Home /News /entertainment /

मधुर भंडारकर की 'इंडिया लॉकडाउन' को 'ए' सर्टिफिकेट के बाद भी सेंसर बोर्ड ने लगाए 12 कट, जानें क्यों

मधुर भंडारकर की 'इंडिया लॉकडाउन' को 'ए' सर्टिफिकेट के बाद भी सेंसर बोर्ड ने लगाए 12 कट, जानें क्यों

इस फिल्म में 4 किरदारों की कहानी को दिखाया गया है. (File Photo)

इस फिल्म में 4 किरदारों की कहानी को दिखाया गया है. (File Photo)

मधुर भंडारकर (Madhur Bhandarkar) ने कहा है कि, 'हम फिल्म 'इंडिया लॉकडाउन' (India Lockdown) के 'ए' सर्टिफिकेट को स्वीकार करने को तैयार हैं, लेकिन सेंसर बोर्ड ने जो कट बताए हैं वे कहानी को प्रामाणिक बनाने के लिए शामिल किए गए हैं.

    मुंबई. बॉलीवुड के फेमस फिल्मकार मधुर भंडारकर (Madhur Bhandarkar) की चर्चित फिल्म ‘इंडिया लॉकडाउन’ (India Lockdown) को सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन (CBFC) ने ‘ए’ सर्टिफिकेट दिया है. इसके बाद भी बोर्ड ने उनकी फिल्म में 12 कट लगाने को कहा है. मधुर भंडारकर यह फिल्म कोरोना वायरस की महामारी के दौरान शूट कर चुके हैं. इस फिल्म में 2020 में COVID-19 को महामारी घोषित कर लगाए गए लॉकडाउन के दौर में लोगों की जिंदगी को दिखाया गया है. लॉकडाउन का लोगों की जिंदगी क्या प्रभाव पड़ा है, इसे मधुर भंडारकर ने 4 लोगों की कहानी के माध्यम से दिखाया है.

    ई24 की खबर के अनुसार फिल्म में श्वेता बसु प्रसाद वह रोल कर रही हैं, जिसमें यौनकर्मियों की बहुत दयनीय स्थिति को दिखाया गया है. सीबीएफसी ने स्पेशल ट्रैक में 12 कट लगाने को कहा है, जिसमें 2 विजुअल और 10 ऑडियो कट शामिल हैं. इसमें एक विजुअल पर इसलिए कट लगाने को कहा गया है क्योंकि उसमें फोन सेक्स का सीन दिखाया गया है.

    सेंसर बोर्ड ने जिस दूसरे सीन पर आपत्ति जताई है, वह भी यौनकर्मी से जुड़ा है. इस सीन में यौनकर्मी और ग्राहक के बीच शारीरिक संबंधों को दिखाया गया है. इसके अलावा बोर्ड ने जो 10 ऑडियो कट लगाए हैं, वे आपत्तिजनक भाषा के प्रयोग के कारण लगाए गए हैं.

    मधुर भंडारकर ने कहा है कि, ‘हम ‘ए’ सर्टिफिकेट को स्वीकार करने को तैयार हैं, लेकिन सेंसर बोर्ड ने जो कट बताए हैं वे सभी उस ट्रैक के हैं, जो कमाठीपुरा में एक सेक्स वर्कर की लाइफ में आम हैं. इसके अलावा बोर्ड ने भाषा में कुछ समस्या होने की बात कही है, लेकिन कहानी को प्रामाणिक बनाने के लिए ऐसी भाषा का जानबूझकर प्रयोग किया गया है. सेंसर बोर्ड के बताए गए सारे शब्दों और 2 विजु्अल को हटाने से कहानी का भाव और तत्व कम हो जाएगा. फिल्म को प्रामाणिक बनाए रखने के लिए ऐसे शब्दों और विजुअल का प्रयोग किया गया है.’

    Tags: CBFC, Madhur bhandarkar

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर