बॉलीवुड के बारे में गलत बोलना बंद करें, नए लोग नहीं आएंगे: नवाजुद्दीन सिद्दीकी

नवाजुद्दीन सिद्दीकी.
नवाजुद्दीन सिद्दीकी.

नवाजुद्दीन सिद्दीकी (Nawazuddin Siddiqui) ने बताया कि उनका लॉकडाउन बहुत अच्छा गुजरा. वे मसूरी के एक शानदार रिजॉर्ट में रह रहे हैं. उन्होंने बताया कि रिजॉर्ट में वे दो ही काम करते हैं- फिल्म देखना और एक्सरसाइज करना.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 20, 2020, 8:28 PM IST
  • Share this:
मुंबई. बॉलीवुड में लंबे समय तक स्ट्रगल करने के बाद नवाजुद्दीन सिद्दीकी (Nawazuddin Siddiqui) ने अपना नाम, पहचान और जगह बनाई है. नवाजुद्दीन कई दमदार किरदार निभाकर से खुद को साबित किया है. नवाजुद्दीन ने बताया कि उनका लॉकडाउन बहुत अच्छा गुजरा. वे मसूरी के एक शानदार रिजॉर्ट में रह रहे हैं. उन्होंने बताया कि रिजॉर्ट में वे दो ही काम करते हैं- फिल्म देखना और एक्सरसाइज करना. इस दौरान उन्होंने ओटीटी पर अच्छी कॉन्टेंट वाली फिल्में देखीं.

नवाज ने बताया कि, उन्होंने पहली बार खुद को बड़े पर्दे पर फिल्म 'सरफरोश' में देखा था, जिसमें उनका रोल केवल एक मिनट का ही था. वे अपने दोस्तों को फिल्म दिखाने ले गए, जब उनका सीन आया तो सब दोस्त बातें करने में बिजी रहे. दोस्तों को एक सीन के लिए फिर से फिल्म दिखाने के लिए ले जाना पड़ा.

पसंदीदा एक्टर हैं नसीरुद्दीन शाह
नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने बताया कि वे बॉलीवुड के कई सुपरस्टार के साथ काम कर चुके हैं, लेकिन नसीरुद्दीन शाह उनके पसंदीदा ऐक्टर हैं. ईटाइम्स से बातचीत करते हुए सिद्दीकी ने कहा कि, अपनी फिल्मों में प्रयोग करने के कारण आमिर खान भी उन्हें पसंद हैं. आमिर खान की फिल्मों में हर चीज में बहुत मेहनत की जाती है और फिर उन्हें कॉमर्शियल टच दिया जाता है.
इंडस्ट्री को न करें बदनाम


खुद को साबित कर चुके एक्टर नवाजुद्दीन ने कहा कि, फिल्म इंडस्ट्री को एक बहुत ही खराब जगह बताया जा रहा है जो कि बहुत ही गलत है. इस इंडस्ट्री की यह अच्छाई है कि सभी लोग अपने विचार खुलकर सामने रखते हैं, लेकिन खुलकर विचार रखने के कारण यदि फिल्म इंडस्ट्री के बारे में केवल नकारात्मक बातें ही कही जाएंगी तो यहां आने वाले नए टैलेंट अपना इरादा बदल लेंगे.

उन्होंने आगे कहा कि बॉलीवुड के बारे में जिस तरह से बातें बोली जा रही हैं, उससे तो लोग समझेंगे कि, इंडस्ट्री में मर्डर होते हैं. एक्टर ड्रग्स लेते हैं और गांजा पीते हैं. अब बॉलीवुड में इनसाइडर-आउटसाइडर और नेपोटिज्म की बहस बंद हो जानी चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज