सलमान खान ने बॉलीवुड वर्कर्स के लिए फिर खोला अपना खजाना, अब सीधे अकाउंट में ट्रांसफर करेंगे रकम

सलमान खान, फाइल फोटो

सलमान खान, फाइल फोटो

सलमान खान (Salman Khan) इस साल भी फिल्म उद्योग के करीब 25,000श्रमिकों की आर्थिक रूप से मदद करने के लिए आगे आए हैं. एक्टर ने कोरोनोवायरस लॉकडाउन के कारण पीड़ित फिल्म इंडस्ट्री के श्रमिकों के बैंक खाते में रुपये जमा करने का फैसला लिया है.

  • Share this:

मुंबईः कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते पिछले साल की तरह इस बार फिर हर तरफ हाहाकार मचा हुआ है. फिल्म इंडस्ट्री की भी कोरोना के चलते रफ्तार धीमी हो चली है. शूटिंग रुकने से इंडस्ट्री में काम करने वाले दिहाड़ी मजदूरों पर संकट के बादल टूट पड़े हैं. ऐसे मे सलमान खान एक बार फिर इन मजदूरों के लिए मसीहा बनकर सामने आए हैं. पिछले साल की तरह, सलमान खान (Salman Khan) इस साल भी फिल्म उद्योग के करीब 25,000श्रमिकों की आर्थिक रूप से मदद करने के लिए आगे आए हैं. एक्टर ने कोरोनोवायरस लॉकडाउन के कारण पीड़ित फिल्म इंडस्ट्री के श्रमिकों के बैंक खाते में 1500 रुपये जमा करने का फैसला लिया है.

फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडियन सिने एम्प्लॉइज (FWICI) के महासचिव, अशोक दुबे ने indiaexpress.com से बातचीत में बताया कि, “सलमान खान के मैनेजर ने FWICI के अध्यक्ष बीएन तिवारी से इस संबंध में ​​बात की है और हमें फेडरेशन से 25,000 श्रमिकों का अकाउंट डीटेल भेजने के लिए कहा है. एक्टर हर एक के बैंक खाते में 1500 रुपये जमा करेंगे. इससे पहले भी उन्होंने पिछले साल कोविड महामारी की मार झेल रहे श्रमिकों की मदद की थी.'

अशोक दुबे ने आगे कहा - 'हमें इस स्थिति का बिलकुल भी अंदाजा नहीं था, क्योंकि दिसंबर से काम शुरू हो गया था. फरवरी तक, हमारे कई श्रमिकों को नौकरी मिलना भी शुरू हो गया था, इसलिए सभी खुश थे. लेकिन फिर, महामारी की दूसरी लहर आई और श्रमिकों को काम मिलना फिर बंद हो गया. अब यह अंदाजा लगा पाना मुश्किल है कि दोबारा चीजें कब पटरी पर लौटेंगी और काम दोबारा अच्छे से शुरू हो पाएगा.'

ये भी पढ़ेंः Covid-19 second wave : सांसों के संकट पर गुस्साए सुनील शेट्टी, नेताओं को ठहराया जिम्मेदार
यानी अब जब एक बार फिर महामारी वापस आ गई है तो सलमान खान ने भी मदद के हाथ बढ़ाए हैं. मालूम हो कि, पिछले साल के राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के बाद, सभी इंडस्ट्रीज की तरह फिल्म उद्योग को भी भारी नुकसान झेलना पड़ा था, जिसके बाद इंडस्ट्री दिसंबर से ट्रैक पर आने लगा. दिहाड़ी मजदूरों को भी फरवरी तक काम मिलना शुरू हो गया था, लेकिन कोविड -19 की दूसरी लहर ने चीजों को फिर से बदतर बना दिया.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज