मेरी बेटी दलाई ने अपने भाई और उसके लिए बनाए ट्रीहाउस में जमाया कब्जा: संजय गुप्ता

पिछले साल संजय गुप्ता ने अपने बच्चों के लिए यह ट्रीहाउस बनाया था. (File Photo)

पिछले साल संजय गुप्ता (Sanjay Gupta) ने खंडाला में बच्चों और पत्नी के साथ अपने फार्महाउस पर गर्मी-मानसून का बड़ा समय बिताया था. जहां उन्होंने अपने फ्यूचर के प्रोजेक्ट्स को बेहतर बनाने की कोशिश में घंटों बिताए, वहीं उन्होंने घंटों का समय खर्च कर अपने बच्चों के लिए एक ट्रीहाउस बनाया था.

  • Share this:
    मुंबई. फिल्म निर्माता और लेखक संजय गुप्ता (Sanjay Gupta) अपने शिल्प, अपनी किताबों और फिल्मों के प्रति जुनूनी हैं. जब वे किसी प्रोजेक्ट पर काम नहीं कर रहे होते हैं, तो अपने बच्चों के लिए कुछ अनोखा बनाने और उनके आसपास जितना संभव हो उतना समय बिताने को तरजीह देते हैं. चाहे वह उनके लिए उनका पसंदीदा खाना बनाना हो या उनके साथ घंटों खेलना हो या उनके लिए न्यू स्पेस क्रिएट करना हो, उनके टेस्ट के अनुरूप आंतरिक सज्जा से परिपूर्ण हो, संजय यह सब अपने बच्चों के लिए करते हैं.

    उदाहरण के लिए, मुंबई सागा के लिए अपनी प्रतिबद्धताओं को पूरा करने के बाद फिल्म मेकर्स अपने बच्चों- दलाई, शिवांश और पत्नी अनु के साथ समय बिताने के लिए कुछ हफ्तों के लिए गोवा चले गए. यह जॉन अब्राहम और इमरान हाशमी के साथ उनका जुनून वाला प्रोजेक्ट था, जो उन दुर्लभ बड़े कैनवस फिल्मों में से एक थी, जो महामारी की दूसरी लहर के आने से कुछ समय पहले नए सामान्य माहौल में थिएटर में रिलीज की गई थी.

    पिछले साल संजय गुप्ता ने खंडाला में अपने बच्चों और पत्नी के साथ अपने फार्महाउस पर गर्मी और मानसून का एक बड़ा समय बिताया था. जहां उन्होंने अपने फ्यूचर के प्रोजेक्ट्स को बेहतर बनाने की कोशिश में घंटों बिताए, वहीं उन्होंने घंटों का समय खर्च कर अपने बच्चों के लिए एक ट्रीहाउस बनाया था. फिल्म निर्माता ने आज सुबह इसके बारे में ट्वीट करते हुए बताया कि 'CASA NINIOS ... ट्रीहाउस जिसे हमने पिछली गर्मियों में बनाया था. हां महामारी के बीच में बच्चों को बिजी रखने के लिए कुछ भी करना पड़ता है.'

    संजय और उनका परिवार कल गोवा से खंडाला गए और मुंबई लौटने से पहले कुछ दिनों के लिए अपने फार्महाउस पर रहेंगे. खास बात यह है कि, खंडाला पहुंचने के कुछ ही घंटों बाद उनकी बेटी दलाई ने अपने भाई और उसके लिए बने ट्रीहाउस को पूरी तरह से अपने कब्जे में ले लिया. संजय ने कहा कि, 'हमने यह ट्रीहाउस पिछले साल बनाया था. हम खंडाला में लंबे समय से रह रहे थे और उसी दौरान, मैं और मेरे बच्चे इस घर को बनाने के लिए रुके, जो कि विशेष रूप से उनका स्थान है. यह बहुत बड़ा नहीं है, लेकिन इसमें उनकी जरूरत की हर चीज है, इसे उनके अनुरूप बनाया गया है.'