इस अंधविश्वास की वजह से कुंवारे रह गए अभिनेता संजीव कुमार

संजीव कुमार ने पर्दे पर कई रंग के किरदार निभाए, लेकिन असल में वह एक सुख से हमेशा वंचित रहे. वो था परिवार और घर बसाने का सुख.

News18Hindi
Updated: July 9, 2019, 11:29 AM IST
इस अंधविश्वास की वजह से कुंवारे रह गए अभिनेता संजीव कुमार
बॉलीवुड एक्टर संजीव कुमार.
News18Hindi
Updated: July 9, 2019, 11:29 AM IST
बॉलीवुड एक्टर संजीव कुमार का फिल्मी करियर तो शानदार रहा ही. उनकी असल जिंदगी भी किसी फिल्म से कम नहीं थी. संजीव कुमार ने पर्दे पर कई रंग के किरदार निभाए, लेकिन असल में वह एक सुख से हमेशा वंचित रहे. वो था परिवार और घर बसाने का सुख. इसके पीछे की वजह थी अंधविश्वास.

दरअसल उनके परिवार में कुछ ऐसी घटनाएं हुई थीं जहां बेटे के दस साल के पूरे होने पर पिता की मृत्यु हो गई थी. संजीव कुमार के दादा, पिता और भाई के साथ ऐसा हो चुका था. यही देखते हुए संजीव कुमार ने शादी ना करने का फैसला लिया था.



बॉलीवुड के इस 'ठाकुर' ने खुद शादी नहीं की, लेकिन उन्होंने अपने भाई के बेटे को गोद ले लिया. गोद लिया बेटा जैसे ही दस साल का हुआ संजीव कुमार ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया. वह 47 साल की उम्र में दिल के दौरे की वजह से इस दुनिया से चले गए. संजीव congenital heart condition के साथ पैदा हुए थे.

पहले हार्ट अटैक के बाद उन्होंने अमेरिका में बायपास सर्जरी करवाई थी. लेकिन इसके बाद भी उनकी हालत में कुछ खास सुधार नहीं था. 6 नवंबर 1985 को आखिरी सांस ली. उनकी दस से ज्यादा फिल्में निधन के बाद रिलीज हुई थीं. संजीव कुमार की आखिरी फिल्म 'प्रोफेसर की पड़ोसन' थी. ये फिल्म 1993 में रिलीज हुई थी.



अवॉर्ड्स की बात करें तो संजीव कुमार ने बेस्ट एक्टर कैटेगरी में दो नैशनल अवॉर्ड जीते थे. जिन फिल्मों के लिए उन्हें ये सम्मान मिला वो 'दस्तक' और 'कोशिश' थीं. उन्होंने अपने फिल्मी करियर में रोमांटिक, ड्रामा और थ्रिलर हर तरह की फिल्में कीं.
Loading...

यह भी पढ़ें:

हेमा मालिनी को क्यों पसंद नहीं था शोले का ठाकुर?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बॉलीवुड से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 9, 2019, 10:52 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...