होम /न्यूज /मनोरंजन /

राज कपूर ने बताई थी अपने चटोरेपन की कहानी, स्वाद के चक्‍कर में बोलने पड़ते थे कई झूठ

राज कपूर ने बताई थी अपने चटोरेपन की कहानी, स्वाद के चक्‍कर में बोलने पड़ते थे कई झूठ

राजकपूर ने बताई थी मोटापे की वजह. (फोटो साभार therealkarismakapoor/Instagram)

राजकपूर ने बताई थी मोटापे की वजह. (फोटो साभार therealkarismakapoor/Instagram)

राजकपूर (Raj Kapoor) ने बताया था उनके खानदान में सभी चटोरे थे, इसीलिए बचपन और पचपन की उम्र में सभी मोटे हो जाते हैं.

    मुंबई. फिल्म इंडस्ट्री के शोमैन राज कपूर (Raj Kapoor) ने एक से बढ़कर एक फिल्में दी हैं. इतना ही नहीं उन्होंने फिल्मों के साथ हर तरह के एक्सपेरिमेंट किए. ‘मेरा नाम जोकर’ (Mera Naam Joker) जैसी फिल्म बनाकर किसी के दुख पर दर्शकों को हंसाया तो उस जमाने में मंदाकिनी को झीने कपड़े में स्क्रीन पर उतारने का दमखम भी राजकपूर ने दिखाया. बचपन से ही पिता पृथ्वीराज कपूर के साथ नाटक कर अभिनय और संगीत की बारिकियां समझी जो उनके अभिनय और फिल्ममेकिंग के सफर को सफल बनाने में काम आई. राज कपूर फिल्मों के साथ-साथ खाने-पीने के भी शौकीन थे. उन्होंने बताया था कि उनके खानदान के लोग 55 साल की उम्र तक आते-आते मोटे क्यों हो जाते हैं.

    राज कपूर ने एक बार मीडिया को दिए अपने एक इंटरव्यू में अपने चटोरेपन को लेकर बड़ी ही मजेदार बात शेयर की थी. वरिष्ठ पत्रकार राजेश बादल को दिए एक इंटरव्यू में राजकपूर ने बताया था कि उनके खानदान में सभी चटोरे थे. इसका असर कपूर खानदान के हर शख्स के बचपन और पचपन में दिखता है. हांलाकि युवा अवस्था में सभी स्लिम रहते हैं. अगर राजकपूर-शम्मी कपूर समेत रणधीर कपूर ,ऋषि कपूर और राजीव कपूर पर नजर डालें तो यह बात सही भी लगती है.

    (फोटो साभार therealkarismakapoor/Instagram)


    राजकपूर ने इंटरव्यू में अपने बचपन की शरारतों के बारे में बताया था कि ‘मां टिफिन में ऑमलेट और परांठा देती थी. इसके साथ ही 2 आने पॉकेट मनी भी. अपनी टिफिन दोस्तों में बांट देता और खुद दुकान पर खाने-पीने चला जाता. जब 2 आने में पेट नहीं भरता तो उधार ले लेता था. लेकिन उधार तो चुकाना होता था. जब उधारी बढ़ जाती इसे पूरा करने का एक उपाय निकाला. जब पैसे देने होते तो अपनी एक किताब गुम कर आता. फिर मां से किताब खरीदने के पैसे मांगता. मां जब कहती कि अभी तो अंग्रेजी की किताब खरीदी थी फिर खो दी, तो मासूमियत से कहता कि वह अंग्रेजी नहीं मैथ की खोई थी’.

    राजकपूर की नीली आंखों और चेहरे की मासूमियत उनकी हर फिल्म में दिखती थी, बल्कि यूं कहें कि आखिरी वक्त तक बरकरार रही.undefined

    Tags: Raj kapoor, Randhir kapoor, Rishi kapoor

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर