म्यूजिक कंपोजर वनराज भाटिया का निधन, आर्थिक तंगी से परेशान थे नेशनल अवॉर्ड विजेता

वनराज राज भाटिया. फोटो साभार-@iftda_/Instagram

वनराज राज भाटिया. फोटो साभार-@iftda_/Instagram

वनराज राज भाटिया (Vanraj Bhatia ) पिछले काफी समय से वह बेहद बीमार थे. उन्होंने 60 के दशक में कई मशहूर ऐड फिल्मों का संगीत देते हुए अपने संगीतमय करियर की शुरुआत की थी.

  • Share this:

मुंबई. 'अंकुर', 'जाने भी दो यारो' और 'तमस' जैसी फिल्मों में संगीत दे चुके जाने-माने म्यूजिक कंपोजर वनराज भाटिया (Vanraj Bhatia) का निधन हो गया है. वह 93 साल के थे. पिछले कुछ सालों से वे मेडिकल प्रॉब्लम्स से जूझ रहे थे. मुंबई के एक अपार्टमेंट में केयर टेकर के भरोसे रह रहे थे और अंतिम वक्त में आर्थिक तंगी से जूझ रहे थे. उन्होंने आज अपने घर में ही अंतिम सांस (Vanraj Bhatia died) ली. उन्होंने 60 के दशक में कई मशहूर ऐड फिल्मों का संगीत देते हुए अपने संगीतमय करियर की शुरुआत की थी.

वनराज राज भाटिया (Vanraj Bhatia ) पिछले काफी समय से वह बेहद बीमार थे. उनके घुटनों में दर्द रहता था, जिसके चलते बिस्तर से उठकर चलना-फिरना मुश्किल था. उनकी याददाश्त कमजोर हो चुकी थी और उन्हें सुनाई भी नहीं देता था. उनके निधन पर बॉलीवुड सेलेब्स ने शोक व्यक्त किया है.

वनराज राज भाटिया पिछले कुछ सालों से आर्थिक संकट से भी जूझ रहे थे. 2 साल पहले भाटिया इन हालात में पहुंच गए थे कि उन्हें गुजारे के लिए घर के बर्तन तक बेचने पड़े. इस बात की जानकारी उनके केयर टेकर रहे सुजीत ने एक बातचीत में दी थी. ऐसे में गायको, गीतकारों और संगीतकार के हितों का ख्याल रखनेवाली इंडियन परफॉर्मिंग राइट्स सोसायटी (आईपीआरेस) की‌ ओर से भी उनकी आर्थिक मदद की गई थी.

साल 1988 में आई फिल्म 'तमस' के लिए बेस्ट म्यूजिक डायरेक्टर का नेशनल अवॉर्ड मिला था और साल 1989 में क्रिएटिव और एक्सपेरिमेंटल संगीत बनाने के लिए उन्हें नागीत नाटक अकादमी ने सम्मानित किया था. साल 2012 में उनको देश का चौथा सबसे बड़ा सम्मान पद्मश्री दिया गया था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज