13 जून को हुई थी सुशांत सिंह राजपूत और रिया चक्रवर्ती की मुलाकात! सिद्धार्थ पिठानी ने बताया सच

सिद्धार्थ पिठानी, सुशांत के फ्लैटमेट थे.
सिद्धार्थ पिठानी, सुशांत के फ्लैटमेट थे.

सुरजीत सिंह राठौर (Surjeet Singh Rathore) के इस दावे पर दिवंगत एक्टर के करीबी दोस्त और फ्लैटमेट सिद्धार्थ पिठानी (Siddharth Pithani) ने सच बताया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 3, 2020, 8:05 AM IST
  • Share this:
मुंबई. सुशांत सिंह राजपूत केस (Sushant Singh Rajput Case) में करणी सेना के नेता सुरजीत सिंह राठौर (Surjeet Singh Rathore) के नए दावे ने तब लोगों को चौंका दिया, जब उन्होंने कहा कि 13 जून की रात को रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) और सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की मुलाकात हुई थी. उन्होंने दावा किया कि रिया, सुशांत के घर पर उनसे मिलने के लिए गई थीं. सुरजीत सिंह राठौर के इस दावे पर दिवंगत एक्टर के करीबी दोस्त और फ्लैटमेट सिद्धार्थ पिठानी (Siddharth Pithani) ने सच बताया है.

सुरजीत सिंह राठौर (Surjeet Singh Rathore) के इन दावों के बाद एक बार फिर से रिया पर सवाल उठाए जाने लगे. इस मामले पर दिवंगत एक्टर के करीबी दोस्त और फ्लैटमेट सिद्धार्थ पिठानी (Siddharth Pithani) ने टाइम्स नाउ को बताया कि ये खबर सरासर गलत और झूठी है. उन्होंने कहा कि 13 जून की रात को सुशांत और रिया नहीं मिले थे.

इस बातचीत में उन्होंने कहा कि 8 जून को घर से जाने के बाद रिया चक्रवर्ती वापस नहीं आईं. इस तरह की खबरों के सिद्धार्थ पिठानी ने गलत बताया.



दरअसल, करणी सेना के नेता सुरजीत सिंह राठौर ने हाल ही में एक निजी टीवी चैनल से बातचीत में ये दावा किया है. सुरजीत से जब ये सवाल किया गया कि सुशांत सिंह राजपूत के निधन के 3.5 महीने बाद वो ये खुलासा क्यों कर रहे हैं? उन्होंने इस बात को अब तक जांच अधिकारियों को क्यों नहीं बताया? इसपर उन्होंने जवाब दिया कि सीबीआई ने उनसे संपर्क नहीं किया. उन्होंने कहा कि इस बात को उन्होंने पहले भी कहा था, लेकिन मीडिया ने उनके इस बयान पर ध्यान ही नहीं दिया.



सुरजीत सिंह राठौर वहीं शख्स हैं, जिन्होंने रिया को कूपर हॉस्पिटल की मॉर्चुरी विजिट करवाने में मदद की थी. उन्होंने बताया था कि सुशांत के चेहरा देखने के बाद रिया ने उनके सीने पर हाथ रखा और कहा था- 'सॉरी बाबू'.

आपको बताते चले कि कई मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, भाजपा नेता और एडवोकेट विवेकानंद गुप्ता ने भी एक चश्मदीद के हवाले से दावा किया था कि सुशांत की मौत से ठीक एक दिन पहले यानी 13 जून को रिया उनसे (सुशांत) मिली थीं. रिया उस रात 2 से 3 बजे के आसपास सुशांत से मिली थीं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज