अभिनेताओं ने कहा- OTT पर बड़े स्टार की नहीं, अच्छी कहानी और दमदार अभिनय की जरूरत

ओटीटी की प्रतीकात्मक इमेज.

कई अभिनेताओं का कहना है कि ऑनलाइन माध्यम पर अच्छी कहानी और दमदार अभिनय से कार्यक्रम को सफल बनाया जा सकता है. अभिनेताओं का कहना है कि ओटीटी पर ओपनिंग या सप्ताहांत संग्रह की जरूरत नहीं होती है. अगर कार्यक्रम दर्शकों को पसंद नहीं तो वह दूसरे कार्यक्रम को चुनता है.

  • Share this:
    मुंबई. कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के कारण लगाए गए लॉकडाउन के दौरान वेब सीरीजों को बढ़ावा मिला है और इंटरनेट पर मनोरंजन सामग्री उपलब्ध होने (OTT) से कई नवोदित अभिनेताओं को पहचान और शोहरत मिली है. कई अभिनेताओं का कहना है कि ऑनलाइन माध्यम पर अच्छी कहानी और दमदार अभिनय से कार्यक्रम को सफल बनाया जा सकता है.

    अभिनेताओं का यह भी कहना है कि ओटीटी पर ओपनिंग या सप्ताहांत संग्रह की जरूरत नहीं होती है. साथ में इसमें बड़े स्टार की भी जरूरत नहीं होती है. इसकी अपनी समस्या यह है कि अगर कार्यक्रम दर्शकों को आकर्षित नहीं कर पाता है तो वह दूसरे कार्यक्रम को चुनता है.

    अभिनेता पंकज त्रिपाठी (Pankaj Tripathi) ने कहा, ‘ओटीटी पर आपको ऑपनिंग या सप्ताहांत संग्रह की जरूरत नहीं होती है. फिल्मों के साथ होता यह है कि अगर कोई फिल्म अच्छी होती है और वह बॉक्स ऑफिस पर अच्छा नहीं करती है तो लोग उसे फ्लॉप बताते हैं.’ उन्होंने कहा, ‘ऑनलाइन मंचों पर निर्माताओं के पास स्वतंत्रता होती है, क्योंकि इस पर तिकड़म नहीं चलता है. इस पर कहानी और प्रस्तुति मायने रखती है. सिनेमा में भूमिका के साथ न्याय करने के लिए सिर्फ दो घंटे होते हैं जबकि ऑनलाइन मंच पर आप जो कहना चाहते हैं, वह छह घंटे में कह सकते हैं.’

    अभिनेता ने आगे कहा कि जब कहानी अहम हो जाती है तो ऐसे अभिनेताओं की जरूरत होती है जो कहानी की परतों को सामने रख सकें. ओटीटी से जुड़ना आसान है, लेकिन उस पर खारिज होना भी उतना ही आसान है क्योंकि दर्शक को कहानी पसंद नहीं आई तो वे दूसरे कार्यक्रम देखने लगेंगे.

    गौरतलब है कि त्रिपाठी ने नेटफ्लिक्स की गुंजन सक्सेना, एमेजॉन की ‘मिर्जापुर सीजन दो’ और डिज़नी हॉटस्टार की ‘क्रिमिनल जस्टिसः बिहाइंड क्लोजड डोर्स’ में काम किया है. ‘पाताल लोक’ में काम करने वाले जयदीप अहलावत ने कहा, ‘तीसरे पर्दे (सिनेमा, टीवी के बाद ऑनलाइन) के उभरने से अभिनेताओं को व्यापक तौर पर दर्शकों तक पहुंचने का सुनहरा मौका मिला है. इसके जरिए भारत के छोटे शहरों के दर्शकों तक भी पहुंचा जा सकता है.’

    उन्होंने पीटीआई-भाषा से कहा कि ऑनलाइन माध्यम में अनूठी कहानियों और लंबे प्रारूप की कहानियों के मद्देनजर अभिनेताओं को चाहिए वे अपरंपरागत भूमिकाएं निभाएं, जो दर्शकों को आकर्षित करें.

    कास्टिंग डायरेक्टर अभिषेक बनर्जी ने कहा कि, वह 5 वर्षों से कह रहे हैं कि अगर कलाकार प्रयोग करना चाहते हैं तो उनके लिए ऑनलाइन माध्यम सबसे अच्छा स्थान है. उन्होंने कहा, ‘लोकतंत्र का सच्चा निष्कर्ष वेब (ऑनलाइन) पर है क्योंकि आप अपने घर पर कार्यक्रम देख रहे हैं. आप कोई टिकट नहीं खरीद रहे हैं. अगर आपको कोई चीज़ पसंद नहीं है तो आपको उसे 10 मिनट से ज्यादा देखने की जरूरत नहीं है. इस माध्यम पर निर्माताओं के लिए भी स्वतंत्रता है, क्योंकि वे जो करना चाहते हैं वे बिना इस चिंता के कर सकते हैं कि उन्हें दर्शक मिलेंगे या नहीं.’ एक्ट्रेस सयानी गुप्ता ने कहा, ‘ओटीटी पर आपको ऐसे अच्छे अभिनेता की जरूरत है, जो सिर्फ किरदार में सही बैठता हो. आपको कार्यक्रम का अच्छा प्रदर्शन करने के लिए बड़े नाम या स्टार की जरूत नहीं है.’

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.