नदी किनारे बह रहीं लाशें देख फरहान अख्तर का दहला दिल, बोले- 'इसके लिए जवाबदेही होनी चाहिए'

इन हालातों पर कई बॉलीवुड सेलेब्स ने अपनी-अपनी प्रतिक्रियाएं दी हैं.

इन हालातों पर कई बॉलीवुड सेलेब्स ने अपनी-अपनी प्रतिक्रियाएं दी हैं.

बिहार में गंगा नदी के किनारे अध जली लाशें देखकर हर कोई विचलित हो गया है. इन हालातों पर कई बॉलीवुड सेलेब्स ने अपनी-अपनी प्रतिक्रियाएं दी हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. देशभर में कोरोना की दूसरी लहर से सिर्फ आम लोग ही चिंतित नहीं हैं, बल्कि बॉलीवुड सितारे भी इस वायरस को लेकर काफी परेशान हैं. कोरोना वायरस से रोजाना हजारों लोगों की मौत हो रही है. इस बीच बिहार में गंगा नदी के किनारे अध जली लाशें देखकर हर कोई विचलित हो गया है. इन हालातों पर कई बॉलीवुड सेलेब्स ने अपनी-अपनी प्रतिक्रियाएं दी हैं. इस मामले में बॉलीवुड एक्टर फरहान अख्तर (Farhan Akhtar) ने एक ट्वीट करते हुए कहा है कि इस दृश्यों को देखकर उनका दिल दहल गया है.

फरहान ने ट्वीट करते हुए लिखा, 'नदियों में तैरते और उसके तट पर बहते हुए शवों के स्कोर की खबर बिल्कुल दिल दहला देने वाली है. किसी दिन वायरस पराजित हो जाएगा, लेकिन सिस्टम में इन विफलताओं के लिए जवाबदेही होनी चाहिए। तब तक, महामारी अध्याय बंद नहीं होता है!' मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, जिस जगह यह लाशें मिली हैं, वह केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे (Ashwini Kumar Choubey) का संसदीय क्षेत्र है. हालांकि, प्रशासन का कहना है कि ये शव उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद और वाराणसी से बहकर आए हैं.

Printshot Twitter

बता दें, इस महामारी में फरहान एक एनजीओ से साथ मिलकर लोगों तक मदद पहुंचा रहे हैं. एक्टर के डोनेशन का इस्तेमाल, संकट में पड़े रोगियों और उनकी देखभाल करने वालों के लिए भोजन जुटाने में किया जा रहा है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, एनजीओ के सचिव दिव्यांशु उपाध्याय ने बताया कि इन डोनेशन्स का इस्तेमाल न केवल वायरस से संक्रमित रोगियों के भोजन के लिए किया जा रहा है, बल्कि वाराणसी में हरीश्चंद्र और मणिकर्णिका शमशान घाटों पर काम करने वाले लोगों के लिए भी इस्तेमाल हो रहा है.
फरहान के अलावा इस घटना पर उर्मिला मातोंडकर ने ट्वीट किया कर कहा था, 'मैं बेपनाह अंधेरों को सुबह कैसे कहूं, मैं इन नजारों का अंधा तमाशबीन नहीं. 100 से ज्यादा शव गंगा में बहा दिए गए. दुखद, क्रूर, अमानवीय विश्वास से परे. ओम शांति.' दरअसल, कोरोना के चलते मर रहे लोगों को अंतिम संस्कार के लिए श्मशान और कब्रगाह नसीब नहीं हो रहे हैं, जिसकी सबसे भयानक तस्वीर बिहार के बक्सर में देखने को मिली. बता दें कि बक्सर में सोमवार को कई लाशें गंगा नदी के किनारे बहती दिखाई दी थीं.

वहीं, शेखर सुमन ने भी इस मामले में ट्वीट कर लिखा था, 'संदिग्ध कोरोना पीड़ितों के 150 से ज्यादा आध जले शव बिहार में गंगा नदी में तैरते नजर आए. अगर यह 'प्रलय' नहीं है, तो क्या है? हम इसके लायक नहीं हैं. यह बहुत ही भयानक है. भगवान हमें इस तबाही से बचएं.' वहीं, दिव्येंदु शर्मा लिखते हैं, 'शवों को गंगा में तैरते हुए देखा गया है. हम कहां से कहां आ गए... ज्यादातर राज्यों की तरह, अब बिहार भी संकट से गुजर रहा है. हम आपातकालीन स्थिति में हैं.'

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज