रिया चक्रवर्ती को देख मां ने कहा- परिवार हो गया तबाह, पता नहीं बेटी सदमे से कैसे उबरेगी?

रिया चक्रवर्ती को बेल मिल गई है, वहीं शौविक अभी भी जेल में हैं.
रिया चक्रवर्ती को बेल मिल गई है, वहीं शौविक अभी भी जेल में हैं.

रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) को बेल मिलने के बाद मां संध्या चक्रवर्ती (Sandhya Chakraborty) ने बताया कि पिछले कुछ महीने उनके कैसे गुजरे और कैसे इन हालातों में उनके मन में सुसाइड तक के ख्याल आने लगे थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 8, 2020, 2:33 PM IST
  • Share this:
मुंबई. रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) 28 दिनों के बाद अपने घर पहुंचीं तो उन्हें देखकर मां संध्या चक्रवर्ती (Sandhya Chakraborty) अपनी आंसूओं को रोक नहीं पाईं. जैसे ही उन्हें ये खबर मिली कि रिया के कोर्ट से बेल मिल गई है, उनके मुंह से सहसा निकला 'भगवान हैं'. सुशांत सिंह राजपूत के परिवार द्वारा की गई शिकायत के बाद से चक्रवर्ती परिवार का समय काफी भारी रहा है. बेटी रिया को बेल मिलने के बाद संध्या चक्रवर्ती ने बताया कि पिछले कुछ महीने उनके कैसे गुजरे और परिवार को इस हाल में देखने के बाद कैसे उनके मन में सुसाइड करने के ख्याल आने लगे थे.

रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) की मम्मी संध्या चक्रवर्ती (Sandhya Chakraborty) अपनी बेटी को वापस घर में देखकर खुश हैं, लेकिन उसकी चिंता उन्हें सताए जा रही है. टाइम्स ऑफ इंडिया से खास बातचीत में उन्होंने कहा कि उन्हें इस बात की चिंता है कि वह इन हालातों से कैसे निकलेगी?  रिया का जो बदनाम और लिंचिंग की गई हैं, उस बुरे सपने से वह कैसे उभरेगी? रिया की मां ने कहा कि राहत की बात है कि वह जेल से बाहर आ गई. लेकिन दुख की बात है कि ये सब अभी खत्म नहीं हुआ. मेरा बेटा अभी भी जेल में है और मैं ये सब सोच-सोचकर पागल हो रही हूं.

उन्होंने कहा कि रिया के दिमाग से ये सब निकालने के लिए मुझे थेरपी करवानी होगी. संध्या चक्रवर्ती ने इस बातचीत में कहा कि मेरे बच्चे जेल में हैं तो मैं बेड पर सो भी नहीं पाती. हम खा नहीं पाते थे. अचानक से आधी रात को अनहोनी के ख्याल आते थे और मैं अचानक उठकर बैठ जाती थी.



उन्होंने स्वीकार किया एक दौर ऐसा भी आया कि मुझे सुसाइड तक के ख्याल आने लगे थे, जिसके बाद मुझे थेरपी लेनी पड़ी और जब ऐसे विचार आते हैं तो सोचती हूं कि बच्चों के लिए मुझे जीना है. उन्होंने कहा, मुझे अपनी बेटी पर गर्व है. उसने इतना कुछ सह लिया और आज घर आकर बोली, आप दुखी क्यों लग रही हैं, हमें स्ट्रॉन्ग होकर इससे लड़ना है.

रिया की मां ने कहा, जैसे ही दरवाजे की घंटी बजती है, हम डर जाते हैं.  हमें नहीं पता होता कि कौन आ जाए. कई बार रिपोर्टर सीबीआई बनकर भी हमारी बिल्डिंग में घुस आते हैं, यही वजह है कि हमें दरवाजे के बाहर सीसीटीवी लगवाने पड़े.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज