पूजा बेदी और सुधांशु पांडे को रेप विक्टिम की पहचान उजागर करना पड़ा भारी, कोर्ट ने भेजा समन

कोर्ट ने दोनों से मंगलवार को जवाब सवाल भी किए गए हैं.

कोर्ट ने दोनों से मंगलवार को जवाब सवाल भी किए गए हैं.

एक्टर-सिंगर करण ओबेरॉय (Karan Oberoi ) पर पीड़िता द्वारा बलात्कार और ब्लैकमेल करने का आरोप लगाया गया है. इस मामले में पीड़िता की पहचान उजागर करने को लेकर पूजा बेदी और सुधांशु पांडे सहित 6 अन्य लोगों को मुंबई की एक अदालत ने समन जारी किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 31, 2021, 9:18 AM IST
  • Share this:
मुंबई. बोल्ड एक्ट्रेस पूजा बेदी (Pooja Bedi) और 'अनुपमां' फेम एक्टर सुधांशु पांडे (Sudhanshu Pandey) मुसीबत में घिर गए हैं. करण ओबेरॉय केस (Karan Oberoi  Case) में बलात्कार पीड़िता की पहचान उजागर करने के मामले में पूजा बेदी और सुधांशु पांडे सहित 6 अन्य लोगों को मुंबई की एक अदालत ने समन जारी किया है. दोनों से मंगलवार को जवाब-सवाल भी किए गए हैं.

दरअसल, एक्टर-सिंगर करण ओबेरॉय (Karan Oberoi ) पर पीड़िता द्वारा बलात्कार और ब्लैकमेल करने का आरोप लगाया गया है. मई 2019 में ओशिवारा पुलिस के पास एक शिकायत दर्ज की गई थी, जिसके तहत IPC की धारा 376 (बलात्कार) और 384 (जबरन वसूली) के तहत उन पर मामला दर्ज किया गया है.

इस मामले के सामने आने के बाद पूजा बेदी और सुधांशु पांडे सहित कई लोगों ने करण के समर्थन में अपना पक्ष रखा था, जिसके बाद इन लोगों के खिलाफ शिकायतकर्ता ने जून 2019 में यह शिकायत दर्ज की गई थी.

शिकायतकर्ता की वकील मंशा भाटिया ने एक न्यूज एजेंसी को बताया था कि मेरे क्लाइंट जो रेप पीड़िता हैं, उसकी पहचान उजागर करने के लिए भारतीय दंड संहिता 1860 की धारा 228 ए के तहत मामला दर्ज किया गया है. सभी आरोपियों को पुलिस जांच के बाद समन जारी किया गया है, जिन्हें अब अदालत में पेश होना है.
इस मामले में पूजा ने कहा कि यह चिंताजनक है कि एक निर्दोष इंसान का नाम सार्वजनिक रूप से लेकर उसे बदनाम किया जा सकता है, लेकिन रेप का झूठा आरोप लगाने वाली महिलाओं की पहचान छिपाकर रखी जाती है. उन्होंने कहा कि मैंने किसी भी इंटरव्यू में उसकी पहचान का खुलासा नहीं किया है. मैंने हमेशा यह स्पष्ट किया है कि नाम नहीं लिया जा सकता है. पूजा ने आगे कहा कि मैंने हमेशा तक महिलाओं के अधिकारों को सपोर्ट किया है. लेकिन वह उन कानूनों का दुरुपयोग कर रही हैं जो महिलाओं की सुरक्षा के लिए बनाए गए थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज