• Home
  • »
  • News
  • »
  • entertainment
  • »
  • CAA पर बॉलीवुड हस्तियों की चुप्‍पी च्वाइस है या मजबूरी!

CAA पर बॉलीवुड हस्तियों की चुप्‍पी च्वाइस है या मजबूरी!

बॉलीवुड के बड़े स‍ितारों को उनकी चुप्‍पी के ल‍िए ट्राेल क‍िया जा रहा है. .

बॉलीवुड के बड़े स‍ितारों को उनकी चुप्‍पी के ल‍िए ट्राेल क‍िया जा रहा है. .

ये कोई पहला मामला नहीं है जब बॉलीवुड के बड़े सितारों को समाज से जुड़े विषयों और विवादों पर चुप्‍पी अख्तियार करने के लिए ट्रोल किया गया है. फिर ऐसा क्‍यों होता है कि सितारे अक्‍सर ऐसे मौकों पर चुप्‍पी साधने या इस सारे विवाद को इग्‍नोर करने की कोशिश करते हैं.

  • Share this:
    इस समय देश के कई हिस्‍सों में नागरिकता (संशोधन) कानून, 2019 (Citizen Amendment Act) के खिलाफ जमकर विरोध प्रदर्शन और आंदोलन हो रहा है. इस आंदोलन ने कई जगह हिंसक रूप भी ले लिया तो कई जगह हजारों की भीड़ भी शांति के साथ विरोध प्रदर्शन करती नजर आई. इस कानून पर सत्ता पक्ष अपनी राय रख रहा है तो वहीं विपक्ष अपने तर्क दे रहा है, लेकिन जैसे ही देश की नागरिकता से जुड़े इस कानून पर चर्चा होनी शुरू हुई कुछ अजीब से हैशटैग ट्विटर पर सामने आए, जैसे #Bollywood और #BollywoodKeBekaarBuddhe... दरअसल ये हैशटैग इसलिए ट्रेंड हुए क्‍योंकि लोगों का कहना था कि नागरिकता संशोधन कानून पर बॉलीवुड के सितारों ने चुप्‍पी क्‍यों साथ रखी है.

    इस बिल का विरोध कर रहे जामिया मिल्लिया इस्‍लामिया यूनिवर्सिटी के छात्रों पर हुई पुलिस की कार्रवाई के बाद युवाओं को उम्‍मीद थी कि फिल्‍मी सितारे अपनी राय रखेंगे. लेकिन जब ऐसा नहीं हुआ तो ट्विटर पर कई लोगों ने बॉलीवुड के कई सितारों को इस बात के लिए भला-बुरा कहा. ये कोई पहला मामला नहीं है जब बॉलीवुड के बड़े सितारों को समाज से जुड़े विषयों और विवादों पर चुप्‍पी अख्तियार करने के लिए ट्रोल किया गया है. फिर ऐसा क्‍यों होता है कि सितारे अक्‍सर ऐसे मौकों पर चुप्‍पी साधने या इस सारे विवाद को इग्‍नोर करने की कोशिश करते हैं.



    समाज से जुड़े मुद्दों पर क्‍यों अहम होती है 'बॉलीवुड' की राय
    70 एमएम के पर्दे पर एक अकेला हीरो कई गुंडों को एक ही घूंसे में उड़ा देता है... या एक ही गाने में नाचते-नाचते हीरो-हीरोइन वादियों से लेकर समुद्र की लहरों पर पहुंच जाते हैं... दरअसल फिल्‍मी दुनिया में सब कुछ लार्जर देन लाइफ जैसा दिखाया जाता है.

    anil with salman and aamir

    अक्‍सर फिल्‍म का हीरो वो सब कुछ कर सकता है, जो एक आम इंसान नहीं कर पाता है. यही कारण है कि बॉलीवुड के सितारों को लोग सिर-आंखों पर बैठाते हैं. ऐसे में जब भी हमारे आसपास के समाज में कुछ होता है, तो अक्‍सर लोग इन सितारों की तरफ बड़ी उम्‍मीद से देखते हैं. इतना ही नहीं, इन सितारों का प्रभाव भी बहुत बड़े स्‍तर पर होता है. यही वजह है कि अक्‍सर लोग ऐसे किसी भी विवाद में सितारों की राय जानना चाहते हैं.

    Amitabh Bachchan 50 Years in Bollywood, Amitabh Bachchan fatcs, Amitabh Bachchan films, Amitabh Bachchan first salary, Amitabh Bachchan in politics, Abhishek bachchan, bollywood, entertainment, अमिताभ बच्चन ने बॉलीवुड में पूरे किए 50 साल, अमिताभ बच्चन फैक्ट, अमिताभ बच्चन फिल्म, अमिताभ बच्चन की पहली सैलरी, अमिताभ बच्चन राजनीति, बॉलीवुड, मनोरंजन

    क्‍या हर एक्‍टर का 'होशियार' होना जरूरी है
    दरअसल एक्‍सपर्ट्स की मानें तो हमारे देश में अक्‍सर सेलीब्रिटीज से कुछ ज्‍यादा ही उम्‍मीद की जाती है. हम अक्‍सर उन्‍हें असल हीरो मान लेते हैं और उम्‍मीद करते हैं कि वो एक समय में सब कुछ कर लें. लेकिन ये सही नहीं है. ये जरूरी नहीं कि एक अच्‍छा एक्‍टर एक अच्‍छा वक्‍ता भी हो, या एक अच्‍छा एक्‍टर अपने शब्‍दों को संयमित रखने में भी उतना ही जागरूक हो. एक अच्‍छा एक्‍टर हमेशा न्‍यूज देखता हो ये भी जरूरी नहीं है. वो अपने क्राफ्ट में माहिर हैं, लेकिन वह हमेशा खबरों के प्रति जागरूक रहें, ये जरूरी नहीं. इतना ही नहीं, अक्‍सर बॉलीवुड सितारों से हम कुछ ज्‍यादा ही उम्‍मीद कर लेते हैं, जबकि ऐसे मामलों पर क्रिकेटर, साहित्‍यकारों या किसी अन्‍य विधा से जुड़े लोगों की चुप्‍पी हमें उतनी नहीं खलती है.



    राय रखकर, निशाना बने हैं सितारे
    आपको याद दिला दें कि कई बार बॉलीवुड के बड़े सितारे अपनी राय रखने के चलते आलोचनाओं और विवादों का भी श‍िकार हुए हैं. देश में असहिष्‍णुता के विषय पर आमिर खान ने जब अपनी राय रखी थी, तो उन्‍हें जमकर विरोध झेलना पड़ा था. इतना ही नहीं इस विरोध के बाद आमिर के हाथ से कई बड़े विज्ञापन भी निकले थे. इतना ही नहीं, इस पूरे मामले पर छात्रों पर हो रही हिंसा से जुड़ा एक वीडियो गलती से लाइक करने के चलते एक्‍टर अक्षय कुमार भी जमकर ट्रोल हो चुके हैं. अक्षय कुमार को अपनी इस गलती के माफी भी मांगनी पड़ी. वहीं एक्‍टर प्रकाश राज भी इस बात पर अपनी राय रख चुके हैं कि जब से उन्‍होंने अपनी राय खुलकर सामने रखी है, उन्‍हें फिल्‍मों में काम मिलना बंद हो गया है.

    हैदराबाद गैंगरेप पर बोले अक्षय कुमार- कड़े कानून की सख्त जरूरत

    विवाद से नहीं, बॉक्‍स ऑफिस से डर लगता है साहब
    विवादित मामलों पर सितारों की चुप्‍पी की बात करें तो इसका सीधा कनेक्‍शन उनके व्‍यवसाय से है. फिल्‍म इंडस्‍ट्री का पूरा बिजनेस लोगों की राय और उनसे जुड़ा हुआ है. एक सितारा तब तक ही सितारा है, जब तक लोग उसके दीवाने हैं. लेकिन अक्‍सर ऐसे मामलों पर बोलने वाले स्‍टार को उनकी फिल्‍में न चलने देने या फिल्‍मों को न देखने की धमकी दी जाती हैं जो सीधे-सीधे उसे प्रभावित करती है. एक्‍ट्रेस स्‍वरा भास्‍कर ने फिल्‍म 'वीरे दे वेडिंग' के प्रमोशन के समय एक इंटरव्‍यू में कहा था, 'मैं अपनी राय हमेशा रखती हूं, लेकिन कई बार हमें समझना पड़ता है कि मैं एक एक्‍ट्रेस हूं और मुझ पर प्रोड्यूसर का पैसा लगा है. मेरे एक बयान से उन्‍हें भारी नुकसान हो सकता है.' स्‍वरा की इस बात में काफी सच्‍चाई है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज