अमिताभ-धर्मेंद्र के बाद अब 'शोले' के डायरेक्टर को याद आए सूरमा भोपाली, बोले- कॉमेडी आसान नहीं होती

अमिताभ-धर्मेंद्र के बाद अब 'शोले' के डायरेक्टर को याद आए सूरमा भोपाली, बोले- कॉमेडी आसान नहीं होती
जगदीप जाफरी

'शोले' के निर्देशक रमेश सिप्पी (Ramesh Sippy) का कहना है कि उन्होंने जगदीप को ‘ब्रह्मचारी’ फिल्म में देखा था और जब उन्होंने सलीम जावेद की पटकथा पढ़ी तो उनके दिमाग में जगदीप का ही नाम आया.

  • Share this:
मुंबई. ‘शोले (Sholay)’ फिल्म के निर्देशक रमेश सिप्पी (Ramesh Sippy) का कहना है कि विख्यात अभिनेता और कॉमेडियन जगदीप (Jagdeep) के उत्कृष्ट प्रदर्शन ने सूरमा भोपाली के चरित्र को अमर बना दिया. दिवंगत अभिनेता जगदीप ने चार सौ से अधिक फिल्में की थीं लेकिन सूरमा भोपाली की लोकप्रियता हमेशा उनके साथ रही. सन 1975 में आई शोले में जगदीप के योगदान को याद करते हुए सिप्पी ने कहा कि इस भूमिका के लिए उन्होंने जगदीप को ही चुना था.

सिप्पी ने कहा, “एक उत्कृष्ट अभिनेता ही एक स्थानीय किरदार की भूमिका को शिद्दत से निभा सकता है. कॉमेडी आसान नहीं होती. टाइमिंग सटीक होनी चाहिए और प्रतिक्रिया सही होनी चाहिए. प्रतिभा के बिना यह संभव नहीं. एक निर्देशक के रूप में मैं किसी अभिनेता से कॉमेडी नहीं करवा सकता. मैं केवल उसके अभिनय में सुधार के लिए कह सकता हूं.”

निर्देशक ने कहा कि उन्होंने जगदीप को ‘ब्रह्मचारी’ फिल्म में देखा था और जब उन्होंने सलीम जावेद की पटकथा पढ़ी तो उनके दिमाग में जगदीप का ही नाम आया. सिप्पी ने कहा, “ऐसा समय आता है जब आपके पास किरदार होता है तब आप एक अभिनेता के बारे में सोचते हैं. केवल वही इस भूमिका को निभा सकते थे और उन्होंने बहुत अच्छी तरह निभाया. वह उत्तम प्रदर्शन था.”



यह भी पढ़ेंः 'डियर जिंदगी' में इस एक्ट्रेस को रिप्लेस कर हुई थी आलिया भट्ट की एंट्री
निर्देशक ने कहा कि जगदीप को हमेशा याद किया जाएगा. जगदीप का असली नाम सैयद इश्तियाक अहमद जाफरी था. सिप्पी ने कहा, “हम हमेशा उन्हें याद करेंगे. उनकी विरासत उनके बेटों जावेद, नावेद और पोते मीजान के जरिये जीवित रहेगी.” इससे पहले धर्मेंद्र और अमिताभ बच्चन पहले ही जगदीप को याद करते हुए अपनी बातें रख चुके हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading