फारुख शेख ने अपने एक्टिंग करियर में की सिर्फ 50 फिल्में, 2010 में जीता था नेशनल अवॉर्ड

फारुख शेख(Instagram @cineoceans)

फारुख शेख(Instagram @cineoceans)

80 के दशक में एक ओर जब कमर्शियल सिनेमा फल-फूल रहा था. उस वक्त फारुख शेख (Farooq Sheikh) आर्ट सिनेमा कर रहे थे. उन्होंने अपने पूरे करियर में सिर्फ 50 फिल्में ही की और अपने अभिनय की छाप छोड़ गए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 25, 2021, 6:19 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बॉलीवुड में 80 के दशक में आर्ट फिल्मों का दौर था और इसी समय एक ऐसे लड़के ने इंडस्ट्री में एंट्री ली जिन्हें दर्शकों में सर माथे बैठाया. फारुख शेख (Farooq Sheikh) का जन्म 25 मार्च 1948 को गुजरात के अमरोली में हुआ था. आज अगर वो जिंदा होते तो अपना 73वां जन्मदिन सेलिब्रेट (birth anniversary) करते. फारुख शेख ने न सिर्फ बॉलीवुड में अपनी अलग पहचान बनाई, बल्कि छोटे पर्दे पर भी दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया. फारुख शेख अपने सरल स्वभाव के लिए हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में काफी मशहूर थे.

फारुख परिवार में सभी भाई-बहनों में सबसे बड़े थे. उनके पिता मुस्तफा शेख एक वकील थे. वहीं फारुख ने भी पिता को देख कर शुरुआती दौर में वकील बनना चाहते थे. काॅलेज के दिनों में उनकी मुलाकात पत्नी रुपा से हुई और दोनों अकसर थियेटर परफाॅर्मेंस में जाने लगे. यहीं फारुख ने एक्टिंग की तरफ रुख किया. 80 के दशक में एक ओर जब कमर्शियल सिनेमा फल-फूल रहा था. उस वक्त फारुख आर्ट सिनेमा कर रहे थे. उन्होंने अपने पूरे करियर में सिर्फ 50 फिल्में ही की और अपने अभिनय की अमिट छाप छोड़ गए. साल 2010 में फारुख को बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर का नेशनल फिल्म अवाॅर्ड मिला था. ये सम्मान उन्हें फिल्म 'लाहौर' में उनके बेहतरीन अभिनय के लिए मिला था.

फारुख शेख, Farooq Sheikh, Farooq Sheikh birth anniversary, birth anniversary, Bollywood
फारुख को उनके 70वें बर्थडे पर गूगल ने डूडल बनाकर विश किया. (Google)


जन्मदिन पर गूगल ने दिया ट्रिब्यूट
फारुख शेख का 25 मार्च 1948 को गुजरात के अमरोली में जन्में फारुख को उनके 70वें बर्थडे पर गूगल ने डूडल बनाकर विश किया. 27 दिसंबर 2013 को दुबई में अचानक ही दुनिया को अलविदा कहने वाले फारुख अगर ने 1977 से लेकर 1989 तक फिल्म इंडस्ट्री में नाम कमाया इसके अलावा साल 1999 से लेकर 2002 तक टीवी की दुनिया में अपनी एक अलग पहचान कायम की.

पहली फिल्म के लिए मिले थे 750 रुपये

क्विंट में छपी एक खबर के मुताबिक एक टीवी इंटरव्यू में फारुख शेख ने बताया था कि वो 750 रुपये के लालच में आकर फिल्म साइन कर बैठे थे. फिल्म 'गर्म हवा' के डायरेक्टर एमएस सत्यु ने फारुख शेख को 750 रुपये का मेहनताना दिया था. साल 1973 में ये काफी बड़ी रकम हुआ करती थी. फारुख शेख ने कहा था कि मैंने पैसों के लालच में फिल्म कर तो ली, लेकिन सत्यु ने ये पैसे मुझे पूरे 20 साल में चुकाए. फारुक साहब ने कभी खुद को स्टार नहीं माना. उनका कहना था कि लोग मुझे पहचानते थे, मुझे देखकर मुस्कुराते थे और हाथ हिलाते थे, लेकिन मुझे कभी खून से लिखे शादी के प्रस्ताव नहीं मिले.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज