लाइव टीवी

12 साल काम करने के बाद छलका नील नितिन मुकेश का दर्द, कहा- उठ जाएं या हार जाएं

News18Hindi
Updated: October 30, 2019, 12:19 PM IST
12 साल काम करने के बाद छलका नील नितिन मुकेश का दर्द, कहा- उठ जाएं या हार जाएं
नील, जाने-माने पार्श्व गायक मुकेश के पोते हैं.

अभिनेता नील नितिन मुकेश (Neil Nitin Mukesh) ने 2007 में श्रीराम राघवन की थ्रिलर ‘‘जॉनी गद्दार’’ से अपने करियर की शुरुआत की थी. अब वे दूसरी भाषाओं में भी फिल्में करनी शुरू कर चुके हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 30, 2019, 12:19 PM IST
  • Share this:
मुंबई. अभिनेता नील नितिन मुकेश (Neil Nitin Mukesh) मानते हैं कि फिल्म उद्योग एक बॉक्सिंग रिंग की तरह है जहां खेल तब तक खत्म नहीं होता जब तक मुकाबले में एक व्यक्ति हार न जाए या खेल का वक्त पूरा न हो जाए. नील का कहना है कि कलाकार लगातार वापसी के लिए जूझता है और आखिरी तक लड़ता है.

2007 में श्रीराम राघवन की थ्रिलर ‘‘जॉनी गद्दार’’ से अपने करियर की शुरुआत करने वाले नील ने ‘‘न्यूयार्क’’, ‘‘7 खून माफ’’ और ‘‘डेविड’’ जैसी फिल्मों में भी अपने अभिनय के जौहर दिखाए.

न केवल उनकी फिल्में लोकप्रिय हुईं बल्कि आलोचकों ने भी उनके अभिनय को सराहा. उन्होंने वह दौर भी देखा जब उनकी फिल्में फ्लॉप हुईं. उन्होंने बताया कि समय ने उन्हें बहुत मजबूत बना दिया.

प्रेस ट्रस्ट को दिए साक्षात्कार में उन्होंने कहा ‘‘फिल्म उद्योग ने मुझे सिखाया कि यह एक बॉक्सिंग मैच है जहां हर शुक्रवार को आपको अहसास होता है कि या तो आप उठ जाएं या हार जाएं. आपको उठना पड़ता है और वापसी के लिए जी जान लगाना पड़ता है. फिल्म उद्योग ने मुझे सिखाया कि अपने लिए लड़ना आसान नहीं है. आपको खुद को साबित करना होता है, वह भी पूरे दम खम के साथ.’’



नील ने कहा कि अपने 12 साल के करियर में उन्होंने श्रीराम, विशाल भारद्वाज, कबीर खान और विजय नांबियार जैसे फिल्मकारों के साथ काम किया, यह उनका सौभाग्य है. नील के अनुसार, इन लोगों से उन्होंने फिल्म निर्माण के बारे में बहुत कुछ सीखा.

उन्होंने कहा ‘‘सीख देने वाली यात्रा रही. मैंने अभिनेता बनने से पहले अभिनय की कोई औपचारिक ट्रेनिंग नहीं ली थी. हर दिन मैं सीखता गया. अच्छे निर्माताओं के साथ बहुत कुछ सीखने को मिला. अलग अलग भाषाओं में मैंने फिल्में कीं और उनसे भी सीखा.’’
Loading...

एक्ट्रेस से सांसद बनीं नुसरत जहां और मिमी ने मनाया 'भाई फोंटा', देखें PHOTOS

नील ने कहा ‘‘मेरे लिए नंबर गेम वाली बात तो है ही नहीं. मैंने जिनके साथ काम किया, उनसे सीखा. बॉक्स ऑफिस का गणित कभी मुझे समझ आया ही नहीं.’’

37 वर्षीय नील मानते हैं कि सिनेमा कभी भी, कहीं भी नहीं ठहरता इसलिए उनका अलग अलग भाषाओं की फिल्में करने का फैसला सही है. ‘‘इससे मेरी सोच में भी बहुत बदलाव हुआ.’’

एक्टर कार्तिक आर्यन ने पोस्ट की बहन संग भाई दूज की फोटो, बताया- बेस्ट भाई

अब नील खुद निर्माता बन गए. उन्होंने ‘‘बाई पास रोड’’ का निर्माण किया और पटकथा भी लिखी. फिल्म का निर्देशन उनके भाई नमन नितिन मुकेश ने किया है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बॉलीवुड से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 30, 2019, 12:19 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...