फ्रांस में हुए हमले की जावेद अख्तर, नसीरूद्दीन शाह और स्वरा भास्कर ने की निंदा

जावेद अख्तर, नसीरूद्दीन शाह और स्वरा भास्कर.
जावेद अख्तर, नसीरूद्दीन शाह और स्वरा भास्कर.

गीतकार जावेद अख्तर (Javed Akhtar), एक्टर नसीरूद्दीन शाह (Naseeruddin Shah), शबाना आजमी (Shabana Azmi), स्वरा भास्कर (Swara Bhaskar) सहित विभिन्न क्षेत्रों के 100 से अधिक हस्तियों ने फ्रांस में धर्म के नाम पर हाल ही में हुई हत्याओं की निंदा की.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 1, 2020, 9:20 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. गीतकार जावेद अख्तर (Javed Akhtar), एक्टर नसीरूद्दीन शाह (Naseeruddin Shah), शबाना आजमी (Shabana Azmi), स्वरा भास्कर (Swara Bhaskar), वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण और लेखक-कार्यकर्ता तुषार गांधी सहित विभिन्न क्षेत्रों के 100 से अधिक प्रख्यात भारतीयों ने फ्रांस में धर्म के नाम पर हाल ही में हुई हत्याओं की शनिवार को स्पष्ट रूप से निंदा की. उन्होंने इन हत्याओं को ‘तर्कसंगत’ ठहराने वाले कुछ मुस्लिम धर्म गुरुओं और नेताओं के बयानों की भी आलोचना की.

हत्या की घटनाओं की निंदा करने वाले बयान पर हस्ताक्षर करने वालों में अदाकारा शबाना आजमी, स्वरा भास्कर, लेखक-निर्देशक फिरोज अब्बास खान, निर्देशक कबीर खान, अंजुम राजाबलि, डॉक्यूमेंट्री फिल्म निर्माता आनंद पटवर्द्धन, सेवानिवृत्त आईपीएस अधिकारी जुलियो एफ रिबेरो और उद्योगपति अब्दुल अजीज लोखंडवाला शामिल हैं.

बयान में कहा गया है कि ये लोग धर्म के नाम पर हाल ही में अंजाम दी गई हत्या की घटनाओं की ‘स्पष्ट रूप से और बिना शर्त’ निंदा करते हैं. बयान में कहा गया है, ‘हम सोची समझी साजिश के तहत की गई हत्याओं को उचित ठहराने संबंधी भारतीय मुस्लिमों के कुछ स्व-घोषित अभिभावकों के उटपटांग तर्क से बहुत आहत हुए हैं तथा कुछ राष्ट्राध्यक्षों की अस्वीकार्य टिप्पणियों की भी निंदा करते हैं.’



बयान पर हस्ताक्षर करने वालों ने कहा है कि इस तरह के जघन्य अपराधों को अपने खेमे से जुड़े लोगों द्वारा अंजाम दिए जाने पर सभी धार्मिक समूहों का प्रत्यारोप लगाना रोजमर्रा की बात हो गई है. बयान में कहा गया है, ‘हम ‘फ्रांस काउंसिल फॉर मुस्लिम फेथ’ के साथ एकजुटता से खड़े हैं.’
फ्रांस में एक चर्च में किए गए हमले में मारे गए थे 3 लोग 
बयान पर हस्ताक्षर करने वालों में लेखक-निर्माता दानिश जावेद, थियेटर से जुड़ी शख्सियत मल्लिका साराभाई, नेशनल अलायंस ऑफ पीपुल्स मूवमेंट की मेधा पाटकर और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय की सेवानिवृत्त प्रोफेसर मृदुला मुखर्जी भी शामिल हैं. उल्लेखनीय है कि गुरुवार को फ्रांस के नीस में एक चर्च में चाकू से किए गए हमले में 3 लोग मारे गए थे. फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने इसे ‘इस्लामी आतंकवादी हमला’ कहा था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज