बिक गया कमालिस्तान स्टूडियो, यहीं हुई थी 'पाकीज़ा', 'रज़िया सुल्तान' की शूटिंग

कमाल अमरोही ने साल 1958 में 'कमालिस्तान स्टूडियो' की स्थापना की थी. इस स्टूडियो में 'महल' (1949), 'पाकीजा' (1972) और 'रजिया सुल्तान' (1983) जैसी फिल्मों की शूटिंग हुई.

News18Hindi
Updated: June 12, 2019, 9:17 AM IST
बिक गया कमालिस्तान स्टूडियो, यहीं हुई थी 'पाकीज़ा', 'रज़िया सुल्तान' की शूटिंग
फिल्म 'पाकीज़ा' के एक सीन में मीना कुमारी.
News18Hindi
Updated: June 12, 2019, 9:17 AM IST
आरके स्टूडियो के बाद अब एक और स्टूडियो जल्द हमेशा के लिए गायब हो जाएगा. खबर है कि 60 साल पुराने कमाल अमरोही के 'कमालिस्तान स्टूडियो' की जगह अब एक कमर्शियल प्रॉपर्टी बनेगी. इस ऐतिहासिक स्टूडियो में कई क्लासिक फिल्में बनीं और अब ये सबको अलविदा कहने वाला है.

रिपोर्ट्स की मानें तो मुंबई के जोगेश्वरी इलाके में 15 एकड़ में फैली इस जमीन पर जल्द ही देश का सबसे बड़ा कॉर्पोरेट ऑफिस तैयार किया जाएगा. स्टूडियो को तोड़कर यहां पूरी तरह से नई कंस्ट्रक्शन होगी. बताया जा रहा है कि डीबी रियलिटी और बेंगलुरु की RMZ कॉर्पोरेशन ने मिलकर इस जमीन को नए सिरे से डेवलप करने का फैसला लिया है. यह डेवलपमेंट प्रोजेक्ट करीब 21 हजार करोड़ रुपए का है.



कमाल अमरोही ने साल 1958 में 'कमालिस्तान स्टूडियो' की स्थापना की थी. इस स्टूडियो में 'महल' (1949), 'पाकीजा' (1972) और 'रजिया सुल्तान' (1983) जैसी फिल्मों की शूटिंग हुई. 'अमर अकबर एंथनी' और 'कालिया' जैसी हिट फिल्में भी यहीं शूट हुई हैं.



मुंबई में ये दूसरा ऐतिहासिक स्टूडियो है जिसे बेचा गया है. इससे पहले आरके स्टूडियो की खबर ने सभी को गमगीन किया था. मुंबई के चेंबूर में बने आरके स्टूडियो को गोदरेज प्रॉपर्टीज लिमिटेड ने खरीदा है. रिपोर्ट्स की मानें तो यह स्टूडियो करीब 500 करोड़ रुपए में बिका था. इस स्टूडियो की स्थापना 1948 में की गई थी. यहां 'राम तेरी गंगा मैली', 'प्रेम रोग', 'मेरा नाम जोकर', 'आवारा' जैसी कई महान फिल्में बनीं. इस स्टूडियो की जगह अब एक लग्जरी रिटेल सेंटर बनेगा.

यह भी पढ़ें:

बंदूक चलाती दिखीं श्रद्धा कपूर, नहीं दिखे 'बाहुबली'
Loading...

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...