Death Anniversary: एक्टर ओम प्रकाश को शादी में मिला था फिल्म का ऑफर, 30 रुपये थी पहली सैलरी

फिल्म चुपके-चुपके के एक सीन में धर्मेंद्र के साथ ओम प्रकाश. (Youtube Video)

फिल्म चुपके-चुपके के एक सीन में धर्मेंद्र के साथ ओम प्रकाश. (Youtube Video)

Death Anniversary: ओम प्रकाश (Om Prakash) ने 'चुपके-चुपके', 'चमेली की शादी', 'पड़ोसन', 'नमक हलाल' (Namak Halal) जैसी फिल्मों में बहुत बेहतरीन काम किया है. एक्टिंग के साथ उन्होंने फिल्में डायरेक्ट और प्रोड्यूस भी की.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 21, 2021, 6:38 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कुछ ऐसे एक्टर्स होते हैं जो अपनी एक्टिंग से लोगों के दिलों में जगह बना लेते हैं. ऐसे ही एक एक्टर हैं ओम प्रकाश (Om Prakash). नाम से भले ही आपको इनका चेहरा याद न आ रहा हो, लेकिन इनकी तस्वीर देखकर आप जरूर समझ गए होंगे कि हम किसकी बात कर रहे हैं. ओम प्रकाश (Om Prakash) ने 'चुपके-चुपके', 'चमेली की शादी', 'पड़ोसन', 'नमक हलाल' जैसी फिल्मों में बहुत बेहतरीन काम किया है. 60 और 70 के दशक में वह हिंदी फिल्मों के जान थे.

ओम प्रकाश (Om Prakash) ने 300 से ज्यादा फिल्मों में काम किया. एक्टिंग के साथ उन्होंने फिल्में डायरेक्ट और प्रोड्यूस भी की. 19 दिसंबर, 1919 को जन्मे ओम प्रकाश 21 फरवरी, 1998 (Death Anniversary Om Prakash)  को दुनिया छोड़ कर चले गए थे. उन्हें बचपन से ही संगीत, थिएटर और फिल्मों का शौक था. 12 साल की उम्र से उन्होंने क्लासिकल म्यूजिक की ट्रेनिंग लेनी शुरू कर दी थी. साथ ही वह कई नाटकों में भी भाग लेते थे. दीवान मंदिर नाटक समाज जम्मू के प्रसिद्ध नाटक में उन्होंने कमला का किरदार अदा किया था.

साल 1944 में उन्हें अपनी पहली फिल्म मिली थी. एक शादी में फिल्ममेकर दलसुख पंचोली ने ओम प्रकाश को देखा. उन्होंने उनको ऑफर दिया और लाहौर में अपने ऑफिस बुलाया. वहां उन्होंने उनको 'दासी' फिल्म ऑफर की. पूरे लाहौर और पंजाब में ‘फतेहदीन’ के रूप में उनके कार्यक्रम बहुत लोकप्रिय हुए थे.



ओम प्रकाश बॉलीवुड में अपने कॉमिक रोल के लिए जाने जाते थे. उन्होंने दस लाख, अन्नदाता, चरणदास, साधु और शैतान, दिल-दौलत-दुनिया, अपना देश, चुपके-चुपके, जूली, जोरू का गुलाम, आ गले लग जा, प्यार किए जा, पड़ोसन, बुड्ढा मिल गया, शराबी, भरोसा, तेरे घर के सामने, मेरे हम-दम मेरे दोस्त, लोफर, दिल तेरा दीवाना जैसी फिल्मों में काम किया. इसके अलावा उन्होंने 'गेटवे ऑफ इंडिया' (1957), 'संजोग' (1961) और 'जहान आरा' (1964) जैसी फिल्में प्रोड्यूस भी की हैं.
ओम प्रकाश को भले ही फिल्मों में काम की कमी नहीं पड़ी, लेकिन एक वक्त ऐसा भी था जब 14 साल की उम्र में वो 30 रुपए महीना काम करने को तैयार हो गए थे. साथ ही उनकी लव स्टोरी भी बड़ी मजेदार थी. एक किस्सा शेयर करते हुए उन्होंने कहा कि मुझे एक सिख लड़की से प्यार हो गया था, लेकिन लड़की के घरवाले मेरे खिलाफ थे क्योंकि मैं हिंदू था. मेरी मां उनके घर बात भी करने गई. लेकिन उसके घरवाले नहीं मानें. जिसके बाद हमने अलग हो जाने का फैसला किया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज