Home /News /entertainment /

सलमान खान के खिलाफ महाराष्ट्र सरकार पहुंची सुप्रीम कोर्ट

सलमान खान के खिलाफ महाराष्ट्र सरकार पहुंची सुप्रीम कोर्ट

Indian Bollywood actor Salman Khan greets from the balcony on arrival at his house in Galaxy Apartment after getting bail from his ongoing trial of hit and run case, in Mumbai on May 8, 2015.  Bollywood superstar Salman Khan's five-year prison sentence for killing a homeless man with his SUV after a night out drinking 13 years ago was suspended on May 8, 2015, pending an appeal.    AFP PHOTO        (Photo credit should read STR/AFP/Getty Images)

Indian Bollywood actor Salman Khan greets from the balcony on arrival at his house in Galaxy Apartment after getting bail from his ongoing trial of hit and run case, in Mumbai on May 8, 2015. Bollywood superstar Salman Khan's five-year prison sentence for killing a homeless man with his SUV after a night out drinking 13 years ago was suspended on May 8, 2015, pending an appeal. AFP PHOTO (Photo credit should read STR/AFP/Getty Images)

महाराष्ट्र सरकार ने शुक्रवार को 2002 के हिट एंड रन मामले में बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान को बरी करने के बम्बई उच्च न्यायालय के फैसले को चुनौती देते हुए उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है।

    नई दिल्ली महाराष्ट्र सरकार ने शुक्रवार को 2002 के हिट एंड रन मामले में बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान को बरी करने के बम्बई उच्च न्यायालय के फैसले को चुनौती देते हुए उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है। उस घटना में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी और चार अन्य घायल हो गए थे। विशेष अनुमति याचिका में उच्च न्यायालय के फैसले को चुनौती देने के लिए 47 आधार बनाए गए हैं और निचली अदालत के फैसले को बहाल करने की मांग की गई है जिसके तहत सलमान को दोषी ठहराते हुए पांच साल के कारावास की सजा सुनाई गई थी।

    राज्य के स्थाई वकील निशांत कटनेश्वरकर के जरिए दायर याचिका में कहा गया है कि उच्च न्यायालय ने जो गलतियां कीं उसमें शिकायतकर्ता रवींद्र पाटिल के साक्ष्य पर सही परिप्रेक्ष्य में विचार नहीं करना शामिल है। वह सलमान का पूर्व पुलिस अंगरक्षक था। मामले से जुड़े मुख्य लोक अभियोजक संदीप शिंदे ने कहा कि एसएलपी में यह कहा है कि उच्च न्यायालय ने अभियोजन पक्ष के साक्ष्य को नहीं समझकर गलती की।

    शिंदे ने कहा कि निचली अदालत का सलमान खान को दोषी ठहराने का आदेश सही था और उसे बरकरार रखा जाना चाहिए। आधारों का उल्लेख करते हुए याचिका में कहा गया है कि प्राथमिकी, पूरक बयान और गवाही में शिकायतकर्ता के बयान में कोई बदलाव नहीं है। रवींद्र पाटिल ने प्राथमिकी की सामग्री को इस हद तक दोहराया कि सलमान ने नशे ही हालत में लापरवाह तरीके से कार चलाई।

    रवींद्र पाटिल प्राथमिकी और पूरक बयान के अनुसार अपने बयान पर कायम रहा। उसमें कहा गया है कि उच्च न्यायालय ने मृतक नुरूल्ला महबूब शरीफ की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट पर विचार नहीं किया जिसमें इस बात का उल्लेख किया गया था कि उसके शरीर का उपरी हिस्सा पूरी तरह कुचल गया था। उसमें कहा गया है कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट साफ करती है कि सवालों के घेरे में आया वाहन नुरूल्ला के शरीर पर चढ़ गया। कुचलने से उसके सिर, गर्दन, छाती और पेट पर कई जगह चोटें आईं।

    Tags: Bombay high court, Salman khan, Supreme Court

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर