रियल लाइफ के सामाजिक मुद्दों से प्रेरणा लेते हैं निर्माता और निर्देशक प्रकाश झा

रियल लाइफ के सामाजिक मुद्दों से प्रेरणा लेते हैं निर्माता और निर्देशक प्रकाश झा
प्रकाश झा.

फिल्म निर्माता और निर्देशक प्रकाश झा (Prakash Jha) ने कहा कि, ‘मैं किरदारों को दिलचस्प बनाता हूं और यही असली चुनौती है. मेरा सौभाग्य है कि व्यावसायिक सिनेमा के एक्टर मेरे साथ काम करने को लेकर खुश हैं.’

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 3, 2020, 5:14 PM IST
  • Share this:
मुंबई. फिल्म निर्माता और निर्देशक प्रकाश झा (Prakash Jha) का कहना है कि वे हमेशा असल जिंदगी के मुद्दों से प्रेरित होकर प्रासंगिक फिल्में बनाते आ रहे हैं. झा ने कई सामाजिक मुद्दों पर ‘दामुल’, ‘मृत्‍युदंड’, ‘गंगाजल (Gangajal)’, ‘अपहरण (Apaharan)’ जैसी फिल्में बनाकर समाज की प्रमुख बातों को उठाया.

झा ने पीटीआई से बातचीत में बताया कि,‘बहुत सारे लोग हैं जो सामाजिक मुद्दों पर फिल्में बनाते हैं. मैं समय के साथ चलता हूं, मैं देखता हूं कि चारों ओर क्या हो रहा है. मैं हमेशा किसी विशेष मुद्दे पर फिल्म बनाता हूं. मैं जो भी विषय चुनता हूं वो असल जिंदगी से प्रेरित होती हैं.'

उन्होंने कहा, ‘मैं किरदारों को दिलचस्प बनाता हूं और यही असली चुनौती है. मेरा सौभाग्य है कि व्यावसायिक सिनेमा के एक्टर मेरे साथ काम करने को लेकर खुश हैं.’



‘दो बीघा ज़मीन’ और ‘मदर इंडिया’ जैसी फिल्मों का उदाहरण देते हुए, निर्देशक ने कहा कि सामाजिक मुद्दों पर बनी फिल्मों को दर्शकों से अच्छी प्रतिक्रिया मिली है. उन्होंने कहा, ‘अगर कहानी दर्शकों को आकर्षित करती है, तो फिल्म चलेगी. समझदार दर्शक हैं. हर तरह का सिनेमा देखने के लिए तैयार हैं.’
झा की हाल ही में 'आश्रम' वेब सीरिज रिलीज हुई है जिसमें एक्टर बॉबी देओल ने ढोंगी महात्मा का किरदार निभाया है. बॉबी देओल (Bobby Deol) के लीड रोल और प्रकाश झा (Prakash Jha) निर्देशित और वाली वेब सिरीज ‘आश्रम (Ashram)’ एक ऐसे ही पाखंडी ‘बाबा’ की कहानी है, जो धर्म और सेवा की आड़ में कुछ लोगों का शोषण करता है. यह बाबा लोगों का शोषण इतनी सफाई से करता है कि शोषित होकर भी लोग खुद को धन्य समझते हैं. यह शुक्रवार को ही ओटीटी प्लेटफॉर्म एमएक्स प्लेयर पर रिलीज हुई है. निर्देशक प्रकाश झा ने नहीं बताया है कि यह किस बाबा पर आधारित है लेकिन वेब सीरीज की कहानी से ऐसा लगता है कि यह बाबा राम रहीम से प्रेरित है.



लेखक हबीब फैसल और निर्देशक प्रकाश झा ने इस सिरीज में न सिर्फ धर्मकी आड़ में अधर्म के काम को दिखाया है, बल्कि पाखंडी धर्मगुरूओं, अपराध और राजनीति के गठजोड़ को भी उजागर किया है. इसकी कहानी में दलित उत्पीड़न को भी दिखाया गया है. प्रकाश झा समाज और राजनीति से जुड़े मुद्दों को मनोरंजक ढंग से पर्दे पर दिखाने के मामले में सिद्धहस्त हैं. वह करिश्माई तरीके से लोगों तक अपना मनचाहा मैसेज पहुंचाते हैं और व्यावसायिक हित भी पूरा कर लेते हैं.

(पीटीआई इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज