रिया चक्रवर्ती और शोविक बेल अर्जी दाखिल करने की जल्दी में नहीं: सतीश मानेशिंदे

रिया चक्रवर्ती और शोविक बेल अर्जी दाखिल करने की जल्दी में नहीं: सतीश मानेशिंदे
शोविक चक्रवर्ती और रिया चक्रवर्ती.

रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) के वकील सतीश मानेशिंदे (Satish Maneshinde) ने कहा कि, 'सोमवार को हमें आदेश की कॉपी मिल गई है, लेकिन हम जल्दी में नहीं हैं. हम NCB के स्तर पर केस में डेवलपमेंट और उसके सभी पहलुओं को पढ़ने के बाद निर्णय लेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 14, 2020, 6:02 PM IST
  • Share this:
मुंबई. वकील सतीश मानेशिंदे ने कहा है कि एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती और उनके भाई शोविक ने हाईकोर्ट में बेल एप्लिकेशन दाखिल करने की जल्दी में नहीं हैं. पिछले हफ्ते, मुंबई की एक विशेष अदालत ने नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) द्वारा सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस (Sushant Singh Rajput Suicide) से जुड़े ड्रग्स मामले में रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) और शोविक चक्रवर्ती (Showik Chakraborty) समेत 4 अन्य आरोपियों की जमानत याचिका खारिज कर दी.

इसके बाद, मीडिया में इस आशय की खबरें छपी हैं कि भाई-बहन की जोड़ी ने सोमवार को हाईकोर्ट में बेल के लिए आवेदन करने की योजना बना रही थी.  उनके वकील ने अब एक बयान जारी करके इस बारे में लगाई जा रही अटकलों को सिरे से खारिज कर दिया.

वकील मानेशिंदे ने कहा कि, 'भले ही सोमवार को हमें आदेश की एक प्रति मिल गई है, लेकिन हम जल्दी में नहीं हैं. हम NCB के स्तर पर केस में डेवलपमेंट और उसके सभी पहलुओं का अध्ययन करेंगे और फिर निर्णय लेंगे. इस मामले में स्पेकुलेशन के लिए कोई जगह नहीं है. वकील ने आगे कहा कि, जब हम कोर्ट में बेल अप्लिकेशन फाइल करेंगे, उसके एक प्रति मीडिया के साथ शेयर करेंगे.



सुशांत सिंह राजपूत की प्रेमिका रहीं रिया को एनसीबी ने ड्रग्स एंगल में उनकी कथित भूमिका के लिए नारकोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सब्सटेंस एक्ट के तहत मामले में आरोपी बनाया है. ड्रग्स एंगल 14 जून को हुई सुशांत की कथित मौत की जांच के दौरान सामने आया है.
रिया का आरोप, एनसीबी ने जुर्म कबूलने को किया था मजबूर
रिया ने अपनी पहले की जमानत याचिका में आरोप लगाया था कि इस सप्ताह एनसीबी ने तीन दिनों की पूछताछ के दौरान उसे 'आत्म-भ्रामक स्वीकारोक्ति' करने पर मजबूर किया. रिया ने कहा कि उसने कोई अपराध नहीं किया है, और उसे झूठा फंसाया गया है.

अपनी 'आत्म-भ्रामक स्वीकारोक्ति' से हटाते हुए उसने अपनी गिरफ्तारी को 'अनुचित, बिना किसी औचित्य के' और 'मनमाने ढंग से उसकी स्वतंत्रता पर अंकुश लगाने' वाली बताया गया है. उसने कहा कि उसे मौत और बलात्कार की धमकियों का सामना करना पड़ा और उससे पूछताछ के दौरान कोई महिला अधिकारी मौजूद नहीं थी. रिया से 6,7 और 8 सितंबर को पूछताछ की गई थी. पूछताछ के अंतिम दिन रिया की गिरफ्तारी हुई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज