होम /न्यूज /मनोरंजन /Death Anniversary: शम्मी कपूर ने लिपिस्टिक से भरी थी गीता बाली की मांग, मजेदार है शादी की कहानी

Death Anniversary: शम्मी कपूर ने लिपिस्टिक से भरी थी गीता बाली की मांग, मजेदार है शादी की कहानी

शम्मी कपूर का निधन 14 अगस्त 2011 को हुआ था.

शम्मी कपूर का निधन 14 अगस्त 2011 को हुआ था.

कपूर खानदान के बेटे शम्मी कपूर (Shammi Kapoor) की पर्सनल लाइफ भी कम फिल्मी नहीं थी. शम्मी ने दो शादियां की थीं. पहली वा ...अधिक पढ़ें

    मुंबई: दिग्गज एक्टर शम्मी कपूर (Shammi Kapoor)  ने फिल्म इंडस्ट्री को कई यादगार फिल्में दी हैं. (Shammi Kapoor Death Anniversary)14 अगस्त 2011 यानी 10 बरस पहले इस दुनिया को अलविदा कह गए शम्मी जब भी पर्दे पर आते अपनी अदाकारी से दर्शकों को झूमने पर मजबूर कर देते. ‘जंगली’ (Junglee) फिल्म में ‘चाहे कोई मुझे जंगली कहे’ गाने में  याहू कह कर उनको उछलता कूदता देख आज भी मजा आ जाता है. कपूर खानदान के जितने भी एक्टर हैं सभी की अपनी अलग-अलग खासियत है.

    शम्मी अपनी यूनिक डांसिंग स्टाइल के लिए अधिक जाने जाते हैं. शम्मी कपूर को फिल्मी सफलता धीरे-धीरे मिली लेकिन जब मिली तो स्टार बन गए. शम्मी कपूर की फिल्मों की तरह ही उनकी पर्सनल लाइफ भी कम रोमांचक नहीं थी. उनकी पुण्यतिथि पर उनकी लाइफ के बारे में कुछ अनछुए पहलू के बारे में बताते हैं.

    गीता बाली से किया था सच्चा प्यार

    शम्मी कपूर ने गीता बाली के साथ फिल्में की तो उन्हें गीता से प्यार हो गया. कहते हैं फिल्म ‘रंगीन रातें’ की आउटडोर शूटिंग के दौरान ही प्यार के अंकुर फूटे थे. शम्मी ने गीता से शादी करने का प्रपोजल रखा तो वह मानी नहीं लेकिन एक दिन गीता को न जाने क्या सूझा कि शम्मी से कहा कि उन्हें आज ही शादी करनी है. शम्मी के लिए इससे बड़ी खुशी की बात क्या हो सकती थी. हालांकि गीता के इस अचानक फैसले से हैरान होते हुए पूछा कि ऐसा कैसे संभव है तो गीता ने उन्हें बताया कि अगर अभी नहीं तो कभी नहीं. ऐसे मौके को शम्मी कैसे गवां सकते थे. दोनों मंदिर पहुंचें और विधि का विधान देखिए जिस शम्मी कपूर की शादी में शाही इंतजाम होता उनकी शादी में सिंदूर भी नहीं था. ऐसे में गीता बाली का लिपिस्टिक काम और शम्मी ने उनकी मांग भरी.

    गीता बाली के निधन से टूट गए थे शम्मी कपूर

    शम्मी कपूर और गीता बाली की शादीशुदा जिंदगी बेहद प्यार भरी थी. दो बच्चे भी हुए लेकिन ईश्वर को कुछ और ही मंजूर था. शादी के करीब 10 साल बाद बीमारी की वजह से गीता उन्हें अकेला छोड़ दुनिया को अलविदा कह गईं. यहां बताने की जरूरत नहीं कि शम्मी उनके निधन के बाद किस कदर टूट गए. बाद में उनकी हालत देख घरवालों ने नीला देवी से शादी करवा दी.

    ये भी पढ़िए-ऋषि कपूर को थप्पड़ मार-मार जब पद्मिनी कोल्हापुरे ने कर दिए थे उनके गाल लाल! दिलचस्प है वजह

    शम्मी कपूर के जन्म का कहानी

    शम्मी कपूर के जन्म की कहानी भी कुछ कम मुश्किल भरी नहीं थी. पृथ्वीराज कपूर की इकलौती ऐसी संतान थे जो हॉस्पिटल में पैदा हुए थे. उस जमाने में घर में ही दाई की मदद से बच्चे पैदा होते थे. शम्मी के जन्म के समय उनकी मां को स्वास्थ्य संबंधी कुछ दिक्कत थी जिसकी वजह से उनका जन्म हॉस्पिटल में हुआ. पैदा होने के बाद भी उनका खास ख्याल रखा गया था.

    शम्मी कपूर ने ‘जंगली’ और ‘तीसरी मंजि’ल जैसी यादगार फिल्में दी हैं. 2011 में ही रणबीर कपूर संग फिल्म ‘रॉक स्टार’ में नजर आए थें.

    Tags: Death anniversary, Prithviraj, Shammi kapoor

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें