लाइव टीवी

जींस के ऊपर साड़ी पहनकर TV में न्यूज एंकरिंग करती थीं स्मिता, काली कहते थे लोग

News18Hindi
Updated: December 13, 2019, 7:07 AM IST
जींस के ऊपर साड़ी पहनकर TV में न्यूज एंकरिंग करती थीं स्मिता, काली कहते थे लोग
स्मिता पाटिल की आज पुण्यतिथि है.

स्मिता पाटिल (Smita Patil) को हिन्दी सिनेमा में किस तरह याद करना चाहिए. एक लड़की जिसे सब काली कहते थे कैसे उसने हिन्दी सिनेमा का रुख बदल दिया. जानिए-

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 13, 2019, 7:07 AM IST
  • Share this:
13 दिसंबर 1986, 31 साल की छोटी-सी उम्र में सिनेमा की दुनिया का एक सांवला-सलौना रोशन चेहरा अलविदा कह गया था. अपने पीछे एक दो हफ्ते के बच्चे और अगले सौ सालों तक के सिनेमा की धरोहर को मजबूत करने वाली फिल्में छोड़कर. ये खबर सदमा ही थी. फिल्मकार गुरुदत्त की मौत के बाद सिनेमा के लिए ये ऐसा दूसरा सदमा था, जिसके बारे में किसी ने सोचा नहीं था. आज स्मिता पाटिल (Smita Patil) जिंदा होतीं तो हिन्दी सिनेमा में कुछ और नये अध्याय लिखे जा चुके होते.

स्मिता नहीं काली कहकर बुलाते थे लोग
चेहरा देखो, तो ऐसा लगे, जैसे आंखों से ही हजारों अहसास बयां हो रहे हों. लेकिन लोग देखते थे चेहरे का रंग. बुलाते थे-काली. स्मिता को इन बातों से कोई फर्क नहीं पड़ता था. स्मिता का मतलब ही था हमेशा मुस्कुराता हुआ चेहरा. वो हमेशा मुस्कुराती रहती थीं. पुणे में एक राजनैतिक परिवार में उनका जन्म हुआ. कॉलेज के दिनों में परिवार मुंबई शिफ्ट हो गया. एक दूरदर्शन डायरेक्टर ने उनकी तस्वीरें देखीं. उन्हें मराठी न्यूजरीडर की नौकरी दी. स्मिता ने भी खुशी से ये नौकरी कर ली. लेकिन तब उन्हें काली कहे जाने का डर इस कदर सताता था कि पहले जींस पहनने के बाद ऊपर साड़ी पहनती थीं.

जींस पर पहनती थीं साड़ी

जिस तरह स्मिता ये न्यूज शो होस्ट करती थीं, वो भी कम गुदगुदाने वाला नहीं था. न्यूज शो ऑन एयर होने से कुछ ही मिनट पहले स्मिता जींस पर फटाफट साड़ी बांध लेती थीं. इसे देखकर सब हैरान होते थे, लेकिन खास बात थी उनका न्यूज पढ़ने का अंदाज. जिस तरह उन्होंने न्यूज पढ़ी, उसने कई लोगों का दिल जीता. विनोद खन्ना उनका न्यूज बुलेटिन देखने के लिए अक्सर काम से जल्दी लौट आते थे. इस न्यूज बुलेटिन से ही उन्हें फिल्मों के ऑफर मिले. फिल्ममेकर श्याम बेनेगल ने उन्हें फिल्म 'चरणदास चोर' में कास्ट किया.

स्मिता पाटिल

सपने में पहले ही देख लिया था अमिताभ का एक्सीडेंटअमिताभ बच्चन उनके बारे में एक घटना का जिक्र करते हैं. कहते हैं, स्मिता भविष्य देख सकती थीं. वह बेंगलुरु में 'कुली' फिल्म की शूटिंग कर रहे थे. देर रात होटल में कॉल आई. वह नींद से उठे. स्मिता ने चिंता भरी आवाज में पूछा, क्या वो ठीक हैं. स्मिता ने आगे कहा, 'मैने सपने में देखा कि आपको चोट लगी है, आप ठीक तो हैं.' अमिताभ ने उन्हें आश्वस्त किया कि वो बिल्कुल ठीक हैं. अगले ही दिन अमिताभ बुरी तरह घायल हो गए. स्मिता हर दिन उन्हें अस्पताल में मिलने आती थीं. अमिताभ कहते हैं वह बेहद डाउन टू अर्थ और केयरिंग थीं.

पहले अवॉर्ड के सारे पैसे दान कर दिए
21 साल की उम्र में उन्हें 'भूमिका' फिल्म में अपनी दमदार अदाकारी के लिए पहला नेशनल अवॉर्ड मिला. आज भी उनकी फिल्मों में निभाए किरदार फिल्म फेस्टिवल्स में चर्चा का विषय बनते हैं. भूमिका, मंथन, आक्रोश, चक्र, चिदंबरम, मिर्च मसाला जैसी कई आर्ट फिल्मों से उन्होंने अपनी अहम जगह बनाई.

स्मिता पाटिल

फिर नमक हलाल, दिल-ए-नादान, शक्ति जैसी कमर्शियल फिल्मों में उनकी एक्टिंग की तारीफ हुई. 11 साल के करियर में उन्होंने वो कर दिया, जो सोचा नहीं जा सकता. हालांकि ये कहना अतिश्योक्ति होगी कि 31 साल में उन्होंने पूरी जिंदगी जी ली. वो मां बनने के अहसास को ही नहीं, उस पूरे वक्त को जीना चाहती थीं, लेकिन मां बनने के दो हफ्ते बाद ही उनकी मौत हो गई.

तूफान लेकर आया प्यार और उन्हें बहा ले गया
महेश भट्ट की फिल्म 'अर्थ' में उन्हें एक शादीशुदा आदमी से प्यार हो जाता है. वो उसी के साथ शादी करना चाहती हैं. इस फिल्म की कहानी असल जिंदगी में भी उन पर लागू हो गई. उन्हें राज बब्बर से प्यार हो गया, जो शादीशुदा थे और दो बच्चों के पिता भी. राज से पहली मुलाकात के बारे में स्मिता ने बताया था, 'भीगी पलकें' के सेट पर राज और स्मिता पहली बार मिले थे. तब राज ने उनसे कहा था, उनका चेहरा किसी खोई हुई पुरानी दुनिया सा दिखता है.

स्मिता को ही नहीं राज को भी उनसे बेतरह प्यार हुआ. राज ने पत्नी नादिरा को तलाक देकर स्मिता से शादी कर ली. इस प्यार और शादी के बाद स्मिता की जो छवि थी, वो एक पल में खराब हो गई. परिवार ने उनका साथ छोड़ा. मीडिया और समाज ने उन्हें दूसरी औरत और होमब्रेकर कहना शुरू कर दिया. इन सब बातों का उन पर गहरा असर हुआ. स्मिता और राज ने तजुर्बा, भीगी पलकें, अवाम, आज की आवाज, हम दो हमारे दो जैसी कई फिल्मों में साथ काम किया. लेकिन शादी के बाद जैसे स्मिता की जिंदगी में एक के बाद एक तूफान आते गए. फिर एक तूफान ऐसा भी आया, जो उन्हें अपने साथ ले गया.

ये भी पढ़ें: ऐलान से पहले अवॉर्ड लेकर चुपचाप पीछे के दरवाजे से जा रही थीं आलिया भट्ट, वीडियो

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बॉलीवुड से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 13, 2019, 7:03 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर