने जावेद अख्तर के ट्वीट पर कमेंट करते हुए लिखा है, 'जावेद अख्तर जी कहीं आपका फोन सोनू निगम तो इस्तेमाल नहीं कर रहे.' बता दें करीब तीन साल पहले सोनू निगम ने भी लाउडस्पीकर पर अज़ान देने के नियम पर सवाल उठाते हुए इसे बंद किए जाने की मांग की थी. जिसके बाद उन्हें भारी विरोध का सामना करना पड़ा था.





    सोशल मीडिया पर इस तरह की प्रतिक्रिया को देखते हुए जावेद अख्तर ने अपनी सफाई में एक दूसरा ट्वीट किया है, जिसमें उन्होंने लिखा, 'चाहे मंदिर हों या मस्जिद, अगर आप किसी त्यौहार पर लाउडस्पीकर का इस्तेमाल कर रहे हैं तो ठीक है, लेकिन इसका इस्तेमाल मंदिर या मस्जिद में रोजाना नहीं होना चाहिए.' करीब एक हजार साल से अधिक समय से अज़ान बिना लाउडस्पीकर के दी जा रही है. अज़ान आपके मजहब का अभिन्न हिस्सा है, किसी गैजेट का नहीं.'



    बता दें इससे पहले मार्च में भी जावेद अख्तर ने कोरोना वायरस महामारी के दौरान मस्जिदों को बंद करने का समर्थन किया था और कहा था कि महामारी के दौरान काबा और मदीना तक बंद हैं. ऐसे में उन्होंने सभी मुस्लिमों से रमजान के महीने में घर में ही नमाज़ पढ़ने की अपील की थी.

    ये भी पढ़ेंः शाहरुख खान का फैंस को खास तोहफा, पूरा करिए ये टास्क, 3 विजेताओं को SRK खुद करेंगे Video Call
    Mother's Day 2020: ये हैं बॉलीवुड की पॉपुलर फन लविंग 'मां', जो रोती हुई माओं पर पड़ गईं भारी

    Tags: Bollywood, Entertainment, Javed akhtar, Social media

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें