लाइव टीवी

जयंती विशेषः इस डायरेक्टर के एक थप्पड़ के बाद क्लैप बॉय से हीरो बन गए राज कपूर

News18Hindi
Updated: December 14, 2019, 6:00 AM IST
जयंती विशेषः इस डायरेक्टर के एक थप्पड़ के बाद क्लैप बॉय से हीरो बन गए राज कपूर
राज कपूर ने केदार शर्मा की फिल्म में बतौर असिस्टेंट काम किया है.

राज कपूर (Raj Kapoor) ने हिन्दी सिनेमा में एक नया अध्याय जोड़ा है. अभिनेता-निर्देशक के रूप में उन्होंने कई नये कीर्तिमान स्‍थापित किए हैं. लेकिन इसकी शुरुआत एक थप्पड़ से हुई थी. जानिए इसकी पूरी कहानी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 14, 2019, 6:00 AM IST
  • Share this:
मुंबई. बॉलीवुड के शोमैन राज कपूर (Raj Kapor) की आज जयंती है. राज कपूर का जन्म 14 दिसंबर 1924 को पेशावार में हुआ था. भारत-पाकिस्तान बंटवारे के वक्त उनके पिता पृथ्वीराज कपूर भारत आए. उनकी रुचि थ‌िएटर में थी. उन्होंने अभिनय जगत में कई ऊंचाइयां हासिल की. उनके नक्‍शे कदम पर आगे बढ़े उनके बेटे राज कपूर ने हिन्दी सिनेमा में एक नया अध्याय लिख दिया. लेकिन इसकी शुरुआत के बारे में कम ही लोग जानते होंगे.

असल में फिल्म निर्देशक केदार शर्मा और राज कपूर का गहरा रिश्ता रहा है. राज कपूर (Raj Kapoor) ने अपने करियर के शुरआती दिनों में असिस्टेंट के तौर पर केदार शर्मा के साथ थे. एक बार क्लैप देने में गलती करने पर केदार ने राज को करारा थप्पड़ सबके सामने मारा था लेकिन राज ने रिएक्ट नहीं किया. तब राज की आंखें देखकर केदार को गलती का एहसास हुआ और उन्होंने अपनी अगली फिल्म नीलकमल में मधुबाला के साथ राज को बतौर हीरो साइन किया.

डायरेक्टर केदार शर्मा फिल्में, केदार शर्मा राज कपूर, केदार शर्मा जीवनी, चित्रलेखा फिल्म, राज कपूर जीवनी, director kidar sharma, kidar sharma raj kapoor, kidar sharma biography, chitralekha movie, raj kapoor biography
निर्देशक केदार शर्मा.


राज कपूर और केदार शर्मा के संयोग गहरे रहे. महाराष्ट्र सरकार ने केदार शर्मा को राज कपूर अवॉर्ड से सम्मानित करने की घोषणा की थी. जिस दिन उन्हें अपने शिष्य के नाम का अवॉर्ड लेना था, उसके एक दिन पहले ही केदार शर्मा का देहांत हो गया. जबकि राज कपूर उनसे करीब दस साल पहले ही गुज़र चुके थे.

यह भी पढ़ेंः मलाइका से तलाक के बाद दूसरी शादी पर सवाल सुनकर भड़के अरबाज खान, कही ऐसी बात

उल्लेखनीय है कि केदार शर्मा शायद इकलौते या उन गिने चुने डायरेक्टरों में से एक हैं जिन्होंने अपनी ही फिल्म का रीमेक बनाया था. 1941 में मेहताब स्टारर 'चित्रलेखा' उन्होंने पहली बार बनाई थी लेकिन उनका कहना था कि वह इस फिल्म से इतने प्रभावित थे कि उन्होंने इसे 1964 में मीना कुमारी, अशोक कुमार और प्रदीप कुमार के साथ दोबारा बनाया. केदार शर्मा की हॉलीवुड यात्रा बेहद दिलचस्प और चर्चित रही थी. अपनी जीवनी 'द वन एंड लोनली केदार शर्मा' ने उस यात्रा का विस्तार में जिक्र किया और बताया कि उन दिनों हवाई यात्रा बेहद परेशानी भरी थी. एक बेंच पर 16 यात्री बैठे थे जैसे प्लेन नहीं किसी ट्रेन में सफर कर रहे हों. प्लेन को बार-बार रुकना पड़ता था और उस वक्त मुंबई में कोई ठीक एयर टर्मिनल तक नहीं था.

यह भी पढ़ेंः Bigg Boss ने सिद्धार्थ शुक्ला को सीक्रेट रूम से निकाला, पारस की वापसी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बॉलीवुड से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 14, 2019, 6:00 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर