एसपी बालासुब्रमण्यम की हालत नाजुक, स्वास्थ्य का जायजा लेने अस्पताल पहुंचे कमल हासन

एसपी बालासुब्रमण्यम से मिलने अस्पताल पहुंचे कमल हासन.
एसपी बालासुब्रमण्यम से मिलने अस्पताल पहुंचे कमल हासन.

बताया जा रहा है कि एस पी बालासुब्रमण्यम (SP Balasubramanian) की हालत काफी गंभीर है. जिसके चलते अब उनके लिए दुआओं का दौर शुरू हो गया है. इस बीच गायक के करीबी दोस्त और एक्टर कमल हासन (Kamal Haasan) उनसे मिलने अस्पताल पहुंचे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 25, 2020, 1:21 PM IST
  • Share this:
मुंबईः अस्पताल में भर्ती लोकप्रिय पार्श्व गायक एस पी बालासुब्रमण्यम (SP Balasubramanian) की हालत इन दिनों बेहद नाजुक बनी हुई है. एसपी बालासुब्रमण्यम को कोरोना (Coronaviurs) के इलाज के लिए अगस्त माह में अस्पताल में भर्ती कराया गया था. जहां लंबे इलाज के बाद उनकी कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आई, लेकिन उनकी हालत में कोई खास सुधार नहीं हो सका. जिसके चलते उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम (SP Balasubramanian on Life Support System) पर रखा गया था. लेकिन, अब बताया जा रहा है कि उनकी हालत काफी गंभीर है. जिसके चलते अब एसपी बालासुब्रमण्मयम के लिए दुआओं का दौर जारी है. इस बीच गायक के करीबी दोस्त और एक्टर कमल हासन (Kamal Haasan) उनसे मिलने अस्पताल पहुंचे.

कमल हासन ने अस्पताल पहुंचकर एसपी बालासुब्रमण्यम की सेहत का जायजा लिया और उनसे मुलाकात की. गौरतलब है कि बीते 24 घंटों से उनकी हालत नाजुक बनी हुई है. ऐसे में हाल ही में चेन्नई के एमजीएएम हेल्थकेयर द्वारा एसपी बालासुब्रमण्यम का हेल्थ बुलेटिन जारी किया गया, जिसमें बताया गया कि उनकी हालत बीते कुछ समय से ज्यादा गंभीर हो गई है. उन्हें पहले से ही लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है. हाल ही में उन्होंने खाना खाना और फिजियोथेरिपी को रिस्पॉन्स करना शुरू किया था, लेकिन अब उनकी हालत काफी नाजुक है.

ये भी पढ़ेंः Bigg Boss 14 को फिर होस्ट करने के लिए आखिर क्यों तैयार हुए सलमान खान? खुद बताई वजह



चेन्नई के एमजीएएम हेल्थकेयर द्वारा जारी बुलेटिन में कहा गया है- 'एसपी बालासुब्रमण्यम की हालत काफी गंभीर है. वह लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर हैं. उन्हें 5 अगस्त को अस्पताल में भर्ती कराया गया था और अभी भी वह ईसीएमओ और लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर हैं. बीते 24 घंटों में उनकी हालत पहले से काफी गंभीर हो गई है. जिसके चलते फिलहाल उन्हें वेंटिलेटर पर रखने की ही जरूरत है. अस्पताल के विशेषज्ञों की टीम और उनके करीबी उनकी देखरेख में जुटे हुए हैं.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज