प्रीति सप्रू को सतीश कौल की आखिरी कॉल का जवाब न दे पाने का है अफसोस

प्रीति सप्रू सतीश कौल को लगभग 45 सालों से जानती थीं (फोटो साभारः Instagram/pritisapru)

प्रीति सप्रू सतीश कौल को लगभग 45 सालों से जानती थीं (फोटो साभारः Instagram/pritisapru)

एक्ट्रेस प्रीति सप्रू (Priti Sapru) दमदार एक्टर सतीश कौल (Satish Kaul) के निधन से काफी दुखी हैं. एक्टर कोरोना वायरस (Covid 19) से संक्रमित थे. प्रीति को अफसोस है कि वे सतीश जी की आखिरी कॉल का जवाब नहीं दे पाईं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 11, 2021, 6:09 AM IST
  • Share this:
नई दिल्लीः एक्टर सतीश कौल (Satish Kaul), बीआर चोपड़ा (B R Chopra) की भव्य फिल्म महाभारत (Mahabharat) में भगवान इंद्र का रोल निभाने के लिए जाने जाते हैं. आज उनका कोरोना के चलते निधन हो गया. उनकी तीन दिन पहले कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी. एक्ट्रेस प्रिती सप्रू (Priti Sapru), जो लगातार उनके संपर्क में थीं और आर्थिक तंगी के समय उनकी मदद भी की थी, ने बताया है, 'उन्हें तीन दिन पहले बुखार आया था और इसके बाद उनका टेस्ट किया गया था. उनकी बहन, सुषमा कौल ने मुझे सूचित किया था कि उन्हें बुखार आने के बाद उनका कोविड​-19 टेस्ट किया गया था. आज दोपहर करीब 2 बजे उनका निधन हो गया.'

प्रीति सतीश को लगभग 45 सालों से जानती थीं. ईटाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, वे प्रीति के पिता से मिला करते थे और उनसे राय लेते थे कि कैसे उन्हें फिल्मों में आना चाहिए. प्रीति बहुत भावुक होकर कहती हैं, 'जब मैं उनसे पहली बार मिली थी, तब मैं बहुत छोटी थी. वे ज्यादातर सफेद कपड़े पहनते थे और बहुत हैंडसम थे. यह एक बहुत बड़ी क्षति है और मेरे लिए उनके निधन की खबर से उबर पाना मुश्किल है. मैं सतीश को एक बेहद प्यारे व्यक्ति के रूप में याद करती हूं.'

एक्ट्रेस का सबसे बड़ा अफसोस है कि वे सतीश की आखिरी कॉल का जवाब नहीं दे सकी थीं. वह कहती है, 'वे मुझे नियमित रूप से बुलाते थे. मैं उनके केयरटेकर से संपर्क में बनी हुई थी, जो मुझे उनके स्वास्थ्य के बारे में नियमित अपडेट देते रहते थे. उन्होंने मुझे कुछ दिन पहले बुलाया था, लेकिन मैं उनका जवाब नहीं दे सकी, क्योंकि मैं अपनी सोसाइटी में कोरोना के हालात से निपटने में बिजी थी.'

वे आगे कहती हैं, 'मैं अपनी सोसाइटी के कोर ग्रुप की सदस्य हूं. मुझे लोगों की सुरक्षा और वायरस के फैलने से रोकने की जिम्मेदारी दी गई थी. मेरा सबसे बड़ा अफसोस, उनकी आखिरी कॉल का जवाब न दे पाना है. यह सब करते हुए, मैं पंजाब में उनके लिए एक अच्छे घर की व्यवस्था करने की कोशिश कर रही थी, जहां वे आराम से और शांति से रह सकें. यह बहुत बड़ा नुकसान है.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज