Home /News /entertainment /

S D Burman Anniversary: परफेक्शनिस्ट एसडी बर्मन जब लता मंगेशकर से हो गए थे नाराज

S D Burman Anniversary: परफेक्शनिस्ट एसडी बर्मन जब लता मंगेशकर से हो गए थे नाराज

राहुल देव बर्मन अपने पिता एस डी बर्मन के साथ. (फोटो साभार: Movies N Memories/Twitter)

राहुल देव बर्मन अपने पिता एस डी बर्मन के साथ. (फोटो साभार: Movies N Memories/Twitter)

1962 में जब सचिन देव बर्मन (Sachin Dev Burman) के बेटे राहुल देव बर्मन (Rahul Dev Burman) अपनी फिल्म ‘छोटे नवाब’ में संगीत दे रहे थे तो उन्होंने अपने पिता सचिन और लता के बीच पैचअप करवाया था.

    हिंदी सिनेमा के प्रसिद्ध संगीतकार गायक सचिन देव बर्मन (Sachin Dev Burman) यानी एसडी बर्मन का जन्म त्रिपुरा के रॉयल फैमिली में 1 अक्टूबर 1906 में हुआ था. कोलकाता विश्वविद्यालय (Kolkata University) से ग्रेजुएशन करने के बाद एसडी बर्मन ने कोलकाता रेडियो स्टेशन पर बतौर गायक अपना करियर शुरू किया था. इसके बाद बांग्ला फिल्मों में काम करने के बाद मुंबई का रुख किया. धीरे धीरे एसडी अपने खास संगीत की वजह से हिंदी सिने जगत में मशहूर हो गए. संगीत के रुह को समझने और महसूस करने वाले अनगिनत लोग उनके कायल हैं. शास्त्रीय और लोक संगीत का सुंदर मिश्रण तैयार करने वाले एसडी बर्मन की जयंती पर उनकी जिंदगी से जुड़े खास किस्से बताते हैं. बर्मन साहब बेहद जिद्दी भी थे, इसी वजह से उनकी कभी साहिर लुधायनवी से तो कभी लता मंगेशकर से ठनी रही.

    एसडी बर्मन की जीवनी लिखने वाली सत्या सरन ने एक बार बीबीसी को बताया था कि फिल्म ‘प्यासा’ के दौरान एसडी बर्मन और साहिर लुधियानवी की तकरार हो गई. दोनों में इस बात पर ठन गई कि नगमे में ज्यादा क्रिएटिविटी है या म्यूजिक में. मामला इस हद तक बढ़ गया कि साहिर इस बार पर अड़ गए कि उन्हें एसडी एक रुपया ज्यादा मेहनताना दिया जाए. साहिर का मानना था कि एसडी के संगीत की लोकप्रियता में उनका बराबर का योगदान है. एसडी ने साहिर की शर्त मानने से इनकार कर दिया और इस तरह फिर दोनों ने कभी एक साथ काम नहीं किया’.

    एसडी बर्मन एक बार इसी तरह प्रसिद्ध गायिका लता मंगेशकर से नाराज हो गए थे. बीबीसी को दिए एक इंटरव्यू में लता ने खुद बताया था कि ‘जब मैंने ‘पग ठुमक चलत’ गीत रिकॉर्ड किया तो दादा बहुत खुश हुए और इसे ओके कर दिया. एक बार संगीतकार किसी गीत को ओके कर देता है तो रिकॉर्डिंग दोबारा नहीं की जाती है. लेकिन परफेक्शनिस्ट बर्मन ने मुझे फोन किया कि वो इस गीत की रिकॉर्डिंग दोबारा करवाना चाहते हैं. मैं उस समय बाहर जा रही थी, इसलिए मना कर दिया तो बर्मन नाराज हो गए’.

    एसडी बर्मन ऐसे नाराज हुए कि करीब पांच साल तक लता के साथ ठनी रही. त्रिपुरा राज घराने से ताल्लुक रखने वाले खगेश देव बर्मन ने एक किताब लिखी है. इस किताब का नाम है ‘एस डी बर्मन-द वर्ल्ड ऑफ हिज म्यूजिक’. खगेश ने बताया था कि ‘1962 में जब उनके बेटे राहुल देव बर्मन अपनी फिल्म ‘छोटे नवाब’ में संगीत दे रहे थे तो उन्होंने अपने पिता सचिन और लता के बीच पैचअप करवाया था. आरडी ने अपने पिता से कहा था कि मैं अपनी पहली फिल्म में संगीत निर्देशक के तौर पर लता दीदी से गाना जरूर गवाऊंगा’.

    ये भी पढ़िए- Shaan Birthday Special: शान को विरासत में मिला है संगीत, सुनिए 5 सदाबहार गाने

    एसडी बर्मन एक शानदार गायक थे. उन्होंने ‘गाइड’ फिल्म में अल्ला मेघ दे,पानी दे, ‘प्रेम पुजारी’ में प्रेम के पुजारी हम हैं, ‘सुजाता’ में सुन मेरे बंधु, सुन मेरे मितवा जैसे कालजयी गीतों को अपनी आवाज दी थी.

    Tags: Lata Mangeshkar, Music, Singer

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर