UP में फिल्म सिटी के लिए सिंगापुर की कंपनी ने की एक करोड़ डॉलर निवेश की पेशकश

यूपी में फिल्म सिटी को लेकर सीएम योगी के साथ सिनेमा जगत के दिग्गजों की बैठक (फाइल फोटो)
यूपी में फिल्म सिटी को लेकर सीएम योगी के साथ सिनेमा जगत के दिग्गजों की बैठक (फाइल फोटो)

यूपी के मुख्यमंत्री ऑफिस के बयान के मुताबिक, सिंगापुर स्थित एक कंपनी विस्टास मीडिया के संदीप सिंह ने एक करोड़ डॉलर (लगभग 73.51 करोड़ रुपये) के शुरुआती निवेश के साथ एक फिल्म अकादमी स्थापित करने की पेशकश की है.

  • भाषा
  • Last Updated: September 23, 2020, 9:47 PM IST
  • Share this:
नोएडा. सिंगापुर की एक मीडिया कंपनी ने उत्तर प्रदेश में प्रस्तावित फिल्म सिटी (Film City) में फिल्म अकादमी स्थापित करने के लिए एक करोड़ डॉलर (लगभग 73.51 करोड़ रुपये) के शुरुआती निवेश की पेशकश की है. एक आधिकारिक बयान में इसकी जानकारी दी गई है.

यमुना एक्सप्रेसवे पर प्रस्तावित है फिल्म सिटी
बयान में कहा गया है कि यह प्रस्ताव नई फिल्म सिटी परियोजना को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ फिल्म निर्माताओं और कलाकारों की मंगलवार को हुई एक बैठक के दौरान सामने आया. यह फिल्म सिटी नोएडा के पास यमुना एक्सप्रेसवे पर 1,000 एकड़ के क्षेत्र में प्रस्तावित है.

मुख्यमंत्री ऑफिस ने बयान में कहा, ''राज्य सरकार की त्वरित कार्रवाई को फिल्म बिरादरी से तुरंत सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली. कला निर्देशक नितिन देसाई ने मुंबई में स्थापित सेट की तर्ज पर एक पूरी फिल्म सिटी स्थापित करने की पेशकश की. उनका मत था कि मुंबई फिल्म उद्योग में लगभग 80 प्रतिशत टेक्नीशियन और वर्कफोर्स उत्तर प्रदेश से है, इसलिए यहां फिल्म सिटी बनने के बाद वर्कफोर्स की उपलब्धता की कभी भी समस्या नहीं होगी.''
बयान के अनुसार, सिंगापुर स्थित एक कंपनी विस्टास मीडिया के संदीप सिंह ने एक करोड़ डॉलर (लगभग 73.51 करोड़ रुपये) के शुरुआती निवेश के साथ एक फिल्म अकादमी स्थापित करने की पेशकश की है.



UP में फिल्म सिटी: सिनेमा जगत की हस्तियों ने किया स्वागत, कहा- योगी हैं तो यकीन है

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात करने के लिए फिल्म बिरादरी के कुछ सदस्य लखनऊ पहुंचे थे, जबकि अनुपम खेर और परेश रावल जैसे दिग्गज कलाकार वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बातचीत में शामिल हुए.

फिल्म निर्माता संघ के अध्यक्ष अशोक पंडित ने राज्य सरकार के फैसले का स्वागत किया और कहा कि हिंदी फिल्मों से परे देखना चाहिए और यहां तक कि बहुभाषी फिल्में भी बनाई जा सकती हैं.

बयान के अनुसार सिंगर उदित नारायण, कैलाश खेर और अनूप जलोटा ने भी निर्णय की सराहना की.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज