1958 में इस अभिनेत्री ने पहना था स्विम-सूट, 54 साल की उम्र में कैंसर से हुआ निधन  

1958 में आई फिल्म ‘दिल्ली का ठग’ में नूतन एक तैराक के रोल में थी और इस फिल्म के लिए उन्होंने एक तैराकी पोशाक यानि स्विमिंग कॉस्ट्यूम पहना था.

Sushant Mohan | News18Hindi
Updated: June 4, 2019, 7:13 AM IST
1958 में इस अभिनेत्री ने पहना था स्विम-सूट, 54 साल की उम्र में कैंसर से हुआ निधन  
अभिनेत्री नूतन
Sushant Mohan | News18Hindi
Updated: June 4, 2019, 7:13 AM IST
नूतन, बॉलीवुड की उन अदाकाराओं में से एक मानी जाती हैं जो अपने समय से बेहद आगे रहीं. वो बंगाली और हिंदी फिल्मों की जानी मानी अभिनेत्री शोभना समर्थ की बेटी थीं. बॉलीवुड में आने से पहले शोभना ने नूतन को स्विटज़रलैंड सिर्फ इसलिए भेजा ताकि वो अपनी एक्टिंग की पढ़ाई पूरी कर सकें. 40 के दशक में पढ़ाई के लिए, वो भी अभिनय या फिल्म की पढ़ाई के लिए विदेश जाना अपने आप में एक बड़ी बात थी.

ये भी पढ़ें- सलमान खान ने पीएम मोदी के लिए किया ऐसा ट्वीट, हो गया वायरल

बाहर से पढ़कर और अभिनय व सिनेमा की शिक्षा लेकर आई नूतन के लिए बॉलीवुड सहज हो गया था. यहां अभी भी वो तकनीक और तरीके इस्तेमाल किए जा रहे थे जिन्हें यूरोपियन सिनेमा पीछे छोड़ चुका था. ऐसे में बॉलीवुड में उनका चर्चा था ही लेकिन उनके एक आउटफिट ने उन्हें रातोंरात स्टार बना दिया.



1958 में आई फिल्म ‘दिल्ली का ठग’ में नूतन एक तैराक के रोल में थी और इस फिल्म के लिए उन्होंने एक तैराकी पोशाक यानि स्विमिंग कॉस्ट्यूम पहना था. इस पोशाक को पहने उनकी एक तस्वीर खासा चर्चा का विषय बनी हुई थी और एक सधी हुई अदाकारा का ग्लैमरस अंदाज़ लोगों को भा गया था.

नूतन ने कई हिट फिल्में दी और वो लगातार अपने अभिनय के शिखर पर रहीं. उनकी आलोचना करने वाले भी उनके प्रशंसक बन जाते थे. ऐसा लगने लगा था कि वो हिंदी सिनेमा को कई महान किरदार देने वाली हैं लेकिन दुर्भाग्य से उन्हें कैंसर जैसी बीमारी हो गई और 54 साल की आयु में ही वो इस दुनिया को अलविदा कह गईं.

दिलीप कुमार के साथ काम
Loading...

नूतन को ज़िंदगी में इस बात का बहुत मलाल था कि उन्होंने अपने समय के हर टॉप हीरो के साथ काम किया था लेकिन वो दिलीप कुमार के साथ काम नहीं कर पाई. इस बात का कारण रहा नूतन और दिलीप साहब की लगातार व्यस्त रहना. राज कपूर और देवानंद की फिल्मों में बिज़ी नूतन दिलीप साहब की फिल्मों के लिए वक्त नहीं निकाल पाई.



दिलीप साहब के साथ मधुबाला, कामिनी कौशल, वैजयंतीमाला सरीखी अदाकाराओं ने काम किया. लेकिन नूतन की ये ख्वाहिश उनके करियर के आखिरी पड़ाव में जाकर पूरी ज़रुर हुई.

सुभाष घई की फिल्म ‘कर्मा’ में दिलीप की पत्नी के रुप में वो मौजूद रही थी. इस दौरान एक मैगज़ीन इंटरव्यू में दिलीप कुमार ने भी कहा था कि वो हैरानी महसूस करते हैं कि इतने सालों तक उन्होंने नूतन के साथ काम नहीं किया और इसमें कहीं न कहीं वो भी बदकिस्मत रहे.



नूतन जो काम अपने करियर के पीक पर नहीं कर सकीं वो उन्होंने अपने करियर के ढलान पर पूरा किया और अंत में जब कैंसर की दुखद खबर तक उनतक पहुंची तब तक वो अपनी लगभग हर इच्छा को पूरा कर चुकी थीं. नूतन के बेटे मोहनीश बहल इस बात को हमेशा मानते हैं कि अगर उनकी मां का निधन जल्दी नहीं हुआ होता तो उन्हें (मोहनीश) बेहतर गाइडेंस मिली होती क्योंकि नूतन से बेहतर गाइड कौन हो सकता था?

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
First published: June 3, 2019, 9:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...