पद्मिनी कोल्हापुरी को याद आया वह दौर, बोलीं- 'मैंने 17-18 साल की उम्र में निभाया था मां का रोल'

पद्मिनी कोल्हापुरी ने कई फिल्मों में मां का रोल निभाया है (फोटो साभारः Instagram/padminikolhapure)

पद्मिनी कोल्हापुरी ने कई फिल्मों में मां का रोल निभाया है (फोटो साभारः Instagram/padminikolhapure)

हाल में एक्ट्रेस पद्मिनी कोल्हापुरी (Padmini Kolhapure) ने फिल्मों में मां के रोल (Mother's Role) पर बात की और बताया कि इस तरह के रोल में समय के साथ काफी बदलाव हुए हैं. एक्ट्रेस ने बताया कि जब वे 17-18 साल की थीं, तब उन्होंने मां का रोल पर्दे पर निभाया था.

  • Share this:

नई दिल्लीः एक्ट्रेस पद्मिनी कोल्हापुरी (Padmini Kolhapure) ने हाल में फिल्मी पर्दे पर निभाए गए मां के रोल (Mother's Role) पर बात की और बताया कि पिछले कुछ सालों में इस तरह के रोल में किस तरह के बदलाव आए हैं. एक्ट्रेस ने यह भी बताया कि उन्होंने टीनएज में मां का रोल निभाया था. पद्मिनी ने यह भी कहा है कि फिल्मी पर्दे पर मां के रोल में काफी बदलाव आया है, क्योंकि अब महिलाएं ज्यादा खुले विचारों की हो गई हैं और अगर पिछले समय से तुलना कि जाए तो आज की औरतों के सोचने का ढंग भी काफी बदल गया है.

पद्मिनी ने 2013 में आई फिल्म 'फटा पोस्टर निकला हीरो' (Phata Poster Nikhla Hero) में शाहिद कपूर (Shahid Kapoor) की मां का रोल निभाया था. वे 2020 में मराठी फिल्म 'प्रवास' में भी दिखी थीं. हाल में, एक्ट्रेस ने अपने बेटे प्रियांक शर्मा (Priyaank Sharma) की शादी फिल्म निर्माता करीम मोरानी की बेटी शाजा मोरानी के साथ करवाई थी. पिंकविला को दिए एक इंटरव्यू में, पद्मिनी ने कहा, 'आप कह रहे हैं कि मैंने फटा पोस्टर निकला हीरो में एक मां का रोल निभाया था, वास्तव में मैंने मां का रोल तब निभाया था, जब मैं 17-18 साल की थी. मैंने 'प्यार के काबिल' जैसी फिल्में की थीं, जिसमें मैंने एक मां का रोल निभाया था.'

(फोटो साभारः Instagram/padminikolhapure)

वे आगे कहती हैं, 'फिल्म 'प्यार झुकता नहीं' में भी मैंने एक मां की भूमिका निभाई थी. बेशक, छोटी थी, पर मैंने एक मां की भूमिका निभाई थी. आप जानते हैं कि मुझे नहीं पता था कि मां होना क्या है, मुझे नहीं पता था कि एक मां क्या महसूस करती है. ऐसा नहीं है कि जब मैंने 'फाटा पोस्टर' की थी, तब मैं कुछ अलग करने के लिए प्रेरित हुई थी. लेकिन, आप देख सकते हैं कि एक मां के रोल में काफी बदलाव आया है. आज महिलाएं अलग तरह से सोच रही हैं, महिलाएं ज्यादा उदार हैं, ज्यादा खुले विचारों और ज्यादा बड़ी सोच वाली हैं. इसलिए ओटीटी या फिल्मों और टेलीविजन में मां के कई तरह के रोल देखने को मिल जाएंगे.'
आज फिल्म निर्माता मां के रोल को किस तरह दिखा रहे हैं, इस पर बोलते हुए, एक्ट्रेस ने कहा, 'अब वे पुराने दिन नहीं हैं कि कैसे एक मां को दिखाया जाए या एक सास को दर्शाया जाए. इसलिए वे रोल को और ज्यादा सजीव बना रहे हैं, हकीकत के करीब ला रहे हैं, ताकि ईमानदारी के साथ दिखा सकें कि मां क्या है.'

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज