• Home
  • »
  • News
  • »
  • entertainment
  • »
  • मनोज मुंतशिर कविता चुराने के आरोप में हुए ट्रोल, ट्वीट कर कहा- 'एक साथ फुरसत से जवाब दूंगा'

मनोज मुंतशिर कविता चुराने के आरोप में हुए ट्रोल, ट्वीट कर कहा- 'एक साथ फुरसत से जवाब दूंगा'

मनोज मुंतशिर पर कविता चुराने का आरोप लगा है. (Photo @manojmuntashir/instagram)

मनोज मुंतशिर पर कविता चुराने का आरोप लगा है. (Photo @manojmuntashir/instagram)

गीतकार मनोज मुंतशिर (Manoj Muntashir) की किताब 'मेरी फितरत है मस्ताना' की 'मुझे कॉल करना' कविता को अंग्रेजी की call me पोएम से ट्रांसलेट कर लिखने का आरोप लगा है. इसको लेकर सोशल मीडिया यूजर्स ने मनोज को जमकर ट्रोल किया है और उनके खिलाफ व्यंग्य से भरे ट्वीट किए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    मुंबई. हिंदी फिल्मों के गीतकार मनोज मुंतशिर (Manoj Muntashir) एक बार फिर विवाद में घिरते दिखाई दे रहे हैं. वे बेबाकी से अपनी बात रखने के लिए जाने जाते हैं. उन पर ‘मुझे कॉल करना’ वाली कविता को चुराने का आरोप लगा है. 2018 में छपी मनोज की किताब ‘मेरी फितरत है मस्ताना’ में यह कविता छपी थी. कुछ लोगों ने सोशल मीडिया पर यह आरोप लगाया है कि उनकी कविता मौलिक नहीं है.

    इन लोगों ने ट्विटर पर लिखा है कि, मनोज ने रॉबर्ट जे लेवरी की 2007 में छपी बुक Love lost: Love found की ‘काल मी’ नामक कविता का हिंदी अनुवाद कर उसे अपनी कविता के तौर छपवाया है. इससे पहले उन्होंने मुगल बादशाहों की तुलना ‘डकैतों’ (Comparison of Mughal emperors with ‘dacoits’) से करने वाला एक वीडियो जारी किया था, जिसको लेकर वे विवादों में आ गए थे.

    कॉपी करने का आरोप लगाता एक ट्वीट.

    सोशल मीडिया पर जैसे ही यह खबर आई, लोग मनोज मुंतशिर को ट्रोल करने लगे. लोग मनोज के इस काम को अनैतिक बता रहे हैं. सोशल मीडिया यूजर्स गुस्से में तरह-तरह के तर्क दे रहे हैं. सोशल मीडिया पर लोग यह पूछने लगे कि मनोज आखिर जवाब क्यों नहीं दे रहे हैं?

    मनोज मुंतशिर का ट्वीट.

    मनोज मुंतशिर ने 21 सितंबर की रात को किए गए एक ट्वीट में अपनी बात रखी है. इस ट्वीट में उन्होंने लिखा है कि, ‘200 पन्नों की किताब और 400 फ़िल्मी- ग़ैर फ़िल्मी गाने मिलाकर सिर्फ 4 लाइनें ढूंढ पाए? इतना आलस? और लाइनें ढूंढों, मेरी भी और बाकी राइटर्स की भी. फिर एक साथ फुरसत से जवाब दूंगा. शुभ रात्रि!’

    यह कविता मनोज मुंतशिर की बुक ‘मेरी फितरत है मस्ताना’ में छपी है, जिसे वाणी प्रकाशन ने प्रकाशित किया है. विवाद बढ़ने पर प्रकाशन के अदिति माहेश्वरी ने कहा है कि, ‘हम कॉपी करने के मामले में लेखक के आधिकारिक बयान की प्रतीक्षा करेंगे.’

    ये है मनोज की कविता ‘मुझे कॉल करना’…
    ‘तुम कभी उदास हो रोने का दिल करे, मुझे कॉल करना
    शायद मैं तुम्हारे आंसू न रोक पाऊं पर तुम्हारे साथ रोऊंगा ज़रूर
    कभी अकेलेपन से घबरा जाओ तो मुझे कॉल करना शायद मैं तुम्हारी घबराहट न मिटा पाऊं पर अकेलापन बांटूंगा ज़रूर
    कभी दुनियां बदरंग लगे तो मुझे कॉल करना
    शायद मैं पूरी दुनिया में रंग न भर पाऊं पर ये दुआ ज़रूर करूंगा कि तुम्हारी जिन्दगी खूबसूरत हो
    और कभी ऐसा हो कि तुम कॉल करो और मेरी तरफ से जवाब ना आए तो भाग के मेरे पास आ जाना, शायद मुझे तुम्हारी जरूरत हो.’

    रॉबर्ट जे लेवरी की 2007 में छपी कविता call me…

    If one day you feel like crying…
    call me
    I don’t promise that
    I will make you laugh
    But I can cry with you.

    If one day you want to run away
    Don’t be afraid to call me.
    I don’t promise to ask you to stop,
    But I can run with you.

    If one day you don’t want to listen to anyone call me
    i promise to be there for you but i also promise to remain quiet

    But… If one day you call and there is no answer… come fast to see me..
    Perhaps I need you.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज