इस बॉलीवुड प्रोड्यूसर की 'वाहेगुरु' ने बदली किस्मत, कंगना रनौत के लिए कही ये बात

कृषिका, फ़िल्म इंडस्ट्री और पर्दे पर बढ़ती महिलाओं की बोल्डनेस के सवाल पर बात करती हुई कहती हैं कि यह कई बार कहानी और स्क्रिप्ट पर डिपेंड करता है.

News18Hindi
Updated: May 15, 2019, 9:46 PM IST
इस बॉलीवुड प्रोड्यूसर की 'वाहेगुरु' ने बदली किस्मत, कंगना रनौत के लिए कही ये बात
प्रोड्यूसर और डायरेक्टर कृषिका लुल्ला
News18Hindi
Updated: May 15, 2019, 9:46 PM IST
रांझना, अंजाना अनजानी, तनु वेड्स मनु, देसी बॉयस, हैप्पी भाग जाएगी जैसी मशहूर बॉलीवुड फ़िल्मों की प्रोड्यूसर कृषिका लुल्ला इन दिनों डायरेक्शन में हाथ आज़मा रही हैं. हाल ही में कृषिका ने मोनाली ठाकुर का गाया एक म्यूज़िकल वीडियो डायरेक्ट किया था. यह म्यूज़िकल वीडियो #Metoo पर आधारित था और इस वीडियो को ऑनलाइन ज़बरदस्त हिट मिले. इसके बाद कृषिका लुल्ला ने वाहेगुरु वीडियो डायरेक्ट किया है. जिसमें बेनेट दोसांझ ने अपनी आवाज़ दी है.

जब 'भाबी जी...' धारावाहिक के विभूति को स्टूडियो से निकाला गया था



न्यूज़ 18 हिंदी से हुई ख़ास बातचीत में प्रोड्यूसर कृषिका कहती है कि उनका सपना फ़िल्म डायरेक्ट करने का है, लेकिन वह धीरे धीरे सीढ़ियां चढ़ना चाहती हैं ताकि डायरेक्शन की बारीकियों को ख़ूब जान सकें. कृषिका का कहना है कि वह हिंदू हैं लेकिन जब से उनका वाहे गुरु में विश्वास बढ़ा उनकी ज़िंदगी में जो होता है वो किसी चमत्कार से कम नहीं. कृषिका बातचीत को आगे बढ़ाते हुए कहती हैं कि जब वह पहली बार गुरुद्वारे में वाहेगुरु के दरबार में गईं तब वह ख़ूब रोई थीं और वह क्यों रो रही थीं इसका पता उन्हें ख़ुद भी नहीं था. लेकिन उस दिन से उनकी ज़िंदगी में वाहेगुरु की एहमियत बढ़ गई और वह अक्सर गुरुदवारे जाने लगीं.



कृषिका, फ़िल्म इंडस्ट्री और पर्दे पर बढ़ती महिलाओं की बोल्डनेस के सवाल पर बात करती हुई कहती हैं कि यह कई बार कहानी और स्क्रिप्ट पर डिपेंड करता है. महिलाओं की पर्दे पर अगर बोल्डनेस बढ़ रही है तो वह आज के ज़माने के हिसाब से है जो दर्शक देखना चाहते हैं. और ऐसा नहीं है कि सिर्फ़ बोल्डनेस और मॉडर्न अवतार ही पर्दे पर पेश किया जा रहा है. अब हमारी फ़िल्म इंडस्ट्री में महिला प्रधान फ़िल्में भी बनती हैं जिसकी हीरो महिला अभिनेत्री है और दर्शकों को ये फ़िल्में पसंद भी आती हैं. और रही बात बोल्डनेस की तो सच कहूं तो मुझे बतौर प्रोड्यूसर या डायरेक्टर ऐसा लगता है कि किसी सीन में महिला अभिनेत्री को ठीक तरीक़े से प्रेज़ेंट नहीं किया जा रहा तो मैं स्क्रिप्ट की तब्दीली करने से बिलकुल नहीं कतराती.



17 साल बाद बिहार में अपने गांव पहुंचा ये एक्टर, कराया मुंडन संस्कारउन्होंने कहा कि बतौर प्रोड्यूसर मैंने कई बार स्क्रिप्ट चेंज करवाई है और सबसे अच्छी बात यह है कि अब फ़िल्में ही नहीं फ़िल्म इंडस्ट्री बदल रही है. पहले यहां महिलाएं बात करने में सोचती थीं, लेकिन आज इस इंडस्ट्री में महिलाएं खुलकर अपनी बात रखती हैं.

कृषिका के इस जवाब पर न्यूज़ 18 हिंदी ने सवाल किया कि फ़िल्म इंडस्ट्री की महिलाएं वाक़ई अब अपने विचार रखने लगी हैं, लेकिन कंगना रनौत को किस तरह देखती हैं वह भी पब्लिक प्लेटफॉर्म पर आए दिन किसी ना किसी पर आरोप लगाकर अपने विचार रखती हैं. इस सवाल पर कृषिका ने हंसते हुए कहा कि कंगना अच्छी अभिनेत्री हैं. 'तनु वेड्स मनु' में हमने साथ काम किया है, लेकिन वह पर्सनल किस तरह अपने विचार रखती हैं यह उनका निजी मामला है. मैं इस पर कमेंट नहीं करूंगी. इन दिनों बॉलीवुड इंडस्ट्री भी दो भागो में बटी हुई नज़र आ रही है.



इंडस्ट्री से जुड़े लोग राजनीतिक तौर पर सोशल मीडिया पर खुले आम एक दूसरे पर वार कर रहे हैं. इस सवाल पर गम्भीर होते हुए कृषिका कहती हैं कि यह वाक़ई दुःख की बात है कि राजनीति को लेकर हमारी फ़िल्म इंडस्ट्री दो भागों में बट रही है. इंडस्ट्री को एक साथ मिलकर रहना चाहिए और एक दूसरे की प्राईवेसी का सम्मान करना चाहिए.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार