कंगना रनौत ने ले लिया था एक्टिंग छोड़ने का फैसला, 'Queen' के 7 साल पूरे होने पर किया बड़ा खुलासा

कंगना रनौत की फिल्म 'क्वीन' को रिलीज हुए 7 सात हुए (फोटो साभारः Instagram@kanganaranaut/Twitter@Kangana Ranaut)

कंगना रनौत की फिल्म 'क्वीन' को रिलीज हुए 7 सात हुए (फोटो साभारः Instagram@kanganaranaut/Twitter@Kangana Ranaut)

फिल्म 'क्वीन' (Queen) की रिलीज को सात साल होने के मौके पर कंगना रनौत (Kangana Ranaut) ने कुछ अहम खुलासे किए हैं. कंगना का कहना है कि उन्होंने यह फिल्म पैसों के लिए साइन की थी. वह 'क्वीन' के रिलीज से पहले एक्टिंग छोड़ कर डायरेक्टर बनने के बारे में सोच रही थीं.

  • Share this:
नई दिल्लीः सात साल पहले जब फिल्म 'क्वीन' (Queen) रिलीज हुई थी, तब कंगना रनौत (Kangana Ranaut) की एक्टिंग की खूब तारीफ हुई थी. कंगना ने अपने दम पर फिल्म को सुपरहिट बना दिया था. तब दर्शकों और आलोचकों ने इसे बराबर सराहा था. यह फिल्म कंगना के करियर के लिए एक गेम चेंजर साबित हुई थी. यह फिल्म साबित करती है कि अगर एक्ट्रेस के अभिनय में दम है, तो वह अकेले फिल्म को हिट बना सकती है. हाल में कंगना ने फिल्म को याद कर एक दिलचस्प खुलासा किया है. उन्होंने बताया कि वह 'क्वीन' को लेकर उत्साहित नहीं थीं.

फिल्म 'क्वीन' के सात साल पूरे होने पर कंगना ने अब फिल्म को लेकर कई अहम खुलासे किए हैं. कंगना ने बताया कि यह फिल्म उन्होंने पैसों के लिए साइन की थी. उन्हें फिल्म के सफल होने की उम्मीद नहीं थी. कंगना ने फिल्म को लेकर एक ट्वीट किया है. वह ट्वीट में लिखती हैं, 'दस साल के स्ट्रगल के बाद मुझसे कहा गया कि मैं अच्छी एक्टिंग करती हूं. लेकिन मेरे घुंघराले बाल और आवाज मेरे पक्ष में काम नहीं करते. मैंने यह सोचकर फिल्म 'क्वीन' साइन की थी कि यह कभी रिलीज नहीं होगी. मैंने पैसे के लिए यह फिल्म की थी. उन पैसों से मैं न्यूयॉर्क के फिल्म स्कूल जाना चाहती थी.'

(फोटो साभारः Twitter@Kangana Ranaut)




कंगना आगे कहती हैं, 'मैंने न्यूयॉर्क में स्क्रीन राइटिंग की पढ़ाई की थी और 24 साल की उम्र में शॉ़र्ट फिल्म भी बनाई थी. उसकी वजह से मुझे हॉलीवुड में ब्रेक मिल गया था. मेरा काम देखने के बाद मुझे एक बड़ी कंपनी ने हायर कर लिया था. मैंने तो एक्टिंग के सारे सपने छोड़ दिए थे. इंडिया जाने की हिम्मत ही नहीं हो रही थी.'
(फोटो साभारः Twitter@Kangana Ranaut)


कंगना के जीवन में ये वह समय था, जब वह एक्टिंग में करियर नहीं बनाना चाहती थीं. एक्टिंग से उनका मन उचट गया था. वह तब डायरेक्टर बनना चाहती थीं. लेकिन फिल्म 'क्वीन के रिलीज होने के बाद उनके लिए सबकुछ बदल गया.

फिल्म 'क्वीन' की सफलता से उनके लिए सबकुछ बदल गया था. वह एक ट्वीट में कहती हैं, 'जब मैं सबकुछ छोड़ चुकी थी, तब क्वीन रिलीज हुई और मेरी जिंदगी हमेशा के लिए बदल गई. भारतीय सिनेमा भी बदल गया. इसके बाद वीमन सेंट्रिक फिल्मों का जन्म हुआ.' खैर, बहुत से लोग 'वीमन सेंट्रिक फिल्मों' को लेकर कंगना की राय से इत्तेफाक नहीं रखते. इस पर लंबी बहस हो सकती है. यह सच है कि कंगना ने बेहद शानदार काम किया है, पर कई मौकों पर उनके बड़बोलेपन के चलते लोग उनपर निशाना भी साध चुके हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज