जॉन अब्राहम ने OTT पर रिलीज होने वाली फिल्मों को बताया था 'बेकार', अब दी सफाई

अभिनेता जॉन अब्राहम ने बांबे स्‍कॉटिक स्कूल से पढ़ाई की है. इसके बाद उन्‍होंने जय हिंद कॉलेज इकोनॉमिक्स में स्नातक किया है. इसके साथ ही उनके पास MBA की डिग्री भी है. (फोटो साभारः News 18)

अभिनेता जॉन अब्राहम ने बांबे स्‍कॉटिक स्कूल से पढ़ाई की है. इसके बाद उन्‍होंने जय हिंद कॉलेज इकोनॉमिक्स में स्नातक किया है. इसके साथ ही उनके पास MBA की डिग्री भी है. (फोटो साभारः News 18)

जॉन अब्राहम (John Abraham) ने कुछ दिन पहले एक इंटरव्यू में था कि ऑनलाइन स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म पर रिलीज होने वाली 90 प्रतिशत फिल्में खराब होती हैं. अब अभिनेता ने अपने बयान पर सफाई दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 20, 2021, 10:42 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: लॉकडाउन में पूरी तरह बंद रहने के बाद स‍िनेमा इंडस्‍ट्री एक बार फिर धीरे-धीरे बड़े पर्दे पर वापसी कर रही हैं. प‍िछले हफ्ते 'रूही' के बाद आज जॉन अब्राहम (John Abraham) और इमरान हाशमी (Emraan Hashmi) की फिल्‍म 'मुंबई सागा' (Mumbai Saga) स‍िनेमाघरों में र‍िलीज हो गई है. जॉन ने कुछ दिन पहले एक इंटरव्यू में था कि ऑनलाइन स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म पर रिलीज होने वाली 90 प्रतिशत फिल्में खराब होती हैं. अब अभिनेता ने अपने बयान पर सफाई दी है.

जॉन अब्राहम (John Abraham) ने बॉलीवुड हंगामा को दिए इंटरव्यू में अपनी बात रखते हुए कहा कि उनके स्टेटमेंट को गलत तरीके से पेश किया गया. एक्टर ने कहा कि वह इस बात से खुश नहीं हैं. जॉन के कहा, 'मुझे लगता है कि मेरा बयान गलत तरीके से पेश किया गया. मुझे कभी-कभी बहुत बुरा लगता है जब चीजें संदर्भ से बाहर कर दी जाती हैं. मुझे लगता है कि ओटीटी एक आशीर्वाद है, लेकिन मुझे लगता है कि मुंबई सागा एक सिनेमाई अनुभव करने वाली फिल्म है. इमरान और मैंने उस समय भी चर्चा की थी जब हमने फिल्म देखी थी कि यह फिल्म बड़े पर्दे पर रिलीज होनी चाहिए कहीं और नहीं. भूषण कुमार और संजय गुप्ता को धन्यवाद कि यह बड़े पर्दे पर रिलीज हुई.'

जॉन अब्राहम ने आगे कहा, 'मैंने कहा था कि हमारी फिल्में एक सिनेमाई अनुभव के लिए बनी है, हमें इस फिल्म को बड़े पर्दे पर लाना चाहिए. फिल्मों कि लिए पहली खिड़की ओटीटी प्लेटफार्म है. क्या मुझे नेटफ्लिक्स, अमेज़ॅन, जियो, हॉटस्टार से प्यार है? हां, पूरी तरह से. मुझे लगता है कि वे हमें इतना अधिक मौका प्रदान करते हैं जिससे हम विश्वसनीय कंटेंट बना सके.'

याद दिला दें कि इससे पहले मिड डे को दिए इंटरव्यू में जॉन ने कहा था, 'ईमानदारी से कहूं तो इंडस्‍ट्री में ऐसी धारणा है कि अगर एक ऐक्‍टर फिल्‍म को लेकर कॉन्‍फिडेंट नहीं है तो उसे ओटीटी पर ढेर कर देना है. करीब 90 पर्सेंट फिल्‍में जो ओटीटी पर रिलीज होने के लिए तय की गईं, वे बेकार थीं. मैं यह नहीं कह रहा हूं कि मेरी फिल्‍म बहुत शानदार है लेकिन हमें इसके फेल होने की चिंता नहीं है. मैं महामारी का इस्‍तेमाल बैसाखी के रूप में नहीं करूंगा.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज