लाइव टीवी

शादीशुदा राज बब्बर ने स्मिता पाटिल के लिए छोड़ दिया था घर, ये है पूरी कहानी

News18Hindi
Updated: December 13, 2019, 7:10 AM IST
शादीशुदा राज बब्बर ने स्मिता पाटिल के लिए छोड़ दिया था घर, ये है पूरी कहानी
स्‍मिता पाटिल की आज पुण्यतिथ‌ि है.

स्‍मिता पाटिल (Smita Patil) की जिंदगी को लेकर दो बातें होती हैं, एक उनका अभिनय और दूसरा राज बब्बर (Raj Babbar) की जिंदगी में आना. जानिए क्या इसके पीछे की पूरी कहानी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 13, 2019, 7:10 AM IST
  • Share this:
मुंबई. बॉलीवुड की अभिनेत्री स्मिता पाटिल (Smita Patil) एक ऐसी अदाकारा थी जिन्हें देखकर कभी लगा ही नहीं कि वो अभिनय कर रही हैं. अपने किरदारों में खो जाना उनकी सबसे बड़ी खासियत थी. उनकी मौत के बाद इतना वक्त बीत जाने के बाद कोई स्मिता को आज भी कोई कहां भूल पाया है! अपने सशक्त अभिनय से मिसाल कायम करने वाली स्मिता पाटिल का जन्म 17 अक्टूबर, 1956 को पुणे में एक मराठी राजनीतिज्ञ परिवार में हुआ. उनके पिता शिवाजीराव पाटिल महाराष्ट्र सरकार में मंत्री और मां विद्या ताई पाटिल सामाजिक कार्यकर्ता थीं. स्मिता का नाम रखे जाने के पीछे भी एक दिलचस्प कहानी है. जन्म के समय उनके चेहरे पर स्मिता (मुस्कान) देखकर मां ने उनका नाम स्मिता रख दिया. यही मुस्कान आगे चलकर भी उनके व्यक्तित्व का सबसे आकर्षक पहलू बनी.



स्मिता पाटिल अपने गंभीर अभिनय के लिए जानी जाती हैं, लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि फिल्मी पर्दे पर सहज और गंभीर दिखने वाली स्मिता असल जिंदगी में बहुत शरारती थीं. उनकी आरंभिक शिक्षा मराठी माध्यम के एक स्कूल से हुई थी. उनका कैमरे से पहला सामना टीवी समाचार वाचिका के रूप हुआ था. फिल्मों में आने से पहले स्मिता पाटिल बंबई दूरदर्शन चैनल पर मराठी में समाचार पढ़ा करती थीं. समाचार पढ़ने से पहले उनके लिए साड़ी पहनना जरूरी होता था, मगर स्मिता को तो जींस पहनना अच्छा लगता था, सो अक्सर समाचार पढ़ने से पहले वह जींस के ऊपर ही साड़ी लपेट लिया करती थीं.



एक बार उनकी मुलाकात जाने-माने फिल्म निर्माता श्याम बेनेगल से हुई. श्याम बेनेगल उन दिनों अपनी फिल्म 'चरण दास चोर' बनाने की तैयारी में थे. उन्हें लगा कि स्मिता को काम दिया जा सकता है. दरअसल बेनेगल की आंखों ने पहचान लिया था कि यह आगे चमकने वाला सितारा है. उन्होंने स्मिता को अपनी फिल्म में एक छोटी-सी भूमिका निभाने का अवसर दिया.

दूसरी तरफ राज बब्बर ने इंसाफ के तराजू से अपनी पहचान बनाई थी. निकाह, प्रेमगीत और आज की आवाज में उनके अभिनय की सराहना की गई थी. आज की आवाज में उन्होंने उस समय की बेहतरीन एक्ट्रेस स्मिता पाटिल के साथ काम किया था. फिल्मों के साथ स्मिता राज बब्बर की रियल लाइफ हीरोइन भी बन गईं. उस समय राज शादीशुदा थे और उनके दो बच्चे भी थे. स्मिता की मां ने उनके और राज को रिश्ते को नकार दिया था, लेकिन सबके खिलाफ दोनों ने साथ रहना शुरू कर दिया. इन सबके बावजूद स्मिता के प्यार में राज इस कदर खोए कि उन्हें जमाने की सुध ना रही और दोनों ने 80 के दशक में लिव-इन में रहना शुरू कर दिया. उस वक्त बिना शादी के एक कपल का साथ रहना समाज में बहुत बड़ी बात होती थी.

स्मिता पाटिल एक ऐसी अदाकारा थीं जिनके नाम पर आज फिल्म जगत में अवॉर्ड भी दिए जाते हैं 'स्मिता पाटिल अवॉर्ड'. स्मिता पाटिल फिल्म, टेलीविजन और थिएटर हर जगह अपने अभिनय से लोगों को कायल करती थी. हिन्दी और मराठी अभिनेत्री स्मिता पाटिल को 'पद्म श्री' पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है. उन्हें दो बार बेस्ट एक्ट्रेस का नेशनल फिल्म अवॉर्ड मिला था. इसके अलावा उन्हें 5 बार बेस्ट एक्ट्रेस का फिल्म फेयर अवॉर्ड भी मिला था.


उन्हें 2 बार फिल्म फेयर अवॉर्ड में सपोर्टिंग बेस्ट एक्ट्रेस के लिए सम्मनित किया गया था. स्मिता पाटिल ने 'भूमिका, बाजार, आज की आवाज, अर्थ, मंडी' जैसी बेहतरीन फिल्मों में शानदार अभिनय किया था.


स्मिता चाहती थी कि उन्हें मौत के बाद एक शादीशुदा महिला की तरह सजाया जाए. इस ख्वाहिश को बॉलीवुड अभिनेता अमिताभ बच्चन के मेकअप आर्टिस्ट दीपक सावंत ने पूरा किया था.

जब स्मिता की मौत हो गई तो उनके शव को तीन दिनों तक बर्फ में रखना पड़ा था, क्योंकि उनकी बहन अमेरीका में रहती थीं और उन्हें आने में वक्त लगा. जब स्मिता की शवयात्रा निकली तो उससे पहले दीपक ने ही स्मिता के शव का सुहागन की तरह मेकअप किया था. फ़िल्म मिर्च मसाला उनके निधन के बाद रिलीज़ हुई, लेकिन इस फ़िल्म में निभाये गए सोन बाई के क़िरदार को उनके बेहतरीन काम में से एक माना जाता है.'

यह भी पढ़ेंः रानू मंडल का नाम सुनकर भड़के हिमेश रेशमिया, कही ऐसी बात

उनका निधन बेटे प्रतीक बब्बर को जन्म देने के दो सप्ताह बाद हुआ. वहीं उनकी मौत के बाद कई सवाल खड़े हुए. भारत के सबसे बड़े फिल्म निर्देशकों में से एक, मृणाल सेन का कथित तौर पर कहना है स्मिता पाटिल का निधन इलाज में लापरवाही के कारण हुआ. उनका आकस्मिक निधन आज भी एक रहस्य बना हुआ है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बॉलीवुड से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 13, 2019, 7:10 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर