कंगना रनौत ने महिलाओं के लिए शेयर किया वीडियो, बोलीं- 'डरो मत, मार-मारकर चमड़ी निकाल दो'

कंगना रनौत. photo credit: @kanganaranaut/Instagram
कंगना रनौत. photo credit: @kanganaranaut/Instagram

कंगना रनौत (Kangana Ranaut) ने लड़कियों और महिलाओं के लिए एक वीडियो शेयर किया है, जिसमें उन्होंने ये बताने की कोशिश की है कि अगर महिलाएं न डरें तो अकेला आदमी, एक अकेली लड़की पर हावी नहीं हो सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 15, 2020, 9:14 AM IST
  • Share this:
मुंबई. बॉलीवुड (Bollywood) एक्ट्रेस कंगना रनौत (Kangana Ranaut) खबरों में बनीं रहती हैं. सोशल मीडिया पर वह अपनी बेबाकी राय की वजह से लोगों के दिलों में छा जाती हैं. कंगना हर मुद्दे पर अपनी राय रखती हैं. सुशांत केस और फिर इसी केस में ड्रग एंगल सामने आने के बाद उन्होंने बॉलीवुड इंडस्ट्री पर निशाना साधा, बीएमसी के साथ विवाद हो, हाथरस या बलरामपुर में रेप केस कंगना सोशल मीडिया पर अपनी राय रखती गईं. हाल ही में उन्होंने देश की सभी लड़कियों और महिलाओं के लिए एक वीडियो शेयर किया है, जिसमें उन्होंने ये बताने की कोशिश की है कि अगर महिलाएं न डरें तो अकेला आदमी, एक अकेली लड़की पर हावी नहीं हो सकता है.

कंगना रनौत (Kangana Ranaut) ने एक वीडियो शेयर किया है, जिसमें वह एक लड़की लड़के को पीट रही है. उन्होंने ट्वीट कर लिखा- 'मुझे पता नहीं कि हुआ क्या? मगर रोज-रोज बलात्कार, मर्डर, लड़कियों के शोषण की खबरों से इतना परेशान हूं कि मैं चाहती हूं की हर लड़की यह देखें, डरो मत ये देखो और सीखो, अगर कोई डराए तो जानों की एक अकेला आदमी एक अकेली लड़की पे हावी नहीं हो सकता, मार-मार के चमड़ी निकाल दो, बहुत बढ़िया किया लड़की.'





कंगना की इस पोस्ट को लोग काफी पसंद कर रहे हैं. कई यूजर्स कह रहे हैं कि वह अपनी बेटियों के अब ऐसा बनने की ही सलाह दे रहे हैं.
आपको बता दें कि एक यूजर के वीडियो को भी कंगना ने रिट्वीट किया है, जिसमें बॉलीवुड इंडस्ट्री में काम करने वाले सामान्य लोगों के हालातों को बताया गया है. कंगना ने इस ट्वीट को रिट्वीट किया और लिखा- बॉलीवुड के सभी लकड़बग्घों ने मीडिया पर अटैक किया क्योंकि उन्हें कई प्रकार के नामों से बुलाया लेकिन मैं उनसे पूछना चाहती हूं कि आखिर क्यों जब मजदूरों, महिलाओं और स्टंटमैन्स के साथ अन्याय होता है तो वे ऐसी एकता नहीं दिखाते हैं? ये लोग अपने ह्यूमन राइट्स की डिमांड तो करते हैं लेकिन दूसरों के मानवाधिकारों के लिए चुप हो जाते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज