रिलीज से पहले जानिए शकुंतला देवी की कहानी, 31 को देखें अमेजन पर

रिलीज से पहले जानिए शकुंतला देवी की कहानी, 31 को देखें अमेजन पर
विद्या बालन

शकुंतला देवी (Shakuntala Devi) का जीवन उतार-चढ़ाव भरा रहा. विवाह के बाद उन्हें पता चला कि उनका पति समलैंगिक है.

  • Share this:
मुंबई. 31 जुलाई को अमेजन प्राइम पर बायोपिक शकुंतला देवी (Shakuntala Devi) रिलीज होने वाली है. विद्या बालन फिल्म में शकुंतला देवी के किरदार में दिखेंगी. शकुंतला देवी (1929-2013) एक महान गणितज्ञ थीं. जिन्हें मानव कंप्यूटर भी कहा जाता था. उनके हिसाब-किताब करने की रफ्तार को देखते हुए उन्हें 1982 में गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में शामिल किया गया. वह कन्नड़ ब्राह्मण थीं. उनके पिता ने अपने परिवार में बगावत करते हुए मंदिर का पुजारी बनने से इंकार कर दिया और सर्कस में शामिल हो गए थे. उन्होंने ही अपनी बेटी शकुंतला की नंबरों से बाजीगरी करने की प्रतिभा को पहचाना, जब वह मात्र तीन साल की थी. इसके बाद उन्होंने सर्कस छोड़ दिया और बेटी की प्रतिभा का सड़कों पर घूम-घूम कर प्रदर्शन करने लगे. नन्हीं शकुंतला इतनी मशहूर हो गईं कि मात्र छह साल की उम्र में उन्हें मैसूर विश्वविद्यालय में गणित के कठिन सवाल हल करने की प्रतिभा दिखाने के लिए बुलाया गया. किस्मत ने पलटा खाया और वह 1944 में पिता के साथ लंदन चली गईं. जहां से वह दुनिया भर में घूमती और अपनी प्रतिभा से लोगों को चमत्कृत करती रहीं.

शकुंतला देवी का जीवन उतार-चढ़ाव भरा रहा. फिल्म प्रचार डॉट कॉम के अनुसार, विवाह के बाद उन्हें पता चला कि उनका पति समलैंगिक है. दोनों के बीच तलाक हुआ. शकुंतला देवी ने समलैंगिकता को लेकर अपने दौर में द वर्ल्ड ऑफ होमोसेक्सुअल्स नाम की किताब भी लिखी. जिस पर उस दौर में लोगों का अधिक ध्यान नहीं गया. रोचक तथ्य यह है कि शकुंतला देवी ने 1980 में इंदिरा गांधी के विरुद्ध मेढक (वर्तमान में तेलंगाना में) से लोकसभा चुनाव भी लड़ा. उन्होंने कहा कि वह लोगों को इंदिरा गांधी द्वारा बेवकूफ बनाए जाने से बचाना चाहती हैं. हालांकि चुनाव में वह नौंवे नंबर पर आईं और जमानत गंवा बैठी. मानव कंप्यूटर के साथ शकुंतला देवी ज्योतिषि और लेखिका भी थीं.

और भी बॉलीवुड बायोपिक अमेजन पर
हाल के वर्षों में कुछ बायोपिक फिल्में चर्चित रही हैं, जो आप चाहें तो अमेजन प्राइम पर देख सकते हैं. इनमें सरबजीत, गोल्ड, संजू, मैरीकॉम तथा नीरजा प्रमुख हैं. रीमा कागती द्वारा निर्देशित गोल्ड तपन दास (अक्षय कुमार) के जीवन पर आधारित है, जिसके कारण हमारे देश को हॉकी में स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में पहला गोल्ड मैडल मिला. वहीं संजू ऐक्टर संजय दत्त के विवादास्पद जीवन पर आधारित है. मैरीकॉम बॉक्सर मैरीकॉम के जीवन पर बनी है जो बताती है कि उन्हें सपने पूरे करने के लिए किन मुश्किलों से गुजरना पड़ा. मैरीकॉम पहली भारतिय महिला बॉक्सर हुई जिन्हें 2014 में हुए एशियन गेम्स मे गोल्ड मैडल मिला. 2018 में कॉमनवेल्थ गेम्स में वह भारत के लिए गोल्ड जीतने वाली पहली महिला बॉक्सर बनीं.
नीरजा एक बहादुर लड़की नीरजा भानोट की कहानी है जिसने मात्र 20 साल की उम्र मे अपनी जान की परवाह किए बिना कई लोगों की जान बचाई. नीरजा भानोट 1986 मे हुए एक विमान अपहरण के समय फ्लाइट अटैंडेंट थी. जिसने बहुत होशियारी से अपनी जान पर खेलकर 359 यात्रियों की जान बचाई. सरबजीत उमंग कुमार द्वारा निर्देशित फिल्म है जो पंजाब के एक ऐसे किसान की कहानी है जो नशे में इंडिया पाकिस्तान की बॉर्डर क्रॉस कर गया और पाकिस्तानी सेना ने उसे जासूस समझकर पकड़ लिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading