कंगना रनौत ने रिपोर्टर को कहा चिंदी और बिकाऊ

जजमेंटल है क्या के गाने वखरा स्वैग की लॉन्च के मौके पर कंगना की एक रिपोर्टर से बहस हो गई थी. इसके बाद कंगना से माफी की मांग होने लगी और ऐसा ना करने पर उन पर मीडिया बैन लगाने की बात हो रही थी.

News18Hindi
Updated: July 11, 2019, 11:21 AM IST
कंगना रनौत ने रिपोर्टर को कहा चिंदी और बिकाऊ
बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत.
News18Hindi
Updated: July 11, 2019, 11:21 AM IST
'जजमेंटल है क्या' के गाने के लॉन्च के मौके पर रिपोर्टर के साथ हुई गर्मागर्मी के मामले में अब कंगना रनौत ने एक वीडियो जारी किया है. इस वीडियो में कंगना ने कहा, नमस्कार दोस्तों आज मैं आपसे हमारी जो इंडियन मीडिया है उसके बारे में कुछ कहना चाहती हूं. लेकिन मैं ये जरूर कहूंगी कि ऐसा नहीं है हर जगह अच्छे लोगों के साथ में कुछ बुरे लोग भी होते हैं और जो मीडिया है उसने मुझे जितना प्रोत्साहित किया है, प्रेरित किया है, इतने अच्छे सलाहकार, इतने अच्छे दोस्त, जो मुझे मीडिया में मिले हैं. मैं कहूंगी मेरी सफलता में उनका कहीं ना कहीं बहुत बड़ा हाथ है. उसके लिए मैं हमेशा उनकी आभारी रहूंगी.





कंगना ने आगे कहा, लेकिन जो दीमक की तरह एक सेक्शन मीडिया का है जो हमारे देश में दीमक की तरह लगा हुआ है और धीरे धीरे कर उसकी गरिमा को, अस्मिता को, देश की एकता को आए दिन अटैक करता रहता है. आए दिन झूठी अफवाहें फैलाता रहता है. अपने गंदे, भद्दे विचार, देशद्रोहिता के विचार खुलेआम सबके सामने रखते हैं, इनके खिलाफ हमारे संविधान में ना कोई पैनल्टी है ना कोई सजा है. इस चीज से मुझे बहुत ही ज्यादा ठेस लगी और मैंने अपने आप में ये फैसला लिया कि ये जो दोगली मीडिया है जो खुद को लिबरल कहती है, सेक्युलर कहती है. दसवीं फेल भी नहीं हैं ये लोग. ये लोग सूडो लिबरल हैं. ये लोग बिल्कुल भी सेक्युलर नहीं है.



"अगर ये लोग सेक्युलर होते तो हमेशा धार्मिक चीजों को लेकर देश की एकता पर प्रहार नहीं करते. ऐसे ही एक चिंदी से पत्रकार मैं एक दो दिन पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस में मिली. उसी की तरह बहुत सारे लोग हैं जो जितने भी हमारे जो सीरियस इश्यू हैं...वर्ल्ड एन्वायरमेंट डे पर मैंने प्लास्टिक इस्तेमाल के खिलाफ काम किया, उसने इसकी खिल्ली उड़ाई. मैंने जानवरों के प्रति क्रूरता के खिलाफ काम किया उसका मजाक बनाया गया. एक शहीद पर मैंने फिल्म बनाई उसके नाम की खिल्ली उड़ा रहा था. गौरतलब ये है कि इनके पास तर्क-वितर्क, समीक्षा या विचार जो कि एक पत्रकार का हक है. उस तरह से नहीं बल्कि गंदी बातें लिख कर प्रोफेशनल ट्रोल्स जो हैं खुद को, मुफ्त का खाना खाने पहुंच जाते हैं हर जगह प्रेस कॉन्फ्रेंस में. मैं जानना चाहती हूं कि कोई तो क्राइटीरिया होना चाहिए कि आप खुद को जर्नलिस्ट कहें. आप कोई अपना पीस या ब्लॉग मुझे भेजे. जिससे आप कह सकें कि आप जर्नलिस्ट हैं."


Loading...

 




View this post on Instagram




 

would like your attention. This is important. Listen up!


A post shared by Kangana Ranaut (@team_kangana_ranaut) on






उन्होंने कहा, मैंने उस शख्स के सवाल का जवाब देने से इंकार कर दिया. मेरे पास किसी भी तरह के देश द्रोही के लिए ज़ीरो टॉलरेंस हैं. तीन चार लोगों ने मिलकर मेरे खिलाफ एक गिल्ड बनाई है. कल ही बनी है ना ही उसकी कोई मान्यता ही है. ना ही उसकी कोई धारणा है. उस गिल्ड के चलते लोगों ने मुझे धमकी देना शुरू कर दिया है कि मुझे बैन कर देंगे. मुझे कवरेज नहीं देंगे या मेरा करियर बर्बाद कर देंगे. अरे नालायकों, देश द्रोहियों, बिकाऊ लोगों, तुम लोगों को खरीदने के लिए लाखों भी नहीं चाहिएं तुम तो 50-60 रुपए में बिछ जाते हो. तुम जैसे लोग जो जिस थाली में खाते हो उसमें छेद करते हो, वो मेरा करियर क्या बर्बाद करोगे. तुम लोगों के बाप दादाओं को मैंने नाकों चने चबवाए हैं.

यह भी पढ़ें:

कंगना के पंगे पर एकता कपूर ने मांगी माफी, ऐसे किया किनारा
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...