होम /न्यूज /मनोरंजन /‘द कश्मीर फाइल्स’ पर नादव लापिड के कमेंट को IFFI ज्यूरी बोर्ड ने बताया निजी राय, खुद को किया अलग

‘द कश्मीर फाइल्स’ पर नादव लापिड के कमेंट को IFFI ज्यूरी बोर्ड ने बताया निजी राय, खुद को किया अलग

नादल लापिड ने बयान से IFFI ज्यूरी बोर्ड ने खुद को अलग कर लिया. (फोटो साभारः Twitter  @thehawkeyex)

नादल लापिड ने बयान से IFFI ज्यूरी बोर्ड ने खुद को अलग कर लिया. (फोटो साभारः Twitter @thehawkeyex)

इजरायली फिल्ममेकर और 53वें अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (IFFI) के ज्यूरी हेड नादव लापिड (Nadav Lapid) ने 'द कश्मीर फाइल ...अधिक पढ़ें

मुंबई. गोवा में आयोजित हुए 53वें अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (International Film Festival of India) के जूरी बोर्ड ने फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ फिल्म पर अपने प्रमुख नादव लापिड की की टिप्पणियों से खुद को अलग कर लिया. बोर्ड का कहना है कि यह टिप्पणियां पूरी तरह से नादव की निजी राय है. बोर्ड उनके निजी विचारों को सहमति नहीं देता है. इजरायली फिल्ममेकर नादव कहा था कि फेस्टिवल में ‘द कश्मीर फाइल्स’ की स्क्रीनिंग के दौरान जूरी ‘परेशान और स्तब्ध’ थी. उन्होंने फिल्म को अश्लील और अनुचित बताया था. इसके बाद से उनकी आलोचना न सिर्फ भारत में बल्कि इजरायल सरकार भी कर रही है.

बता दें कि ‘द कश्मीर फाइल्स’ (The Kashmir Files) को विवेक अग्निहोत्री ने डायरेक्ट किया था और इसे लिखा भी उन्होंने ही था. फिल्म की कहानी 90 के दशक में कश्मरी घाटी से कश्मीरी पंडितों के पलायन और उग्रवाद के चरम पर आधारित है. फिल्म ने भारतीय बॉक्स ऑफिस पर रिकॉर्ड तोड़ कमाई थी. ये कमाई उस वक्त ही जब लोग लॉकडाउन पॉलिसी लागू होने की वजह से सिनेमाघरों में जाने से परहेज कर रहे थे.

कौन हैं IFFI के जूरी हेड नादव लापिड? The Kashmir Files को वल्गर बता कर विवादों में घिरे इजरायली डायरेक्टर

‘द कश्मीर फाइल्स’ 11 मार्च को सिनेमाघरों में रिलीज हुई थी. यह इफ्फी के ‘इंडियन पनोरमा सेक्शन’ का हिस्सा थी और इसका 22 नवंबर को इसकी स्क्रीनिंग हुई थी. इसमें अभिनेता अनुपम खेर, दर्शन कुमार, मिथुन चक्रवर्ती और पल्लवी जोशी समेत अन्य प्रमुख किरदारों में हैं.

‘द कश्मीर फाइल्स’ देख परेशान हो गए थे नादव

बता दें, इफ्फी 2022 के समापन समारोह को संबोधित करते हुए नादव लापिड ने कहा था, ‘‘हम सब ‘द कश्मीर फाइल्स’ फिल्म से परेशान और हैरान हैं. यह हमें एक दुष्प्रचार वाली और भद्दी फिल्म की तरह लगी जो इतने प्रतिष्ठित फिल्म समारोह के एक कलात्मक और प्रतिस्पर्धी खंड के लिए अनुपयुक्त थी.”

नादव ने इस बात पर दिया जोर

नादव लापिड ने आगे कहा था, “ मैं इस भावना को आपके साथ खुले तौर पर साझा करने में सहज महसूस कर रहा हूं क्योंकि महोत्सव की भावना वास्तव में आलोचनात्मक चर्चा को स्वीकार कर सकती है जो कला और जीवन के लिए जरूरी है.”

Tags: Anupam kher, The Kashmir Files

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें