'प्यार का पंचनामा' फेम सोनाली सहगल बोलीं: मां की वजह से मेरी क्रिएटिविटी विकसित हुई

सोनाली सहगल ने कहा है कि, उनकी मां अभी भी एक मेहनती और एक सुपर मॉम हैं. (Photo Credit @sonnalliseygall/Instagram)

सोनाली सहगल ने कहा है कि, उनकी मां अभी भी एक मेहनती और एक सुपर मॉम हैं. (Photo Credit @sonnalliseygall/Instagram)

सोनाली सहगल (Sonnalli Seygall) ने कहा कि, 'मैं मां को कुछ बताना चाहती हूं जो वैसे भी मैं उन्हें अक्सर बताती हूं कि मैं उनसे प्यार करती हूं. मैं जब भी भावुक होती हूं, मैं उन्हें रेंडमली यह बताने के लिए उन्हें वॉयस नोट्स या वीडियो संदेश भेजती हूं कि मैं उनसे कितना प्यार करती हूं.

  • Share this:

मुंबई. 'प्यार का पंचनामा' में अभिनय करके फेमस हुईं एक्ट्रेस सोनाली सहगल (Sonnalli Seygall) ने रविवार को मदर्स डे (Mothers Day) पर अपनी मां से सीखे गए जीवन सबसे बड़े लेशंस को याद किया. वे बताती है कि उनकी मां ने उन्हें सिखाया है कि कैसे भी हो हर हाल में मुस्कुराते रहो. 'यह आइडिया सिर्फ खुश रहने के लिए नहीं है बल्कि वास्तव में खुश और शांति रहने के लिए है. मुझे लगता है कि यह एक तरह की रेयर क्वालिटी है और मैं अपनी मां से इसे पाने के लिए आभारी हूं.

ईटाइम्स के साथ एक विशेष बातचीत में, अपनी स्पेशल लेडी के साथ एक सुखद स्मृति के बारे में पूछे जाने पर, वह कहती हैं कि, 'मेरी मां के साथ मेरी बहुत सारी यादें हैं. भले ही वह एक कामकाजी मां थीं, लेकिन वे मुझे और मेरे भाई को व्यक्तिगत रूप से पढ़ाती थीं. वे हमारी लाइफ के विभिन्न पहलुओं में शामिल थीं. वे हमें खेलने के लिए वास्तव में दिलचस्प बोर्ड गेम दिलाती थीं ताकि हम सिर्फ टीवी के सामने न बैठें और यहां तक कि वे हमें स्कूल भी छोड़ने जाती थीं. वे अभी भी एक मेहनती और एक सुपर मॉम हैं. मेरा व्यक्तित्व का क्रिएटिव साइड उनकी वजह से खिल उठा है.'

इस वर्ष के उत्सव के बारे में बात करते हुए वे कहती हैं, 'इस मातृ दिवस के दिन मैं उन्हें कुछ बताना चाहती हूं जो वैसे भी मैं उन्हें अक्सर बताती हूं कि मैं उनसे प्यार करती हूं. वह यह जानती हैं और मैं जब भी भावुक होती हूं, मैं उन्हें रेंडमली यह बताने के लिए उन्हें वॉयस नोट्स या वीडियो संदेश भेजती हूं कि मैं उनसे कितना प्यार करती हूं. हाल ही में मैं जब अपने गृह राज्य पश्चिम बंगाल में वापस कालिम्पोंग जा रही था, तब मुझे महसूस हुआ कि कभी-कभी बच्चों के रूप में हम उन चीजों को देखना भूल जाते हैं जो उन्होंने (माता-पिता) हमारे लिए की हैं. इसलिए मैं मम्मा को बताना चाहती हूं कि मैंने उनकी हर उस चीज से प्यार किया है जो उन्होंंने अपनी क्षमता में मेरे लिए की हैं.'

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज