भारत में कोरोना का कहर देख घबरा गई हैं प्रियंका चोपड़ा, बयां किया दर्द, कहा- 'मेरा दिल टूट गया'

प्रियंका चोपड़ा. फोटो साभार- @priyankachopra/Instagram

प्रियंका चोपड़ा. फोटो साभार- @priyankachopra/Instagram

प्रियंका चोपड़ा ने ट्विटर पर ट्वीट करते हुए अपना दर्द बयां किया है. उन्होंने अपने ट्वीट में US के राष्ट्रपति को टैग किया और उनसे COVID-19 वैक्सीन भारत को देने और मदद करने का आग्रह किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 27, 2021, 9:20 AM IST
  • Share this:
मुंबई. देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) संकट बढ़ता जा रहा है. हर दिन कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते लोग जूझ रहे हैं. अस्पतालों में ऑक्सीजन (Oxygen) की कमी देखने को मिल रही है. ऑक्सीजन को लेकर इस साल जितना हाहाकार देश में मचा है वो कोरोना की पहली वेव में नहीं देखने को मिला था. इस बीच सरकार ने ऑक्सीजन की कमी की भरपाई करने के लिए कई कदम उठाए हैं. भारत में कोरोना वायरस का कहर देखकर एक्ट्रेस प्रियंका चोपड़ा (Priyanka Chopra) का दिल टूट गया है.

प्रियंका चोपड़ा ने ट्विटर पर ट्वीट करते हुए अपना दर्द बयां किया है. उन्होंने अपने ट्वीट में US के राष्ट्रपति को टैग किया और उनसे COVID-19 वैक्सीन भारत को देने और मदद करने का आग्रह किया है. भारत में घातक कोरोना वायरस से नागरिकों की सुरक्षा के लिए सरकार ने COVID वैक्सीन लॉन्च किया और 45 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों को स्वयं टीकाकरण करने के लिए कहा. लेकिन दूसरी लहर के साथ, कुछ राज्यों को वैक्सीन नहीं मिल पा रहे है.

प्रियंका चोपड़ा ने ट्वीट करते हुए लिखा, 'मेरा दिल टूट गया. भारत COVID19 से पीड़ित है और अमेरिका ने जरूरत से ज्यादा 550M टीकों का ऑर्डर दिया है. AstraZeneca को दुनिया भर में बांटने के लिए आपको धन्यवाद, लेकिन मेरे देश में स्थिति गंभीर है. क्या आप वैक्सीन भारत को तत्काल साझा करेंगे?' इसी के साथ उन्होंने US के राष्ट्रपति को टैग किया है.

Priyanka Chpora
फोटो साभार: @PriyankaChpora/twitter

बताते चलें कि प्रियंका चोपड़ा (Priyanka Chopra) भारत में नहीं है लेकिन वह अनुरोधों को बढ़ा रही है और देश भर से कोविड से बचाव करने वाले संसाधनों का आदान-प्रदान कर रही हैं, जिससे की लोग अपनी आवश्यकता के अनुसार उन संसाधनों को पा सकें. अपनी वैश्विक पहुंच का उपयोग करते हुए, प्रियंका इस समय के दौरान हमारे साथी नागरिकों की मदद करने के लिए सामुदायिक भागीदारी की जरूरतों पर जोर दे रही हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज