Mera Fauji Calling Movie Review: सरहद पर शहीद हुआ जवान दुन‍िया ही नहीं, पर‍िवार भी पीछे छोड़ता है..

'मेरा फौजी कॉल‍िंंग' का एक सीन.

'मेरा फौजी कॉल‍िंंग' का एक सीन.

Mera Fauji Calling Movie Review: एक फौजी देश की सरहादों पर अपनी जान हथेली पर ल‍िए खड़ा होता है तो उसका परिवार हर द‍िन उसके इंतजार में अपनी ही जंग लड़ रहा होता है. शर्मन जोशी और ब‍िद‍िता बाग की फिल्‍म 'मेरा फौजी कॉलिंग' (Mera Fauji Calling) ऐसे ही पर‍िवार की कहानी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 11, 2021, 12:23 PM IST
  • Share this:
फ‍िल्‍म: मेरा फौजी कॉल‍िंंग
न‍िर्देशक : आर्यन सक्‍सेना
कलाकार: शर्मन जोशी, ब‍िद‍िता बाग, रांझा व‍िक्रम स‍िंह, मुग्‍धा गोड़से, ज़रीना वहाब
स्‍टार: 3 स्‍टार

Mera Fauji Calling Movie Review: कहते हैं हम आज अपने घरों में ज‍िस आजादी का जश्‍न मना रहे हैं, उस आजादी को बरकरार रखने के लिए एक फौजी देश की सरहादों पर अपनी जान हथेली पर ल‍िए खड़ा होता है. लेकिन जहां ये जाबांज स‍िपाही होते हैं, वहीं ये एक प‍िता, एक बेटा, एक भाई, एक पति भी होते हैं. फौजी देश की सीमा पर जंग लड़ता है तो उसका परिवार हर द‍िन उसके इंतजार में अपनी ही जंग लड़ रहा होता है. एक फौजी के परिवार का नजरिया सामने रखने वाली फिल्‍म है 'मेरा फौजी कॉलिंग' (Mera Fauji Calling) जो इस शुक्रवार यानी 12 मार्च को स‍िनेमाघरों में र‍िलीज हो रही है.

कहानी: कहानी है एक फौजी के परिवार की जो खुद सरहद पर तैनात है और उसकी पत्‍नी, बेटी अराध्‍या और मां गांव में रहते हैं. ये फौजी साल में 1 बार पूरे 1 महीने के लिए अपने घर आता है और परिवार के साथ रहता है और इसकी नन्‍हीं बेटी साल भर इस 1 महीने का ही इंतजार करती है. इस बात भी ऐसा ही होता है और ये परिवार अपने फौजी के घर लौटने का इंतजार कर रहा है. तभी उनकी नन्‍हीं बेटी आराध्‍या सपना देखती है कि उसके पापा को गोली लग गई, ज‍िसके बाद वह बुरी तरह घबरा जाती है और पोस्‍ट ट्रॉमेट‍िक ड‍िसऑर्डर में चली जाती है. क्‍या उसका ये सपना सच होता है या सच्‍चाई कुछ और होती है... कैसे एक पत्‍नी अपनी बेटी के ल‍िए एक झूठ को जीती है, यही कहानी है 'मेरा फौजी कॉल‍िंग' की.



ये कहानी क‍िसी फौजी की नहीं, बल्कि उसके परिवार के नजरिए से द‍िखाई गई कहानी है और यही इसकी यूएसपी है. अक्‍सर फिल्‍मों में सरहदों पर लड़ने वाले स‍िपाही को क‍िसी गाने में अपने परिवार को याद करता हुआ द‍िखा द‍िया जाता है, लेकिन उस पर‍िवार की मानस‍िक हालत क्‍या होती है, वो कैसे हर द‍िन डर में इंतजार में जीता है, इस कहानी के जरिए यही द‍िखाया गया है.

Mera Fauji Calling, Mera Fauji Calling Movie Review

फौजी की पत्‍नी के रूप में एक्‍ट्रेस ब‍िद‍िता बाग काफी अच्‍छी लगी हैं. वहीं जरीना वहाब ने भी अपने क‍िरदार में ठीक रही हैं. शर्मन जोशी की एंट्री फिल्‍म में सेकंड हाफ में होती है. कहानी की असली हीरोइन है चाइल्‍ड आर्टिस्‍ट माही सोनी, ज‍िसने इस फिल्‍म में अराध्‍या का क‍िरदार न‍िभाया है. आपको याद द‍िला दूं कि माही सोनी टीवी के शो 'सुपर डांसर' में नजर आ चुकी हैं और टॉप 12 में सलेक्‍ट हुई थीं. इसके बाद माही 'तैनाली रामा', 'परमावतार श्री कृष्‍ण' जैसे सीरियलों में भी नजर आ चुकी हैं. माही ने इस फिल्‍म में बढ़‍िया काम क‍िया है. क्‍लाइमेक्‍स में अपने स्‍कूल में परफॉर्म करती अराध्‍या के इमोशन काफी उभर कर आए हैं.

Mera Fauji Calling

ये एक इमोशनल कहानी है, ज‍िसे एक बच्‍चे के नजर‍िए से द‍िखाया गया है. पर फिल्‍म में कुछ कम‍ियां भी हैं. कई सीन्‍स कनेक्‍ट करने में थोड़े ढीले रह गए हैं. ब‍िद‍िता और शर्मन के बीच पनपी इतनी जल्‍दी दोस्‍ती थोड़ी खटकती है. लेकिन फिल्‍म बांधे रखने में कामयाब है. भले ही ये एक फौजी की कहानी हो लेकिन कोई भी डायलॉग भारी-भरकम या जोशीले नहीं है. मैं इस कहानी को 2.5 स्‍टार देना चाहती थी लेकिन आधा स्‍टार चाइल्‍ड आर्टिस्‍ट माही सोनी के अभिनय के लिए तो बनता है. मेरी तरफ से इस फिल्‍म को 3 स्‍टार.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज