ऋषि कपूर के निधन के बाद पहली बार हुआ खुलासा, इस बीमारी से पीड़ित थे एक्टर

ऋषि कपूर के निधन के बाद पहली बार हुआ खुलासा, इस बीमारी से पीड़ित थे एक्टर
ऋषि कपूर की ल्यूकेमिया से हुई मौत.

ऋषि कपूर (Rishi Kapoor) के निधन के बाद पहली बार परिवार ने उनकी बीमारी का खुलासा किया. उन्हें ल्यूकेमिया हुआ था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 30, 2020, 12:22 PM IST
  • Share this:
मुंबई. ऋषि कपूर (Rishi Kapoor) के निधन के बाद पहली बार ये पता चला कि उन्हें क्या बीमारी थी. अब से पहले हमेशा यह कहा जाता रहा कि वो गंभीर बीमारी से पीड़ित थे. उनके न्यूयॉर्क में इलाज के दौरान भी लगातार ये बात सामने नहीं आई कि उनका कौन सा इलाज कराया जा रहा था. काफी समय बाद यह बात सामने कि ऋषि कपूर का कैंसर का इलाज कराया जा रहा है. लेकिन यह नहीं पता चला कि उन्हें कैसा कैंसर हुआ है.

यह बात आज पहली बार सामने आई कि ऋषि कपूर को ल्‍यूकेमिया हुआ था. ऋषि कपूर के निधन के बाद उनके परिवार की ओर से जारी किए गए बयान में यह बताया गया कि करीब दो साल तक वे इस बीमारी से लड़ते रहे. अब उनका ये कैंसर आखिरी स्टेज में पहुंच गया था, जिसके कारण उनकी मौत हो गई. उल्लेखनीय है कि ल्यूकेमिया को ब्लड कैंसर भी कहा जाता है. इस कैंसर से प्रमुख रूप से खून और बोन मैरो प्रभावित होते हैं.

यह एक ऐसी बीमारी है जिसमें शरीर में सफेद रक्त कोशिकाओं की संख्या असामान्य रूप से बढ़ती है इसके बाद इनके आकार में भी परिवर्तन होता है. कई डॉक्टर्स का मानना है कि ये एक ऐसी बीमारी है जिसके बार-बार लौटने की संभावना बनी रहती है. कई बार बोन-मैरो ट्रांसप्लांट करके मरीजों की बचाने की कोशिश की जाती है. कीमोथैरिपी के बाद भी यह बीमारी आमतौर पर ठीक नहीं हो पाती. असल में इस बीमारी में ऐसा भी होता कि इसका इलाज भी शुरुआत में नहीं हो पाता. जब यह कैंसर बढ़ता है तब इसका इलाज शुरू हो पाता है.



ऋषि कपूर नहीं रहे.

गौरतलब है कि अभिनेता ऋषि कपूर का मुम्बई के एक अस्पताल में बृहस्पतिवार को निधन हो गया. वह 67 वर्ष के थे. उनके भाई एवं अभिनेता रणधीर कपूर ने से कहा, ‘‘ वह नहीं रहे. उनका निधन हो गया है.’’

यह भी पढ़ेंः ऋषि कपूर से शादी के बाद नीतू ने छोड़ा था अपना करियर, ऐसी थी पहली मुलाकात

कपूर लंबे समय से कैंसर से जूझ रहे थे. तबीयत बिगड़ने के बाद बुधवार को उन्हें एच. एन. रिलायंस अस्पताल में भर्ती कराया गया था. अमेरिका में करीब एक साल तक कैंसर का इलाज कराने के बाद वह पिछले साल सितम्बर में भारत लौटे थे. फरवरी में भी तबीयत खराब होने की वजह से उन्हें दो बार अस्पताल में भर्ती कराया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज