• Home
  • »
  • News
  • »
  • entertainment
  • »
  • Death Anniversary: बदरुद्दीन से जॉनी वॉकर बनने का सफर, जब उनका अंदाज देख बलराज साहनी को आया था मजा

Death Anniversary: बदरुद्दीन से जॉनी वॉकर बनने का सफर, जब उनका अंदाज देख बलराज साहनी को आया था मजा

जॉनी वॉकर का निधन 29 जुलाई को हुआ था. (फोटो साभार: Film History Pics/Twittter)

जॉनी वॉकर का निधन 29 जुलाई को हुआ था. (फोटो साभार: Film History Pics/Twittter)

लड़खड़ाती आवाज, लड़खड़ाते कदम और टेढ़ी-मेढ़ी आंखों वाले जॉनी वॉकर (Jonny Walker) को स्क्रीन पर देखते ही लोग हंसने लगते थे. अपने जबरदस्त कॉमिक अंदाज से सबको हंसाने वाले मशहूर कॉमेडियन ने कभी शराब नहीं पी.

  • Share this:

    मुंबई: 50-60 के दशक में फिल्म इंडस्ट्री के मशहूर कॉमेडियन जॉनी वॉकर (Jonny Walker) का असली नाम बदरुद्दीन जमालुद्दीन काजी (Badruddin Jamaluddin Kazi) था. लंबे समय तक दर्शकों को हंसा-हंसा कर लोट-पोट करने वाले जॉनी 29 जुलाई 2003 को सबको रुलाते हुए दुनिया से चले गए. कहते हैं कि रुलाना किसी को आसान होता है लेकिन रोते हुए को हंसाना काफी मुश्किल. लेकिन जॉनी वॉकर की अदा कुछ ऐसी थी कि उन्हें देख कर ही लोगों को हंसी आने लगती थी. करीब 300 फिल्मों में काम करने वाले बदरुद्दीन का जॉनी वॉकर बनने का सफर भी कुछ फिल्मी नहीं है.

    11 नवंबर 1926 में मध्य प्रदेश के इंदौर में जन्में बदरुद्दीन जमालुद्दीन काजी के पिता इंदौर की एक फैक्ट्री में मजदूरी किया करते थे. बदरुद्दीन भी अपने पिता का हाथ बंटाते थे,लेकिन किसी वजह से फैक्ट्री बंद हो गई. परिवार का गुजारा चलाना मुश्किल हो गया तो पूरा परिवार इंदौर से मुंबई आ गया. बदरुद्दीन के पिता की जान-पहचान वाले एक पुलिस इंस्पेक्टर की सिफारिश पर उन्हें बस कंडक्टर की नौकरी मिल गई. कहते हैं कि मायानगरी ने कई लोगों की किस्मत बदली है. इन्हीं में से एक जॉनी वॉकर भी थे. बस कंडक्टर बदरुद्दीन अपने अनोखे अंदाज में टिकट काटते और सवारियों का मनोरंजन करते थे. उन्हें देख उस जमाने के मशहूर एक्टर बलराज साहनी को मजा आ गया.

    इन्हीं दिनों गुरु दत्त अपनी फिल्म ‘बाजी’ की तैयारी में जुटे थे. उन्हें एक कैरेक्टर के लिए एक्टर की तलाश थी. बलराज ने गुरु दत्त से बस कंडक्टर का जिक्र किया. गुरु जब उनसे मिले और शराबी की एक्टिंग करवा कर देखी तो उन्हें बेहद पसंद आई. इस तरह उन्हें ‘बाजी’ फिल्म में काम मिल गया. इस फिल्म में देव आनंद और गीता बाली लीड रोल में थीं. बदरुद्दीन नाम कुछ जम नहीं रहा था तो कहते हैं कि गुरु दत्त ने फेमस व्हिस्की ब्रांड के नाम पर जॉनी वॉकर का नाम रख दिया. कहते हैं कि जॉनी को गुरु दत्त इतना पसंद करते थे कि अपनी फिल्मों में खास तौर पर उनके लिए रोल रखा करते थे.

    यह भी पढ़िए-HBD Sanjay Dutt: हौसला देती है संजय दत्त की लाइफ, हर मुश्किल को मात दे विजयी हुए संजू बाबा

    जॉनी वॉकर जब शराब के नशे में धुत कैरेक्टर का रोल प्ले करते थे तो उन्हें स्क्रीन पर देख कर हर किसी को लगता था कि शराब पी कर रोल कर रहे हैं. जबकि असलियत यह थी कि जॉनी वॉकर ने कभी भी शराब को हाथ नहीं लगाया था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज