NCPCR ने वेब सीरीज ‘बॉम्बे बेगम्स’ के निर्माताओं के खिलाफ केस दर्ज करने का दिया आदेश

आयोग ने इस मामले में पुलिस से 3 दिनों के भीतर कार्रवाई रिपोर्ट भी तलब की है.

आयोग ने इस मामले में पुलिस से 3 दिनों के भीतर कार्रवाई रिपोर्ट भी तलब की है.

नेटफ्लिक्स की वेब सीरीज ‘बॉम्बे बेगम्स’ (Bombay Begums) में बच्चों को गलत ढंग से दिखाया गया है. गत मार्च महीने में इस वेब सीरीज के खिलाफ शिकायत मिलने के बाद एनसीपीसीआर ने इस मामले का संज्ञान लेते हुए नेटफ्लिक्स से इसकी 'स्ट्रीमिंग' बंद करने का आदेश दिया था.

  • Share this:

नई दिल्ली. राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPCR) ने नेटफ्लिक्स की वेब सीरीज ‘बॉम्बे बेगम्स’ (Bombay Begums) के निर्माताओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया है. आयोग ने यह आदेश महाराष्ट्र के अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) को पत्र लिखकर केस दर्ज करने को कहा है क्योंकि इसमें बच्चों को गलत ढंग से दिखाया गया है.

आयोग ने इस मामले में पुलिस से 3 दिनों के भीतर कार्रवाई रिपोर्ट भी तलब की है. अलंकृता श्रीवास्तव द्वारा निर्देशित यह वेब सीरीज ओटीटी प्लेटफॉर्म ‘नेटफ्लिक्स’ पर गत 8 मार्च को रिलीज हुई थी. महाराष्ट्र के अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) मनु कुमार श्रीवास्तव को लिखे पत्र में एनसीपीसीआर ने कहा कि मुंबई पुलिस ने आयोग को सूचित किया था कि इस मामले में प्राथमिकी दर्ज करने के लिए उसे उच्च स्तर से अनुमति की जरूरत होगी.

आयोग ने कहा, ‘जब पुलिस तय प्रक्रियाओं का अनुसरण नहीं कर रही है तो आपसे आग्रह किया जाता है कि इस मामले पर संज्ञान लें और यह सुनिश्चित करें कि आगे से बाल अधिकारों और कानून का इस तरह से उल्लंघन नहीं हो.’

मुंबई के पुलिस आयुक्त हेमंत नगराले को लिखे एक अन्य पत्र में एनसीपीसीआर ने कहा कि वह 28 मई को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से आयोग के समक्ष अनुपालन या कार्रवाई रिपोर्ट के साथ उपस्थित हों.’ गत मार्च महीने में इस वेब सीरीज के खिलाफ शिकायत मिलने के बाद एनसीपीसीआर ने इस मामले का संज्ञान लेते हुए नेटफ्लिक्स से इसकी 'स्ट्रीमिंग' बंद करने का आदेश दिया था.
अमेजॉन प्राइम की वेब सीरीज 'तांडव' (Tandav) के बाद ये दूसरा वेब शो है जो व‍िवादों में घ‍िर गया है. 'बॉम्‍बे बेगम्‍स' 8 मार्च को नेटफ्लिक्स पर र‍िलीज हुई थी. दरअसल, आयोग ने एक शिकायत के आधार पर नेटफ्लिक्स को नोटिस भेजा था. शिकायत में आरोप लगाया गया था कि इस सीरीज में 13 साल की बच्ची को ड्रग्स लेते दिखाया गया है. सीरीज में नाबालिगों को कैजुअल सेक्स करते दिखाया गया है. इसके साथ ही स्कूली बच्चों का जिस तरह चित्रण किया गया है, उस पर भी आपत्ति जताई है. शिकायत में कथित अनुचित चित्रण पर आपत्ति जताते हुए कहा कि इस प्रकार के कंटेंट से न केवल युवा लोगों के दिमाग पर बुरा असर पड़ेगा, बल्कि इससे बच्चों के साथ दुर्व्यवहार और शोषण भी हो सकता है.

(भाषा के इनपुट के साथ)

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज