सनी लियोनी के बाद पश्चिम बंगाल के कॉलेज की प्रवेश सूची में नेहा कक्कड़ का नाम

सनी लियोनी के बाद पश्चिम बंगाल के कॉलेज की प्रवेश सूची में नेहा कक्कड़ का नाम
नेहा कक्कड़

तृणमूल छात्र परिषद की अगुवाई वाले कॉलेज छात्र संघ ने कहा कि इस तरह की घटनाओं के पीछे कोई साजिश लगती है क्योंकि इससे पहले लगातार तीन दिन तक तीन अन्य कॉलेजों की मेधा सूची में अभिनेत्री सनी लियोनी (Sunny Leone) का नाम इसी तरह प्रकाशित हुआ था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 30, 2020, 10:39 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल के तीन कॉलेजों की स्नातक की प्रवेश सूचियों में अभिनेत्री सनी लियोनी का नाम प्रकाशित होने के बाद माल्दा जिले के एक कॉलेज की मेधा सूची में शीर्ष पर बॉलीवुड गायिका नेहा कक्कड़ का नाम आना चर्चा का विषय बना हुआ है. अधिकारियों ने इसे कुछ शरारती तत्वों का कृत्य बताया है.

माल्दा के माणिकचक कॉलेज के अधिकारियों ने कहा कि उन्होंने शुक्रवार को पहली मेधा सूची प्रकाशित होने के बाद गायिका कक्कड़ का नाम देखा और इस त्रुटि को सुधारते हुए नयी सूची प्रकाशित की है.

कॉलेज के प्राचार्य अनिरुद्ध चक्रवर्ती ने कहा, ‘‘हमने स्थानीय थाने और पश्चिम बंगाल पुलिस के साइबर अपराध प्रकोष्ठ में शिकायतें दर्ज कराई हैं. यह कुछ लोगों की शरारत है जो मेधा सूची में इस तरह के नाम शामिल करके उच्च शिक्षा प्रणाली तथा पारदर्शी ऑनलाइन प्रवेश प्रक्रिया को बदनाम करना चाहते हैं.’’



तृणमूल छात्र परिषद की अगुवाई वाले कॉलेज छात्र संघ ने कहा कि इस तरह की घटनाओं के पीछे कोई साजिश लगती है क्योंकि इससे पहले लगातार तीन दिन तक तीन अन्य कॉलेजों की मेधा सूची में अभिनेत्री सनी लियोनी का नाम इसी तरह प्रकाशित हुआ था.
उत्तर 24 परगना जिले के बारासात सरकारी कॉलेज में शनिवार को अंग्रेजी ऑनर्स की सूची में तीसरे स्थान पर लियोनी का नाम था. उनसे पहले अमेरिकी पॉर्न स्टार डेनी डेनियल्स और लेबनान की वेबकैम मॉडल मिया खलीफा के नाम देखे गये.

इससे पहले शुक्रवार को लियोनी का नाम दक्षिण 24 परगना जिले के बज बज कॉलेज में बीए (ऑनर्स) के लिए चयनित 157 अभ्यर्थियों की सूची में 151वें स्थान पर दिखाई दिया था.

बृहस्पतिवार को इस तरह की पहली घटना सामने आई थी जब कोलकाता के आशुतोष कॉलेज में अंग्रेजी ऑनर्स में प्रवेश के लिए चयनित मेरिट लिस्ट में सबसे ऊपर लियोनी का नाम था.

पश्चिम बंगाल सरकार ने घोषणा की थी कि इस साल स्नातक पाठ्यक्रमों में प्रवेश पूरी तरह से ऑनलाइन प्रक्रिया से होगी और महामारी के कारण लोगों को हुई कठिनाइयों की वजह से कोई शुल्क नहीं वसूला जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज