फिल्म 'द ताशकन्द फाइल्स' ने जीता नेशनल अवॉर्ड, निर्माता शरद पटेल ने कुछ यूं बयां की खुशी

द ताशकन्द फाइल्स की सफलता से खुश हैं शरद पटेल.

द ताशकन्द फाइल्स की सफलता से खुश हैं शरद पटेल.

'द ताशकन्द फाइल्स (The Tashkent Files)' को दो श्रेणियों में पुरस्कार मिला है. विवेक अग्निहोत्री (Vivek Agnihotri) को बेस्ट स्क्रीनप्ले और डायलॉग में और पल्लवी जोशी को सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता (महिला) के लिए पुरस्कार मिला. द ताशकन्द फाइल्स विवेक रंजन अग्निहोत्री द्वारा निर्देशित एक राजनीतिक थ्रिलर है.

  • Share this:
नई दिल्लीः 67वां राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार फिल्म निर्माता शरद पटेल के लिए बड़ी खुशी लेकर आया है. शरद पटेल (Sharad Patel) "द ताशकन्द फाइल्स (The Tashkent Files)" को मिले नेशनल अवार्ड्स के बाद बेहद खुश हैं. "द ताशकन्द फाइल्स" फिल्म को प्रतिष्ठित 67 वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में दो अलग-अलग श्रेणियों में पुरस्कार मिले. जिसे लेकर शरद पटेल काफी उत्साहित हैं. फिल्म का निर्माण प्रोडक्शन हाउस एसपी सीनेकॉर्प ने किया है, जिसका नेतृत्व प्रोड्यूसर्स डुओ शरद पटेल और श्रेयांशी पटेल ने किया है. निर्माताओं के पैनल में प्रणय चोकशी, हरेश पटेल और रितेश कुडेचा शामिल हैं.

शरद पटेल ने फिल्म की सफलता पर बात करते हुए कहा- ''यह एक उत्साहपूर्ण भावना है. फिल्म को मिले सम्मान से हम बेहद खुश हैं. हमने क्वांटिटी के ऊपर क्वालिटी को महत्व दिया. जो इस सफलता का मंत्र है.' शरद पटेल को फिल्मों में आने पर मिडास टच और अंतर्ज्ञान के लिए जाना जाता है. ब्लॉकबस्टर "छेलो दिवस" ​​से "बुद्धा इन ए ट्रैफिक जैम" से "द ताशकन्द फाइल्स" और आगामी "विकीडा नो वरघोडो" में, निर्माता के पास अच्छा फिल्म कंटेंट को देख पाने की गहरी नजर है और अनोखी और फ्रेश फिल्में बनाने के लिए दृढ़ विश्वास है जो कि एक बेंचमार्क सेट करता है.

'द ताशकन्द फाइल्स' को दो श्रेणियों में पुरस्कार मिला है. विवेक अग्निहोत्री को बेस्ट स्क्रीनप्ले और डायलॉग में और पल्लवी जोशी को सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता (महिला) के लिए पुरस्कार मिला. द ताशकन्द फाइल्स विवेक रंजन अग्निहोत्री द्वारा निर्देशित एक राजनीतिक थ्रिलर है, जो भारत के द्वितीय प्रधानमंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री की रहस्यमय मृत्यु की परिस्थितियों के इर्द-गिर्द घूमती है.

एसपी सीनेकॉर्प के निर्माता डुओ शरद पटेल और श्रेयांशी पटेल ने कहा, "हम बहुत उत्साहित हैं. हमारी जर्नी में इस महत्वपूर्ण अवसर के बारे में कुछ बोल पाने के लिए हमारे पास कोई शब्द नहीं हैं.'' एक गैर-फिल्मी पृष्ठभूमि से, शरद पटेल भारत में निर्माताओं के युवा वर्ग का हिस्सा हैं, जो फिल्म उद्योग के लिए एक ताजा दृष्टिकोण और अद्वितीय रचनात्मक कौशल लाते हैं. उन्होंने कहा, 'फिल्म बनाने का मेरा तरीका बेहद निजी है. मैं संगीत, पढ़ने और विभिन्न कलाओं से अपने प्यार की प्रेरणा लेता हूं और सिनेमा के प्रकार बनाता हूं, जिसे मैं खुद देखना पसंद करूंगा.''
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज