संजीव कुमार में था पर्दे पर 9 रस की भूमिकाएं निभाने का दमखम, दिलीप कुमार ने सुझाया था उनका नाम

नौ रस से सराबोर एक्टिंग करने वाले संजीव कुमार. (फोटो साभार: Film Poster)

फिल्म ‘नया दिन नई रात’ (Naya Din Nai Raat) में 9 अलग-अलग रस में डूबे पात्रों का अभिनय करने वाले संजीव कुमार (Sanjeev Kumar) ने ही पहली बार प्रोस्थेटिक का इस्तेमाल किया था लेकिन इस फिल्म के लिए नहीं.

  • Share this:
    मुंबई: हिंदी सिने जगत में कुछ एक्टर ऐसे हुए हैं जिन्होंने अपनी अलहदा एक्टिंग से अमिट छाप छोड़ी है. दिग्गज अभिनेता रहे संजीव कुमार (Sanjeev Kumar) भी उन्हीं में से एक थे. संजीव कुमार की धीमे-धीमे ठहराव वाली संवाद अदायगी भला कौन भूल सकता है ? ‘नौकर’, ‘नमकीन, ‘आंधी’ ,’चरित्रहीन’  जैसी फिल्में देने वाले संजीव कुमार 9 जुलाई को पैदा 1938 में पैदा हुए थे. फिल्म ‘शोले’ में  ठाकुर बने संजीव हो या फिर ‘नया दिन नई रात’ में नौ रस बताने वाली कालजयी भूमिका. संजीव कुमार की एक्टिंग ने फिल्म जगत को एक नया आयाम दिया है.

    फिल्म जानकारों की माने तो 1974 में बनी फिल्म ‘नया दिन नई रात’ के लिए निर्देशक ए भीम सिंह ने पहले दिलीप कुमार को ऑफर किया था, लेकिन उन्होंने अपनी कुछ वजहों से इस फिल्म को करने से मना कर दिया. दिलीप कुमार ने इस फिल्म के साथ इंसाफ करने वाले एक्टर के बारे में भी डायरेक्टर को बता दिया. दिलीप कुमार ने संजीव कुमार का नाम इस फिल्म  के लिए प्रपोज कर दिया. दिलीप कुमार के भरोसे को संजीव कुमार ने कायम भी रखा. हिंदी व्याकरण के छात्रों ने नौ रस के बारे में जरूर पढ़ा होगा. उसी नौ रस को संजीव कुमार पर्दे पर उतारने में सफल रहे. हास्य, रति, शोक,वीर, क्रोध,  करुण, श्रृंगार, रौद्र, विस्मय जैसे नौ रुपों को बड़े पर्दे पर जीवंत कर इतिहास रच दिया था. इस फिल्म में उनके साथ जया भादुड़ी जैसी एक्ट्रेस थीं.

    ‘नया दिन नई रात’ से पहले लोगों ने डबल रोल तो देखे थे लेकिन एक ही एक्टर के नौ रोल नहीं देखे थे. फिल्म की सफलता में संजीव कुमार के गेटअप का बड़ा रोल था. हर रस के हिसाब से उनके गेटअप को तैयार करने वाले मेकअप मैन थे सरोश मोदी. इस फिल्म के लिए प्रोस्थेटिक मेकअप का हेल्प भी सरोश मोदी ने नहीं लिया था. कोढ़ी , शराबी से लेकर बाबा तक का बिलकुल सटीक रुप गढ़ने में सरोश मोदी कामयाब रहे.

    एक जरूरी जानकारी ये भी मिलती है कि फिल्मों में किरदार के हिसाब से प्रोस्थेटिक मेकअप का इस्तेमाल अब भले ही धड़ल्ले से किया जाता है लेकिन इसकी शुरुआत भी संजीव कुमार ने ही किया था. कहते हैं कि संजीव कुमार की फिल्म ‘चेहरे पे चेहरा’ में पहली बार प्रोस्थेटिक का इस्तेमाल किया गया था.











     

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.